यूपी में एमएसपी पर धान खरीद न होने से परेशान किसान, कांग्रेस ने उठाए आदित्यनाथ सरकार पर सवाल

भाजपा सरकार किसानों का हक मारने वाले बिलों पर सरकारी खाट सम्मेलन तो कर रही है लेकिन किसानों का दर्द नहीं सुन रही - प्रियंका गांधी

‘पगड़ी संभाल दिवस’ पर किसानों के मन की बात

भारत भूमि बचाओ संघर्ष समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष रमेश दलाल से हिंद किसान की ख़ास बातचीत।1907 में ब्रिटिश हुकूमत से किसानों की...

आने वाले दिनो में कैसा होगा किसान आंदोलन का स्वरूप?

किसान शक्ति संघ के अध्यक्ष चौधरी पुष्पेंद्र सिंह से हिंद किसान की ख़ास बातचीत। कृषि क़ानून के विरोध में किसान आंदोलन को...

क्या है MNREGA से जुड़े factual डिटेल्ज़?

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने १२ फ़रवरी को राज्यसभा में बजट पर जवाब देते हुए मनरेगा के बजट में की गयी कटौती...

‘अन्नदाता का इमोशनल कार्ड ना खेलें’ क्या है इसका सीधा जवाब!

कृषि नीति एक्स्पर्ट #DevinderSharma​ से ख़ास बातचीत, ज़रूर सुनें और समझ बनाएँ। ‘अन्नदाता का इमोशनल कार्ड मत खेलिए’ किसान फसल उगाता है...

फ़सल की MSP की गारंटी पर बात कैसे बने?

राहुल गांधी ने सदन में ११ फ़रवरी को कृषि क़ानून को लेकर सरकार के content और इंटेंट पर जवाब देते हुए तीखा...

कांग्रेस महाचसचिव प्रिंयका गांधी ने उत्तर प्रदेश की आदित्यनाथ सरकार पर धान खरीद को लेकर तीखा हमला बोला है। प्रियंका गांधी ने प्रदेश में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान खरीद न होने को लेकर सवाल उठाया। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘भाजपा सरकार किसानों का हक मारने वाले बिलों पर सरकारी खाट सम्मेलन तो कर रही है लेकिन किसानों का दर्द नहीं सुन रही। यूपी में लगभग सभी जगहों पर किसान अपना धान 1868 रू/क्विंटल एमएसपी से 800 रू कम 1000-1100रू/क्विंटल पर बेंचने को मजबूर हैं। ऐसा तब है जब एमएसपी की गारंटी है। सोचिए जब एमएसपी की गारंटी खत्म हो जाएगी तब क्या होगा?’

प्रियंका गाधी के इस ट्वीट में बलिया का एक किसान मोहम्मदी खीरी की मंडी में एमएसपी पर धान खरीद न होने की शिकायत कर रहा है। किसान मंडी कर्मचारियों पर धान की गुणवत्ता को लेकर परेशान करने का आरोप लगाता हुआ नजर आ रहा है।  

यूपी में आदित्यनाथ सरकार ने खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में 55 लाख टन धान खरीदने का लक्ष्य रखा है। इसके लिए 4000 खरीद केंद्र बनाने का दावा किया है। लेकिन राज्य के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग के मुताबिक राज्य में अब तक 3342 केंद्रों पर ही खरीद रही है। यानी अब भी 658 केंद्रों पर खरीद नहीं हो रही है। अगर धान धान खरीद की बात करें तो राज्य में 21 अक्टूबर 2020 तक 165880 टन धान खरीद हो पाई है।

राज्य में धान खरीद की सुस्त रप्तार और खरीद केंद्रों पर कर्मचारियों की मनमानी से किसान परेशान हैं। गुणवत्ता से लेकर कर्मचारियों की मनमानी के चलते किसानों को ‘ए’ ग्रेड धान 1000-1200 रुपये प्रति क्विंटल के भाव पर खुले बाजार में बेचना पड़ रहा है, जबकि इसके के लिए 1,888 रुपये प्रति क्विंटल न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) घोषित है।

यूूपी के मुकाबले पंजाब और हरियाणा में धान खरीद की रफ्तार काफी तेज रही है. भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) के मुताबिक, 19 अक्टूबर तक पंजाब 57.07 लाख टन और हरियाणा 29.17 लाख टन धान की खरीद कर चुके हैं। वहीं, तमिलनाडु़ ने इस तारीख तक सवा दो लाख टन धान की सरकारी खरीद की है।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

‘पगड़ी संभाल दिवस’ पर किसानों के मन की बात

भारत भूमि बचाओ संघर्ष समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष रमेश दलाल से हिंद किसान की ख़ास बातचीत।1907 में ब्रिटिश हुकूमत से किसानों की...

आने वाले दिनो में कैसा होगा किसान आंदोलन का स्वरूप?

किसान शक्ति संघ के अध्यक्ष चौधरी पुष्पेंद्र सिंह से हिंद किसान की ख़ास बातचीत। कृषि क़ानून के विरोध में किसान आंदोलन को...

क्या है MNREGA से जुड़े factual डिटेल्ज़?

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने १२ फ़रवरी को राज्यसभा में बजट पर जवाब देते हुए मनरेगा के बजट में की गयी कटौती...