बीजेपी की अगुवाई वाले एनडीए को झटका, शिरोमणि अकाली दल ने तोड़ा गठबंधन

शिरोमणि अकाली दल ने संसद से पारित हो चुके कृषि विधेयकों को किसानों और व्यापारियों के लिए हानिकारक बताते हुए यह कदम उठाया है।

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...

किसान क्यूँ कर रहे हैं साइलोज़ का बहिष्कार?

हरियाणा हो या पंजाब, किसान अडानी के Silos में अपनी फसल देने से इंकार कर रहे हैं, हालाँकि Adani Agro Logistics का...

हरियाणा में फसल ख़रीदी को लेकर किसानों के अनुभव

हरियाणा में 1 April 2021 से गेहूँ की ख़रीदी शुरू हो गयी है लेकिन किसान मंडी में बारदाने की कमी से लेकर...

संसद से पारित कृषि विधेयकों के खिलाफ किसानों का आंदोलन अब सियासी असर दिखाने लगा है। कृषि विधेयकों को संसद में पेश करने के बाद एनडीए से बागी रुख अख्तियार करने वाली शिरोमणि अकाली दल ने अब गठबंधन छोड़ने का फैसला कर लिया है। शनिवार को पार्टी की कोर-कमेटी की बैठक के बाद पार्टी प्रमुख और फिरोजपुर से सांसद सुखबीर सिंह बादल ने गठबंधन तोड़ने का ऐलान किया।

अपने बयान में अकाली दल ने कहा है कि कृषि विधेयकों पर सरकार का फैसला न केवल किसानों के हितों के लिए, बल्कि खेत मजदूरों, व्यापारियों, दलितों के हितों के लिए बेहद हानिकारक है, जो खेतीबाड़ी पर निर्भर हैं। पार्टी ने आगे कहा, ‘शिरोमणि अकाली दल की कोर कमेटी की आज रात की आपात मीटिंग में सर्वसम्मति से बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए गठबंधन से गठबंधन तोड़ने का फैसला किया गया, क्योंकि केंद्र सरकार ने न्यूनतम समर्थन मूल्य पर किसानों की फसलों के सुनिश्चित मंडीकरण की रक्षा के लिए सांविधीय विधायी गारंटी देने से इंकार कर दिया और जम्मू-कश्मीर में पंजाबी भाषा को छोड़कर पंजाबी और सिख मुददों के प्रति संवेदनहीनता जारी रखी।’

गौरतलब है कि शिरोमणि अकाली दल पहले कृषि अध्यादेशों का समर्थन कर रही थी और किसानों को समझा रही थी कि इससे उन्हें कोई नुकसान नहीं होगा। इतना ही नहीं, मानसून सत्र के पहले उसने केंद्र सरकार से किसानों की आशंका दूर होने तक कृषि विधेयकों को संसद में पेश न करने का अनुरोध किया था। लेकिन केंद्र सरकार ने सहयोगी दल होने के बावजूद शिरोमणि अकाली दल की बात को अहमियत नहीं दी। कृषि विधेयकों को लोक सभा में पेश करने से नाराज शिरोमणि अकाली दल ने न केवल सदन में कृषि विधेयकों का विरोध किया, बल्कि हरसिमरत कौर ने केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा भी दे दिया।

जानकार शिरोमणि अकाली दल के रुख में आए इस बदलाव के पीछे किसानों के बीच घटती साख को वजह बता रहे हैं। दरअसल, अकाली दल खुद को किसानों की पार्टी बताती रही है। लेकिन कृषि अध्यादेशों पर किसानों का जो आंदोलन सामने आया है, उसमें उसे छोड़कर दूसरे दलों को ज्यादा फायदा होता दिख रहा है। इससे पार्टी को 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में नुकसान होने का खतरा सताने लगा है।

अकाली दल के एनडीए से अलग होने पर कांग्रेस ने तीखा हमला बोला है। कांग्रेस विधायक रामकुमार विरका ने कहा, ‘आज जब अकाली दल को पता लग गया कि पंजाब के लोगों ने उनके लिए अपने दरवाजे बंद कर लिए हैं तो उसने गठबंधन तोड़ दिया। न देश में बीजेपी का कोई आधार है और न पंजाब में अकाली दल का। जो किसानों से टकराएगा, चूर-चूर हो जाएगा।’

वहीं, आम आदमी पार्टी ने भी अकाली दल पर निशाना साधा है। पंजाब विधानसभा में आम आदमी पार्टी के नेता प्रतिपक्ष हरपाल सिंह चीमा ने ट्विटर पर लिखा, ‘नौ सौ चूहे खाकर बिल्ली हज को चली। पंजाब को दशकों के लिए बीजेपी के हाथों में बेचने के बाद भ्रष्ट अकाली दल अब गठबंधन तोड़ने के एक घंटे के भीतर पवित्र होने के दावे कर रही है। नया नाटक।’

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...