सिरसा: योगेंद्र यादव समेत कई किसान हिरासत में

हिरासत में लिए जाने के बाद स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने पक्का मोर्चा जारी रखने के लिए किसानों से इसमें शामिल होने की अपील की है।

क्यों रुला रहा प्याज़?

प्याज़ के दाम एक बार फिर आसमान छू रहे हैं. सरकार को प्याज़ के स्टॉक लिमिट तय करने से लेकर आयात तक...

हरियाणा में बाजरा खरीद में तेजी लाएगी सरकार, योगेंद्र यादव बोले रंग लाई कोशिश

किसान आंदोलन के बीच हरियाणा में बाजरा किसानों को तमाम मुश्किलों का सामना करना पड़ा रहा है। कहीं खरीद में देरी तो...

प्याज की कीमतों में उछाल जारी, केंद्र सरकार ने तय की स्टॉक लिमिट

देश में प्याज की कीमतें एक बार फिर आसमान छू रही हैं। खुदरा बाजार में प्याज की कीमत 70 से 90 रुपये...

बिहार चुनाव: क्या केंद्र में हैं किसान ?

बिहार में विधान सभा चुनाव की सरगर्मी के बीच किसान के मुद्दे कितने हावी हैं, कृषि क़ानून को लेकर क्या राय है,...

केंद्रीय कृषि कानून और पंजाब के कृषि विधेयकों में क्या है अंतर, समझिए कुछ प्वाइंट्स में

केंद्र सरकार के कृषि कानून के खिलाफ पंजाब विधान सभा के विशेष सत्र में कुल चार विधेयक पारित किए गए। मुख्यमंत्री कैप्टन...

हरियाणा के सिरसा में बेमियादी धरना दे रहे किसानों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। इसमें स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव भी शामिल हैं, जिन्होंने एक ट्वीट के जरिए इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा, ‘पंजाब से जो चिंगारी चली है वो अब निश्चित हरियाणा पहुंच गई है। कल हजारों किसानों ने दुष्यंत चौटाला के घर की तरफ मार्च किया, सिर्फ यह कहते हुए कि कुर्सी या किसान, तुम दोनों में एक को चुन लो, पक्के मोर्चे का ऐलान किया। पुलिस ने बैरिकेड्स लगाकर चौक पर रोक दिया। किसानों ने कहा कि हम हिंसा नहीं करेंगे, और वहीं पर धरने पर बैठ गए। रात भर वहीं बैठे रहे, मैं भी किसानों के साथ था।’ योगेंद्र यादव ने आगे कहा, ‘आज सुबह पुलिस ने हमला करके धरना तोड़ दिया और हमें हिरासत में ले लिया…हमारा संदेश और हमारा संकल्प स्पष्ट है कि ये पक्के मोर्चे का ऐलान है, मोर्चा चलता रहेगा, सिरसा और हरियाणा के बाकी किसानों से अपील है कि आप भी उसी चौक पर आओ, वहीं पर धरना जारी रखो…जिसे कहते हैं- दम है कितना दमन में तेरे, देख लिया है देखेंगे, जगह है कितनी जेल में तेरे देख लिया है देखेंगे।’

एक दूसरे ट्ववीट में योगेंद्र यादव ने बताया कि उनके साथ लगभग 100 किसानों को हिरासत में लिया गया है। सभी को सिरसा के सदर थाने में लाया गया है। उन्होंने आरोप लगाया कि हरियाणा सरकार किसानों के सवालों से परेशान है और असहमतियों को दबाने के लिए क्रूरतापूर्ण तरीकों का सहारा ले रही है।

दरअसल, केंद्र के तीनों कृषि कानूनों को लेकर हरियाणा में किसान उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं। इसको लेकर मंगलवार को सिरसा के दशहरा मैदान में बड़ा धरना भी दिया था। इसके बाद किसान दुष्यंत चौटाला के घर का घेराव करने जा रहे थे। लेकिन पुलिस ने रास्ते में उन्हें रोक लिया। किसानों ने जब आगे बढ़ने की कोशिश की तो पुलिस ने उन पर वॉटर कैनन और आंसू गैस के गोलों को इस्तेमाल किया। इससे नाराज किसानों ने भुम्मणशाह चौक पर ही बेमियादी धरना शुरू कर दिया है। मंगलवार को हरियाणा के 17 किसान संगठन शामिल थे।

वहीं दुष्यंत चौटाला किसानों के प्रदर्शन से पहले चंडीगढ़ रवाना हो गए। जहां से उन्होंने खुद के कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी दी।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

क्यों रुला रहा प्याज़?

प्याज़ के दाम एक बार फिर आसमान छू रहे हैं. सरकार को प्याज़ के स्टॉक लिमिट तय करने से लेकर आयात तक...

हरियाणा में बाजरा खरीद में तेजी लाएगी सरकार, योगेंद्र यादव बोले रंग लाई कोशिश

किसान आंदोलन के बीच हरियाणा में बाजरा किसानों को तमाम मुश्किलों का सामना करना पड़ा रहा है। कहीं खरीद में देरी तो...

प्याज की कीमतों में उछाल जारी, केंद्र सरकार ने तय की स्टॉक लिमिट

देश में प्याज की कीमतें एक बार फिर आसमान छू रही हैं। खुदरा बाजार में प्याज की कीमत 70 से 90 रुपये...