‘अंबानी और अडानी के लिए जमीन साफ करने का हथियार हैं ये तीन कानून’

पंजाब में कांग्रेस की किसान बचाओ यात्रा के दूसरे दिन राहुल गांधी ने एक बार फिर केंद्र सरकार पर जबरदस्त हमला बोला।

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...

किसान क्यूँ कर रहे हैं साइलोज़ का बहिष्कार?

हरियाणा हो या पंजाब, किसान अडानी के Silos में अपनी फसल देने से इंकार कर रहे हैं, हालाँकि Adani Agro Logistics का...

हरियाणा में फसल ख़रीदी को लेकर किसानों के अनुभव

हरियाणा में 1 April 2021 से गेहूँ की ख़रीदी शुरू हो गयी है लेकिन किसान मंडी में बारदाने की कमी से लेकर...

पंजाब में कांग्रेस की किसान बचाओ यात्रा के दूसरे दिन राहुल गांधी ने एक बार फिर केंद्र सरकार पर जबरदस्त हमला बोला। खेती से जुड़े कानूनों के खिलाफ कांग्रेस पंजाब के संगरूर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर कई गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार की सारी नीतियों सिर्फ 3-4 दोस्तों के लिए बनाई जा रही हैं।  

उन्होंने कहा कि, ‘इन कानूनों से सिर्फ किसानों- मजदूरों को ही नुकसान नहीं होगा। इससे पूरे देश को नुकसान होने जा रहा है। राहुल गांधी ने कहा कि ये तीन कानून हिंदुस्तान की आजादी छीनने वाले कानून हैं। इसीलिए कांग्रेस पार्टी पीछे नहीं हटने वाली।’

पीएम मोदी पर तीखा हमला बोलते हुए राहुल गांधी ने कहा कि पीएम मोदी अंबानी और अडानी के लिए रास्ता साफ करते हैं और वे लोग नरेंद्र मोदी जी के लिए विज्ञापन करते हैं। उन्होंने कहा, ‘अंबानी और अडानी के लिए जमीन साफ करने का हथियार हैं ये तीन कानून’।
राहुल गांधी लगातार केंद्र सरकार की तुलना अंग्रेजी हुकुमत से कर रहे हैं। संगरूर में उन्होंने कहा कि जिस तरह अंग्रेजों ने हमारे भोजन पर कब्जा करके देश को गुलाम बनाया वही काम केंद्र सरकार कर रही है। राहुल गांधी ने कहा, ‘जो लोग सोचते हैं कि इससे सिर्फ किसान और मजदूर को ही नुकसान होगा, उन्हें देश के भोजन के सिस्टम की समझ नहीं है। जैसे ही अंबानी- अडानी ने हिंदुस्तान के कृषि सिस्टम को पकड़ लिया वैसे ही हर परिवार को भोजन के लिए दोगुना-तीनगुना दाम देना पड़ेगा।’
कोरोना और लॉकडाउन के बीच खेती से जुड़े अध्यादेश लाने पर भी उन्होंने सवाल उठाए। राहुल गांधी ने कहा कि तीन कानून कोरोना के समय लाने की जल्दबाजी इसलिए थी क्योंकि सरकार को लगा कि कोरोना में किसान मजदूर सड़क पर नहीं उतर पाएंगे। 
राहुल गांधी ने कहा, ‘हिंदुस्तान के किसान की शक्ति, मजदूर की शक्ति हम आपको समझाने जा रहे हैं। किसान मजदूर सब सड़क पर आएंगे आपकी सरकार से लड़ेंगे और इन कानूनों को रद्द करके दिखाएंगे।’
किसान लगातार आरोप लगा रहे हैं कि इन कानूनों से मंडीयां निष्प्रभावी हो जाएंगी। इस मुद्दे पर राहुल गांधी ने कहा कि मंडियों में लाखों लोग काम करते हैं ये सब बेराजगार हो जाएंगे। मंडी में दिक्कत होने पर है किसान अपनी बात रख सकता है। लेकिन अब किसान को अडानी और अंबानी के पास जाने का ही विकल्प होगा। 
राहुल गांधी ने एक बार फिर कहा कि हम सब मानते हैं कि मंडी सिस्टम में सुधार की जरूरत है, एमएसपी की गारंटी देने की जरूरत है। लेकिन पीएम मोदी इस सिस्टम को ही खत्म कर रहे हैं। जिससे किसानों और पूरे देश को बड़ा नुकसान होने वाला है। 

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...