पंजाब: 5 नवंबर तक रेल रोको आंदोलन में ढील लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन की तैयारी

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...

किसान क्यूँ कर रहे हैं साइलोज़ का बहिष्कार?

हरियाणा हो या पंजाब, किसान अडानी के Silos में अपनी फसल देने से इंकार कर रहे हैं, हालाँकि Adani Agro Logistics का...

हरियाणा में फसल ख़रीदी को लेकर किसानों के अनुभव

हरियाणा में 1 April 2021 से गेहूँ की ख़रीदी शुरू हो गयी है लेकिन किसान मंडी में बारदाने की कमी से लेकर...

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब विधान सभा से कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार के विधेयक पारित होने के बाद बुधवार को चंडीगढ़ में 29 किसान संगठनों ने बैठक की। इस बैठक में आंदोलन के आगे की रणनीति पर चर्चा की गई। किसान संगठनों ने यह फैसला लिया कि 5 नवंबर तक रेल रोको आंदोलन में ढील दी जाएगी जिसमें सिर्फ माल गाड़ियों की आवाजाही होने दी जाएगी।

हालांकि किसान संगठनों ने यह साफ कहा कि सिर्फ माल गाड़ियों की आवाजाही होने दी जाएगी जिससे जरूरी सामानों की आपूर्ति प्रभावित न हो। इसके साथ ही बाकी ट्रेनों यानी सवारी गाड़ियों के लिए रेल रोको आंदोलन जारी रहेगा। इसके साथ ही पंजाब में टोल प्लाजा, रिलायंस पेट्रोल पंप पर धरना और बीजेपी नेताओं का घेराव भी जारी रहेगा।

मंगलवार को पंजाब विधान सभा से केंद्र के कृषि कानूनों को संशोधित करने वाले विधेयक पारित हुए थे। विधेयक पर चर्चा के दौरान सीएम अमरिंदर सिंह ने किसानों से अपील की थी कि किसान अब आंदोलन छोड़ अपने काम पर वापस लौटें। चंडीगढ़ में जुटे किसान संगठनों ने अमरिंदर सिंह सरकार के कदम का स्वागत किया लेकिन आंदोलन जारी रखने की भी बात कही।

भारतीय किसान यूनियन (डकौंडा) के महासचिव जगमोहन सिंह भट्टी ने हिंद किसान से फोन पर बातचीत में कहा, ‘संगठन पंजाब सरकार के कदम का स्वागत करते हैं और 5 नवंबर तक माल गाड़ियों की आवाजाही जारी रखेंगे। लेकिन हम 27 अक्टूबर को दिल्ली में बैठक करेंगे और तय करेंगे कि अब इस आंदोलन को पंजाब के बाहर राष्ट्रीय स्तर पर कैसे पहुंचाएं।’ उन्होंने कहा, ‘यह आंदोलन तब तक जारी रहेगा जब तक केंद्र की मोदी सरकार कृषि कानूनों को वापस नहीं ले लेती और एमएसपी की गारंटी नहीं देती।’

किसान मजदूर संघर्ष समिति के महासचिव सरवन सिंह पंढेर ने हिंद किसान से फोन पर बातचीत में कहा, ‘उनका संगठन बैठक में शामिल नहीं हो पाया लेकिन वहां लिए गए फैसलों की उन्हों जानकारी है। उनका संगठन भी जल्द ही इस पर फैसला लेगा।‘

सरवन सिंह ने कहा कि हम तैयारी कर रहे हैं कि अब रेल रोको आंदोलन को कैसे जारी रखा जाए। उन्होंने कहा, ‘हम रेलवे स्टेशनों पर धरना देंगे और सिर्फ माल गाड़ियों को आने जाने देंगे। इसके साथ ही अन्य प्रदर्शन पहले की ही तरह जारी रहेंगे। लेकिन अंतिम फैसला संगठन की बैठक के बाद होगा।’

पंजाब में कृषि कानूनों के खिलाफ एक अक्टूबर से किसान संगठन रेल रोको आंदोलन चला रहे हैं। इस आंदोलन की वजह से अब तक कई ट्रेनों को रद्द करना पड़ा है साथ ही रेलवे ने करोड़ों का नुकसान भी उठाया है।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...