पंजाब में रेल रोको आंदोलन जारी, किसानों ने कपड़े उतार कर प्रदर्शन किया

पंजाब में किसानों का 'रेल रोको' आंदोलन जारी, रेल की पटरियों पर डेरा डाले हुए हैं किसान

पंजाब: 5 नवंबर तक रेल रोको आंदोलन में ढील लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन की तैयारी

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब विधान सभा से कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार के विधेयक पारित होने के बाद बुधवार...

कृषि कानून के खिलाफ पंजाब की राह पर राजस्थान

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ लड़ाई में पंजाब की अमरिंदर सरकार ने नई शुरुआत की है। मंगलवार को पंजाब विधान सभा...

Boston Cash Advance Solution. Pay day loan is really a great loan for while you are on the go getting money.

Boston Cash Advance Solution. Pay day loan is really a great loan for while you are on the go getting money. Payday Advances Boston, MA Cash...

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पारित विधेयकों पर क्या कहते हैं किसान नेता

पंजाब की विधानसभा ने मंगलवार को केंद्र के कृषि कानूनों को राज्य में प्रभावहीन करने वाले तीन कृषि विधेयक को सर्वसम्मति से...

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ अमरिंदर सरकार के विधेयक पारित

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब विधानसभा में 4 विधेयक पारित हो गए हैं। विधेयक पेश करते हुए सीएम अमरिंदर सिंह...

पंजाब में किसानों का रेल रोको आंदोलन तीसरे दिन भी जारी है। अमृतसर में किसान 24 सितंबर से रेल की पटरियों पर धरना दे रहे हैं. रेलवे ट्रैक पर डटे किसानों ने शनिवार को कपड़े उतारकर प्रदर्शन किया। आंदोलन की अगुवाई कर रहे किसान मज़दूर संघर्ष कमेटी के महासचिव एसएस पंधेर ने कहा, ‘किसान रेलवे ट्रैक पर अपने कपड़े उतारकर प्रदर्शन कर रहे हैं ताकि मोदी सरकार कृषि बिल को वापस ले।’ उन्होंने शिरोमणि अकाली दल के रुख पर भी सवाल उठाया। एसएस पंधेर ने आगे कहा, ‘कल अकाली दल ने अपने प्रदर्शन में मोदी सरकार और कृषि बिल के खिलाफ कुछ नहीं बोला। वे अपनी स्थिति स्पष्ट नहीं कर रहें, वे राजनीति कर रहे हैं।’

भारत बंद के बाद पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंद सिंह ने केंद्र तक किसानों की आवाज पहुंचने की उम्मीद जताई. ट्वविटर पर उन्होंने लिखा, ‘उम्मीद है कि महामारी और गर्मी के बावजूद कृषि विधेयकों का विरोध कर रहे किसानों का दर्द केंद्र सरकार तक पहुंच जाएगा, और वह कृषि क्षेत्र को तबाही के जिस रास्ते पर डालने पर तुली है, उससे गुरेज करेगी। पंजाब के सभी लोग दिल्ली की सड़क पर होंगे। यह अस्तित्व की लड़ाई है।’ वहीं, पंजाब के वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल ने कहा, ‘मोदी जी किसानों की आय दोगुना करने की बात करते हैं लेकिन बीते 14 सालों में इस साल किसानों की आय घटकर सबसे निचले स्तर पर आ गई है। कृषि क्षेत्र की ग्रोथ 3.1 फीसदी हो गई है जो यूपीए सरकार में उच्च स्तर पर थी।’

बीजेपी की अगुवाई वाले एनडीए में शामिल होने के बावजूद शिरोमणी अकाली दल केंद्र के कृषि कानूनों का विरोध कर रही है. उसने 25 सितंबर को भारत बंद के समर्थन में प्रदर्शन किया। पार्टी का साफ कहना है कि जब तक तीनों कृषि विधेयकों को वापस नहीं लिया जाता है, तब तक संघर्ष जारी रहेगा।

कृषि विधेयकों के खिलाफ 25 सितंबर को बुलाए गए भारत बंद में पंजाब से लेकर कर्नाटक तक किसानों ने प्रदर्शन किया। सभी जगहों पर किसानों की एक ही मांग थी कि सरकार या तो इन कृषि विधेयकों को वापस ले या फिर फसलों की न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद की गारंटी देने वाला कानून बनाए।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

पंजाब: 5 नवंबर तक रेल रोको आंदोलन में ढील लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन की तैयारी

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब विधान सभा से कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार के विधेयक पारित होने के बाद बुधवार...

कृषि कानून के खिलाफ पंजाब की राह पर राजस्थान

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ लड़ाई में पंजाब की अमरिंदर सरकार ने नई शुरुआत की है। मंगलवार को पंजाब विधान सभा...

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पारित विधेयकों पर क्या कहते हैं किसान नेता

पंजाब की विधानसभा ने मंगलवार को केंद्र के कृषि कानूनों को राज्य में प्रभावहीन करने वाले तीन कृषि विधेयक को सर्वसम्मति से...