किसानों को देश में कहीं भी फसल बेचने की आजादी पहले से है : सरवन सिंह

किसानों ने कृषि कानूनों से देश में कहीं भी फसल बेचने की आजादी मिलने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दावों पर सवाल उठाया है

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...

किसान क्यूँ कर रहे हैं साइलोज़ का बहिष्कार?

हरियाणा हो या पंजाब, किसान अडानी के Silos में अपनी फसल देने से इंकार कर रहे हैं, हालाँकि Adani Agro Logistics का...

हरियाणा में फसल ख़रीदी को लेकर किसानों के अनुभव

हरियाणा में 1 April 2021 से गेहूँ की ख़रीदी शुरू हो गयी है लेकिन किसान मंडी में बारदाने की कमी से लेकर...

पंजाब में कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दावों पर सवाल उठाया है। रेल रोको आंदोलन की अगुवाई कर रहे किसान-मजदूर संघर्ष कमेटी के अध्यक्ष सरवन सिंह पंढेर ने कहा, ‘प्रधानमंत्री जी ने जो बयान दिया उससे इन काले कानूनों की सच्चाई झलक गई। वह कह रहे हैं कि कंपनियां आपको खाद देगी बीज देंगी, मैं प्रधानमंत्री जी बताना चाहता हूं की पहले ही कंपनिय हमें दवाइयां भी बेंचती हैं, खाद भी बेंचती हैं। हमें सब मिल रहा है फिर कौन सी नई चीज देंगे। ये बात हमें आपकी सही नहीं लगी।’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात कार्यक्रम के अलावा उत्तराखंड में विकास योजनाओं के उद्घाटन के मौके पर कृषि कानूनों से किसानों को आजादी मिलने का दावा किया था। उनके इस बयान पर सरवन सिंह ने कहा, ‘आप किसानों को आजादी देने की बात करते हो तो एपीएमसी एक्ट आप खुद ही पढ़ लो मोदी जी! एपीएमसी एक्ट के तहत 1970 में ही हमें आजादी मिली हुई है किसान जहां चाहे वहां अपनी फसल बेच सकते हैं। किसानों पर कहीं भी फसल बेचने पर रोक नहीं है। हमारी (किसानों की) गाड़ियां या मशीनें कभी जब्त नहीं की गई।’ उन्होंने हरियाणा की खट्टर सरकार को निशाने पर लेते हुए कहा, ‘आपकी खट्टर सरकार ने नए कानून बना रही है, वही किसानों की (फसलों से भरी) गाड़ियां रोक रहे हैं। आप अपनी फिक्र करें।’

पंजाब में रेल रोको आंदोलन कर रहे किसानों का धरना सातवें दिन भी जारी है। धरने पर बैठे किसान केंद्र सरकार पर किसानों के बजाए कॉरपोरेट्स को फायदा पहुंचाने का आरोप लगा रहे हैं। धरने पर बैठे किसान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बैठक करने की मांग कर रहे हैं। सरवन सिंह ने कहा, ‘स्वानीनाथन रिपोर्ट को लेकर आपने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल करके ये कहा कि स्वामीनाथन की रिपोर्ट लागू नहीं हो सकती। आप खेती से जुड़े काले कानून ले आए हो, स्वामीनाथन की बात करते हो, कंपनियों को फायदा पहुंचाने की बात करते हो, हम आपसे मांग करते हैं कि आप हम किसानों के साथ बात कर लो, हम हर मुद्दे पर बात करने के लिए तैयार हैं, जिससे पता चले की सच क्या है।’

अमृतसर और फिरोजपुर में धरने पर बैठे किसानों ने देश के सभी नागरिकों से कॉरपोरेट घरानों के प्रोडक्ट्स का बहिष्कार करने की अपील शुरू की है। इसी कड़ी में बुधवार को किसानों ने जियो के सिम जलाकर अपना विरोध जताया। किसानों का रेल रोको आंदोलन 24 सितंबर से चल रहा है। इस आंदोलन 1 अक्टूबर से अब प्रदेश के 31 किसान संगठनों ने समर्थन देने का ऐलान किया है।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...