9 घंटे बाद रिहा हुए किसान नेता, आंदोलन जारी रखने का ऐलान

बुधवार सुबह योगेंद्र यादव समेत करीब 100 किसान नेताओं को हिरासत में लिया गया था। जिसके बाद हरियाणा में कई जगह किसानों ने चक्का जाम कर दिया। हिरासत के करीब 9 घंटे बाद पुलिस ने सभी किसानों को बिना शर्त रिहा कर दिया है। इसके साथ ही किसानों ने आंदोलन जारी रखने का ऐलान किया है।

क्यों रुला रहा प्याज़?

प्याज़ के दाम एक बार फिर आसमान छू रहे हैं. सरकार को प्याज़ के स्टॉक लिमिट तय करने से लेकर आयात तक...

हरियाणा में बाजरा खरीद में तेजी लाएगी सरकार, योगेंद्र यादव बोले रंग लाई कोशिश

किसान आंदोलन के बीच हरियाणा में बाजरा किसानों को तमाम मुश्किलों का सामना करना पड़ा रहा है। कहीं खरीद में देरी तो...

प्याज की कीमतों में उछाल जारी, केंद्र सरकार ने तय की स्टॉक लिमिट

देश में प्याज की कीमतें एक बार फिर आसमान छू रही हैं। खुदरा बाजार में प्याज की कीमत 70 से 90 रुपये...

बिहार चुनाव: क्या केंद्र में हैं किसान ?

बिहार में विधान सभा चुनाव की सरगर्मी के बीच किसान के मुद्दे कितने हावी हैं, कृषि क़ानून को लेकर क्या राय है,...

केंद्रीय कृषि कानून और पंजाब के कृषि विधेयकों में क्या है अंतर, समझिए कुछ प्वाइंट्स में

केंद्र सरकार के कृषि कानून के खिलाफ पंजाब विधान सभा के विशेष सत्र में कुल चार विधेयक पारित किए गए। मुख्यमंत्री कैप्टन...

हरियाणा के सिरसा में हिरासत में लिए गए किसानों को आखिरकार पुलिस ने करीब 9 घंटे बाद बिना शर्त रिहा कर दिया है। सिरसा में हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला के इस्तीफे की मांग के साथ प्रदर्शन कर रहे करीब 100 किसानों को पुलिस ने बुधवार सुबह हिरासत में लिया था। पुलिस की कार्रवाई से नाराज किसानों ने हरियाणा के कुछ और हिस्सों में चक्का जाम किया। जिसके बाद पुलिस ने स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव समेत सभी किसान नेताओं और किसानों को रिहा कर दिया।

योगेंद्र यादव ने हिंद किसान से फोन पर पर बात करते हुए बताया कि, ‘पुलिस कुछ किसान नेताओं पर मामला दर्ज कर बाकी किसानों को रिहा करना चाहती थी। लेकिन थाना परिसर में किसानों के विरोध और हरियाणा के अलग-अलग हिस्सों में किसानों के गुस्से के बाद पुलिस को हिरासत में लिए गए सभी लोगों को रिहा करना पड़ा।’ उन्होंने कहा कि, ‘जब तक दुष्यंत चौटाला इस्तीफा नहीं देंंगे, तब तक किसानों का धरना सिरसा में जारी रहेगा।’

हिंद किसान को मिली जानकारी के मुताबिक स्थानीय प्रशासन ने अब किसानों को प्रदर्शन करने के लिए अलग जगह दे दी है। ये जगह डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला के आवास के नजदीक है। कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसान दुष्यंत चौटाला से नाराज हैं और उनके इस्तीफे की मांग कर रहे हैं। किसानों ने मंगलवार को सिरसा के दशहरा मैदान से अपना प्रदर्शन शुरू किया था। जिसके बाद शाम को किसान दुष्यंत चौटाला के आवास का घेराव करने के लिए बढ़े। इस दौरान पुलिस ने किसानों को तितर-बितर करने के लिए वॉटर कैनन और आंसू गैस का इस्तेमाल भी किया। लेकिन किसानों ने जगह नहीं छोड़ी और दुष्यंत चौटाला के आवास के पास धरने पर बैठ गए। बुधवार सुबह हरियाणा पुलिस ने धरना खत्म कराने के लिए योगेंद्र यादव समेत करीब 100 किसानों को हिरासत में लिया।

रिहा होने के बाद योगेंद्र यादव ने कहा कि यह आंदोलन की शुरुआत है। पंजाब से जो चिंगारी निकली है अब उसकी आग हरियाणा तक आ गई है।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

क्यों रुला रहा प्याज़?

प्याज़ के दाम एक बार फिर आसमान छू रहे हैं. सरकार को प्याज़ के स्टॉक लिमिट तय करने से लेकर आयात तक...

हरियाणा में बाजरा खरीद में तेजी लाएगी सरकार, योगेंद्र यादव बोले रंग लाई कोशिश

किसान आंदोलन के बीच हरियाणा में बाजरा किसानों को तमाम मुश्किलों का सामना करना पड़ा रहा है। कहीं खरीद में देरी तो...

प्याज की कीमतों में उछाल जारी, केंद्र सरकार ने तय की स्टॉक लिमिट

देश में प्याज की कीमतें एक बार फिर आसमान छू रही हैं। खुदरा बाजार में प्याज की कीमत 70 से 90 रुपये...