पंजाब विधान सभा के विशेष सत्र का पहला दिन हंगामे में गुजरा, अब मंगलवार पर टिकी निगाहें

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...

किसान क्यूँ कर रहे हैं साइलोज़ का बहिष्कार?

हरियाणा हो या पंजाब, किसान अडानी के Silos में अपनी फसल देने से इंकार कर रहे हैं, हालाँकि Adani Agro Logistics का...

हरियाणा में फसल ख़रीदी को लेकर किसानों के अनुभव

हरियाणा में 1 April 2021 से गेहूँ की ख़रीदी शुरू हो गयी है लेकिन किसान मंडी में बारदाने की कमी से लेकर...

पंजाब में कृषि कानूनों का सड़क से लेकर विधानसभा तक विरोध जारी है। कैप्टन अमरिंदर सिंह सरकार ने इन कृषि कानूनों को राज्य में प्रभावहीन बनाने के कानूनी उपाय करने के लिए विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया है। सोमवार को इसी विशेष सत्र का पहला दिन था। पहले यह सत्र केवल एक दिन के लिए बुलाने का फैसला किया गया था, लेकिन रविवार को दो दिन कर दिया गया। इस विशेष सत्र के पहले दिन सबसे पहले कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान किसानों के निधन पर मौन रखकर उन्हें श्रद्धांजलि दी गई।

हालांकि, पहले दिन सदन के भीतर और बाहर शिरोमणी अकाली दल ने पंजाब सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। अकाली दल ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पर आरोप लगाया कि पंजाब सरकार ने तीनों कृषि कानून के खिलाफ केंद्र सरकार को कोई प्रस्‍ताव नहीं भेजा है और वो केंद्र के साथ मिलकर एक फिक्‍स मैच खेल रही है।

वहीं, आम आदमी पार्टी के विधायकों ने भी काले कपड़े पहनकर पंजाब सरकार का विरोध किया। विधायकों ने विधानसभा के बाहर केंद्र के कृषि कानूनों की प्रतियों को फाड़कर भी विरोध जताया। आम आदमी पार्टी के विधायकों ने विधानसभा के अंदर भी प्रदर्शन किया। उन्होंने पंजाब सरकार पर केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पारित प्रस्ताव की प्रति न दिखाने का आरोप लगाया। आप विधायकों ने इस प्रस्ताव की कॉपी न मिलने तक विधानसभा के भीतर धरने पर बैठने का भी ऐलान कर दिया।

हालांकि, सत्र शुरू होने से पहले मुख्‍यमंत्री अमरिंदर सिंह ने ट्विटर पर लिखा, ‘आज से शुरू हो रहे इस महत्वपूर्ण विशेष सत्र के लिए मैं विधानसभा पहुंच गया हूं। हम केंद्र के किसान विरोधी कानूनों से पंजाब की खेती को बचाने और अपने हितों की रक्षा के मुद्दों पर चर्चा करने के लिए मिल रहे हैं।’

पंजाब में किसानों के मुखर विरोध की वजह से राज्य सरकार को विधानसभा का विशेष सत्र बुलाना पड़ा है। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह लगातार यह बात कहते रहे हैं कि केंद्र के कृषि कानूनों से राज्य के किसानों और खेती को बचाने के लिए सभी कानूनी और संवैधानिक उपायों को अपनाया जाएगा। पार्टी के विधायक दल की बैठक में उन्होंने यह भी कहा था, ‘कांग्रेस के लिए यह लड़ाई राजनीति मुद्दा नहीं है, बल्कि पंजाब की कृषि और किसानों को बचाने का प्रयास है। इसको लेकर जो भी फैसला होगा, वह किसानों के हितों को ध्यान में रखते हुए ही लिया जाएगा।’

पंजाब में किसानों का आंदोलन लगातार जारी है। 14 अक्टूबर को केंद्र के कृषि मंत्रालय ने आंदोलनरत किसान संगठनों को बातचीत के लिए दिल्ली बुलाया था, लेकिन किसानों ने इसका बहिष्कार कर दिया था। किसान केंद्र सरकार से तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने और फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की गारंटी देने वाला कानून बनाने की मांग कर रहे हैं। हालांकि, केंद्र सरकार लगातार दावा कर रही है कि नए कृषि कानूनों से किसानों को कोई नुकसान नहीं होगा, बल्कि ‘एक देश-एक बाजार’ बनने से उन्हें फायदा ही होगा। लेकिन किसान इस पर भरोसा करते नहीं दिखाई दे रहे हैं।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...