केंद्र सरकार को झटका, बातचीत के लिए नहीं आएंगे पंजाब के किसान

कृषि मंत्रालय के सचिव ने पंजाब के किसानों को बातचीत के लिए बुलाया था। ये बैठक 8 अक्टूबर को होने वाली थी लेकिन किसानों ने बैठक में न जाने का फैसला लिया है।

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...

किसान क्यूँ कर रहे हैं साइलोज़ का बहिष्कार?

हरियाणा हो या पंजाब, किसान अडानी के Silos में अपनी फसल देने से इंकार कर रहे हैं, हालाँकि Adani Agro Logistics का...

हरियाणा में फसल ख़रीदी को लेकर किसानों के अनुभव

हरियाणा में 1 April 2021 से गेहूँ की ख़रीदी शुरू हो गयी है लेकिन किसान मंडी में बारदाने की कमी से लेकर...

कृषि कानूनों के खिलाफ रेल रोको आंदोलन कर रहे पंजाब के किसानों ने केंद्र सरकार की बातचीत की पेशकश को ठुकरा दिया है। केंद्रीय कृषि सचिव संजय अग्रवाल ने प्रदेश के किसानों को 8 अक्टूबर को दोपहर 2.30 बजे बातचीत के लिए दिल्ली बुलाया था। लेकिन पंजाब में 1 अक्टूबर से बेमियादी रेल रोको आंदोलन कर रहे 31 किसान संगठनों में से 25 किसान संगठनों ने बुधवार को चंडीगढ़ में बैठक की और इसमें फैसला किया कि वे बातचीत के लिए दिल्ली नहीं जाएंगे।

इसमें शामिल किसान मजदूर संघर्ष कमेटी के महासचिव सरवन सिंह पंढेर ने कहा कि सरकार ने बातचीत के लिए बुलाया था, लेकिन किसानों ने दिल्ली न जाने का फैसला लिया है। उन्होंने कहा कि कृषि सचिव के पास फैसले लेने का अधिकार नहीं है, इसलिए प्रधानमंत्री के साथ बातचीत के लिए बुलावा भेजना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार की नीतियों में अब भी कोई पारदर्शिता नहीं है और न ही सरकार इस मसले पर गंभीर है, बातचीत के लिए न तो देश भर के किसानों को बुलाया गया और न ही हरियाणा के। सरवन सिंह पंढेर ने कहा कि जब तक ये कानून वापस नहीं ले लिए जाते, हमारा आंदोलन न केवल जारी रहेगा, बल्कि इसे और तेज किया जाएगा।

बुधवार की बैठक में किसान संगठनों ने पंजाब सरकार को भी चेतावनी दी है। किसानों ने पंजाब विधान सभा का विशेष सत्र बुलाने और तीनों कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव पारित के लिए एक हफ्ते का समय दिया है। किसानों ने कहा कि अगर सरकार उनकी मांग नहीं मानती तो किसान संगठन कांग्रेस नेताओं और मंत्रियों का घेराव करेंगे।

इस बीच किसानों ने इस मामले में सुप्रीम कोर्ट जाने से भी इनकार किया है। इससे पहले केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ भारतीय किसान यूनियन (लाखोवाल) ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाने जा रही थी। लेकिन किसान संगठनों के विरोध के बाद उसने अपने कदम पीछे खींच लिए हैं। संगठन के प्रधान अजमेर सिंह लाखोवाल ने कहा कि वे पंजाब के किसानों के साथ खड़े हैं और कृषि कानूनों के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट नहीं जाएंगे।

पंजाब के किसान संगठनों ने रेल रोको आंदोलन, बीजेपी नेताओं का विरोध और रिलायंस पेट्रॉल पंपों का बहिष्कार जारी रखने का भी फैसला लिया है। किसानों ने 15 अक्टूबर को बैठक करने और आगे की रणनीति तय करने का ऐलान किया है।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...