केंद्र के कृषि विधेयकों को बेअसर करने के लिए राजस्थान मॉडल अपना सकता है पंजाब

राजस्थान सरकार एफसीआई, सीडब्लूसी और आरएसडब्लूसी के गोदामों को एपीएमसी एक्ट के तहत मंडी यार्ड घोषित कर चुकी है.

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...

किसान क्यूँ कर रहे हैं साइलोज़ का बहिष्कार?

हरियाणा हो या पंजाब, किसान अडानी के Silos में अपनी फसल देने से इंकार कर रहे हैं, हालाँकि Adani Agro Logistics का...

हरियाणा में फसल ख़रीदी को लेकर किसानों के अनुभव

हरियाणा में 1 April 2021 से गेहूँ की ख़रीदी शुरू हो गयी है लेकिन किसान मंडी में बारदाने की कमी से लेकर...

संसद से पारित हो चुके कृषि विधेयकों के खिलाफ किसानों के लगातार विरोध के चलते राज्य सरकारों पर राजनीतिक दबाव बढ़ गया है। राज्य सरकारें कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) विधेयक-2020 के चलते मौजूदा मंडी व्यवस्था पर पड़ने वाले असर से निपटने के रास्ते तलाश रही हैं. दरअसल, यह विधेयक मौजूदा कृषि उपज मंडी समिति कानून (एपीएमसी एक्ट) को मंडी परिसर तक सीमित करता है और इसके बाहर कृषि उपज की टैक्स फ्री खरीद-फरोख्त की छूट देता है। इससे एमपीएमसी मंडियों में फसलों का कारोबार घटने और इससे राज्यों को मिलने वाले मंडी शुल्क में गिरावट आने का खतरा है।

‘हिंद किसान’ को सूत्रों से मिली जानकारी है कि पंजाब की अमरिंदर सिंह सरकार अब पूरे राज्य को ही प्रिंसिपल मंडी यार्ड बनाने या फिर राजस्थान मॉडल को अपनाने पर विचार कर रही है। राजस्थान की गहलोत सरकार पिछले दिनों फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया, सेंट्रल वेयरहाउसिंग कॉरपोरेशन और राजस्थान स्टेट वेयरहाउसिंग कॉरपोरेशन के गोदामों को एपीएमसी एक्ट के तहत खरीद केंद्र के रूप में नोटिफाई कर चुकी है। इससे इन जगहों पर होने वाली कृषि उपजों की खरीद-फरोख्त पर सरकार को मंडी शुल्क वसूलने का अधिकार मिल गया है।

हालांकि, पंजाब में ऐसा कोई फैसला करने से पहले सीएम अमरिंदर सिंह ने एडवोकेट जनरल अतुल नंदा से कानूनी सलाह मांगी है. प्रदेश सरकार को इसमें विपक्ष का भी साथ मिल रहा है. शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखवीर सिंह बादल पहले ही पूरे प्रदेश को मंडी यार्ड घोषित करने की सलाह दे चुके हैं।

संसद से पारित कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) विधेयक-2020 में परिभाषित बाजार में एपीएमसी एक्ट के तहत गठित मंडी समितियों की मंडियों को शामिल नहीं किया गया है। इससे किसान बगैर मंडी या आढ़ती के पास गए सीधे अपनी फसल बेच सकते हैं। किसानों को डर है कि केंद्र के इस कदम से मौजूदा मंडी व्यवस्था खत्म हो जाएगी और सरकार इसका बहाना लेकर न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर होने वाली फसलों की खरीद को बंद कर देगी। हालांकि, केंद्र सरकार लगातार समझा रही है कि एमएसपी पर खरीद व्यवस्था के जारी रहेगी। कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा है कि केंद्र सरकार किसानों को एमएसपी देने के लिए प्रतिबद्ध है।

हालांकि, देश के किसान सरकार के इस दावे पर भरोसा नहीं कर रहे हैं. वे इन कृषि अध्यादेश के खिलाफ लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं। इनके खिलाफ 25 सितंबर को बुलाए गए भारत बंद के दौरान किसानों ने पंजाब से लेकर हरियाणा तक प्रदर्शन किया। इसका सबसे ज्यादा असर पंजाब और हरियाणा में देखा गया। माना जा रहा है कि आने वाले समय में किसानों का कृषि विधेयकों के खिलाफ आंदोलन तेज हो सकता है।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...