यूपी में एमएसपी पर धान खरीद न होने से परेशान किसान, कांग्रेस ने उठाए आदित्यनाथ सरकार पर सवाल

भाजपा सरकार किसानों का हक मारने वाले बिलों पर सरकारी खाट सम्मेलन तो कर रही है लेकिन किसानों का दर्द नहीं सुन रही - प्रियंका गांधी

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...

किसान क्यूँ कर रहे हैं साइलोज़ का बहिष्कार?

हरियाणा हो या पंजाब, किसान अडानी के Silos में अपनी फसल देने से इंकार कर रहे हैं, हालाँकि Adani Agro Logistics का...

हरियाणा में फसल ख़रीदी को लेकर किसानों के अनुभव

हरियाणा में 1 April 2021 से गेहूँ की ख़रीदी शुरू हो गयी है लेकिन किसान मंडी में बारदाने की कमी से लेकर...

कांग्रेस महाचसचिव प्रिंयका गांधी ने उत्तर प्रदेश की आदित्यनाथ सरकार पर धान खरीद को लेकर तीखा हमला बोला है। प्रियंका गांधी ने प्रदेश में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान खरीद न होने को लेकर सवाल उठाया। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘भाजपा सरकार किसानों का हक मारने वाले बिलों पर सरकारी खाट सम्मेलन तो कर रही है लेकिन किसानों का दर्द नहीं सुन रही। यूपी में लगभग सभी जगहों पर किसान अपना धान 1868 रू/क्विंटल एमएसपी से 800 रू कम 1000-1100रू/क्विंटल पर बेंचने को मजबूर हैं। ऐसा तब है जब एमएसपी की गारंटी है। सोचिए जब एमएसपी की गारंटी खत्म हो जाएगी तब क्या होगा?’

प्रियंका गाधी के इस ट्वीट में बलिया का एक किसान मोहम्मदी खीरी की मंडी में एमएसपी पर धान खरीद न होने की शिकायत कर रहा है। किसान मंडी कर्मचारियों पर धान की गुणवत्ता को लेकर परेशान करने का आरोप लगाता हुआ नजर आ रहा है।  

यूपी में आदित्यनाथ सरकार ने खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में 55 लाख टन धान खरीदने का लक्ष्य रखा है। इसके लिए 4000 खरीद केंद्र बनाने का दावा किया है। लेकिन राज्य के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग के मुताबिक राज्य में अब तक 3342 केंद्रों पर ही खरीद रही है। यानी अब भी 658 केंद्रों पर खरीद नहीं हो रही है। अगर धान धान खरीद की बात करें तो राज्य में 21 अक्टूबर 2020 तक 165880 टन धान खरीद हो पाई है।

राज्य में धान खरीद की सुस्त रप्तार और खरीद केंद्रों पर कर्मचारियों की मनमानी से किसान परेशान हैं। गुणवत्ता से लेकर कर्मचारियों की मनमानी के चलते किसानों को ‘ए’ ग्रेड धान 1000-1200 रुपये प्रति क्विंटल के भाव पर खुले बाजार में बेचना पड़ रहा है, जबकि इसके के लिए 1,888 रुपये प्रति क्विंटल न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) घोषित है।

यूूपी के मुकाबले पंजाब और हरियाणा में धान खरीद की रफ्तार काफी तेज रही है. भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) के मुताबिक, 19 अक्टूबर तक पंजाब 57.07 लाख टन और हरियाणा 29.17 लाख टन धान की खरीद कर चुके हैं। वहीं, तमिलनाडु़ ने इस तारीख तक सवा दो लाख टन धान की सरकारी खरीद की है।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...