कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन तेज, इंडिया गेट पर ट्रैक्टर जलाकर जताया विरोध

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने शहीद भगत सिंह के पैतृक गांव में कृषि कानूनों के खिलाफ धरना शुरू कर दिया है

किसान आंदोलन: पूरे हुए 4 महीने, क्या हुआ हासिल?

कृषि क़ानूनों का विरोध और MSP की गारंटी की माँग को लेकर देश भर में संयुक्त किसान मोर्चा ने आंदोलन के 120...

किसान महापंचायत की गूंज, दक्षिण भारत में भी

किसान महापंचायत की गूंज दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में भी सुनाई दी, BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत समेत दूसरे किसान...

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर से किसानों का फूटा ग़ुस्सा

किसान आंदोलन को लगभग 4 महीने होने को आए, किसान सरकार की बेरुख़ी और उनकी माँग अनसुनी करने को लेकर काफ़ी ख़फ़ा...

किसान आंदोलन: राजनीति या आजीविका की लड़ाई?

किसान आंदोलन देश के अलग अलग राज्यों में बढ़ता जा रहा है, जिन ५ राज्यों में चुनाव है वहाँ केंद्र में सत्ताधारी...

कृषि आंदोलन: क्या है किसानों का मूड?

कृषि आंदोलन को 115 दिन होने को आए, इस बीच ये आंदोलन पंजाब-हरियाणा- उत्तर प्रदेश-राजस्थान-मध्य प्रदेश के बाद अब उन राज्यों में...

संसद से पारित तीनों कृषि विधेयक राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की मंजूरी के बाद कानून बन चुके हैं. इससे नाराज किसानों और राजनीतिक दलों ने देश भर में प्रदर्शन तेज कर दिया है. सोमवार को पंजाब यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ता इंडिया गेट पर जमा हुए और एक ट्रैक्टर को आग के हवाले करके प्रदर्शन किया. यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने जमकर नारेबाजी भी की. अपने ट्विटर हैंडल पर तस्वीरें शेयर करते हुए यूथ कांग्रेस ने लिखा, ‘देश हमारे किसानों के खून-पसीने पर निर्भर है. अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई से लेकर देश का पेट भरने तक हमारे किसान देश के रीढ़ की हड्डी रहे हैं. शहीद भगत सिंह की जयंती पर युवा कांगेस ने सरकार किसान विरोधी विधेयकों के खिलाफ ट्रैक्टर को आग के हवाले करके प्रदर्शन किया.’

पुलिस ने इस मामले में अब तक पांच लोगों को हिरासत में लिया है, जो पंजाब के रहने वाले हैं. उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की बात कही है. वहीं, यूथ कांग्रेस के प्रदर्शन के तरीके पर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने सवाल उठाया है. ट्विटर पर उन्होंने लिखा, ‘ट्रक में ट्रैक्टर लादकर प्रदर्शन-निषिद्ध क्षेत्र में लाकर आग लगा देना, कांग्रेस कार्यकर्ता किसानों को क्या संदेश दे रहे हैं? भगत सिंह ने देश की आजादी के लिए जान दी, ये किसानों की आजादी के विरोध में हिंसा कर रहे हैं। ये किसान और भगत सिंह, दोनों का अपमान है.’

इस बीच पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंद सिंह ने तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ शहीद भगत सिंह के पैतृक गांव खटकर कलां में धरना शुरू कर दिया है. उनके साथ दूसरे मंत्री भी शामिल हैं. ट्विटर पर उन्होंने लिखा, ‘शहीद-ए-आजम भगत सिंह के जन्मस्थान पर अपने कैबिनेट सहयोगियों और विधायकों के साथ केंद्र के किसान विरोधी विधेयकों के खिलाफ धरना.’ इसमें उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने भी शामिल हुए.

https://twitter.com/capt_amarinder/status/1310451908348239873?s=20

वहीं, उत्तर प्रदेश में कृषि कानूनों के खिलाफ सड़क पर उतरी कांग्रेस ने प्रदेश सरकार पर 1000 से ज्यादा नेताओं और कार्यकर्ताओं को नजरबंद किए जाने का आरोप लगाया है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पीएल पुनिया ने ट्विटर पर लिखा, ‘संसद में तानाशाही दिखाकर अलोकतांत्रिक तरीके से काले कानूनों को पास कराने वाली भाजपा, सड़कों पर किसानों का सामना करने से क्यों भाग रही है ? उत्तर प्रदेश में किसान विरोधी कानून के खिलाफ उठ रही आवाज और आंदोलन को पुलिस के दम पर दबाने का प्रयास तो कायरता है.’

किसानों के तीखे विरोध के बावजूद 27 सितंबर को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने संसद से पारित किसान उत्पाद व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) विधेयक-2020, किसान (सशक्तिकरण और संरक्षण) मूल्य आश्वासन व कृषि सेवा समझौता विधेयक-2020 और आवश्यक वस्तु (संशोधन) विधेयक-2020 को मंजूरी दे दी.

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

किसान महापंचायत की गूंज, दक्षिण भारत में भी

किसान महापंचायत की गूंज दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में भी सुनाई दी, BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत समेत दूसरे किसान...

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर से किसानों का फूटा ग़ुस्सा

किसान आंदोलन को लगभग 4 महीने होने को आए, किसान सरकार की बेरुख़ी और उनकी माँग अनसुनी करने को लेकर काफ़ी ख़फ़ा...

किसान आंदोलन: राजनीति या आजीविका की लड़ाई?

किसान आंदोलन देश के अलग अलग राज्यों में बढ़ता जा रहा है, जिन ५ राज्यों में चुनाव है वहाँ केंद्र में सत्ताधारी...