किसान संगठनों की मांग को मानने से पंजाब सरकार का इनकार

चंडीगढ़ में बैठक के बाद पंजाब के किसान संगठनों ने राज्य सरकार से विधान सभा का विशेष सत्र बुलाकर कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव पारित कराने की मांग की थी। किसान संगठनों ने इसके लिए सरकार को एक हफ्ते का वक्त दिया था।

31 अक्टूबर तक कोल्ड सेटोरेज खाली करने का दबाव बढ़ा तो होगा आंदोलन – किसान

उत्तर प्रदेश सरकार के 31 अक्टूबर तक कोल्ड स्टोरेज खाली करने के फैसले से आलू किसान खासे नाराज हैं। आगरा जिले में...

हरियाणा: बरोदा उपचुनाव में कितना भारी पड़ेगा किसानों का गुस्सा

हरियाणा में केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ लगातार विरोध जारी है। राज्य की खट्टर और केंद्र की मोदी सरकार के...

आखिर कितना असरदार है छत्तीसगढ़ सरकार का मंडी संशोधन विधेयक

माना जा रहा था कि जैसे पंजाब सरकार ने तीन कानून के असर को निष्क्रिय करने के लिए अपने खुद के नए...

योगी सरकार के फैसले से क्यों खफा हैं आलू किसान

उत्तर प्रदेश सरकार ने कोल्ड स्टोरेज में रखे आलुओं को 31 अक्टूबर तक बाहर निकालने और कोल्ड स्टोरेज को खोली करने के...

छत्तीसगढ़ मंडी अधिनियम में संशोधन कितना प्रभावी

छत्तीसगढ़ की भूपेश बघेल सरकार ने केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ विधान सभा से मंडी कानून में संशोधन विधेयक पारित करा...

कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों की विधान सभा का विशेष सत्र बुलाने की मांग को पंजाब सरकार ने मानने से इनकार कर दिया है। पंजाब सरकार के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से कहा गया है कि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने विशेष सत्र के लिए किसान यूनियनों की समय सीमा के जवाब में कहा है कि अल्टीमेटम रास्ता नहीं है, मुख्यमंत्री किसानों के हित में जो करना चाहते हैं, वह करने का संकल्प लेते हैं। इसके साथ ही सीएम अमरिंदर सिह ने रेल रोको आंदोलन कर रहे किसान संगठनों से माल गाड़ियों की आवाजाही की छूट देने पर विचार करने की भी अपील की है।

दरअसल, बुधवार को किसान संगठनों ने चंडीगढ़ में बैठक करने के बाद मांग रखी थी कि वह विधान सभा का विशेष सत्र बुलाकर केंद्र के तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव पारित करे। किसान मजदूर संघर्ष कमेटी के महासचिव सरवन सिंह पंढेर ने कहा था, ‘किसान संगठन पंजाब सरकार को एक हफ्ते का वक्त दे रहे हैं। सरकार विधान सभा का सत्र बुलाए और कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव पास करे।’

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पहले ही कह चुके हैं कि उनकी सरकार किसानों को बचाने के लिए हर मुमकिन कदम उठाएगी। उन्होंने यह भी कहा था कि हम किसानों के साथ खड़े हैं और उन्हें भरोसा देते हैं कि उनके अधिकार सुरक्षित रहेंगे।

पंजाब में किसान संगठन 24 सितंबर से रेल रोको आंदोलन चला रहे हैं। इस बीच केंद्र सरकार की तरफ से कृषि सचिव ने इन किसान संगठनों को दिल्ली आकर बातचीत करने का न्यौता दिया था। लेकिन किसानों ने इसे ठुकरा दिया है।

यह भी पढे़ं- केंद्र सरकार को झटका, बातचीत के लिए नहीं आएंगे पंजाब के किसान

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

31 अक्टूबर तक कोल्ड सेटोरेज खाली करने का दबाव बढ़ा तो होगा आंदोलन – किसान

उत्तर प्रदेश सरकार के 31 अक्टूबर तक कोल्ड स्टोरेज खाली करने के फैसले से आलू किसान खासे नाराज हैं। आगरा जिले में...

हरियाणा: बरोदा उपचुनाव में कितना भारी पड़ेगा किसानों का गुस्सा

हरियाणा में केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ लगातार विरोध जारी है। राज्य की खट्टर और केंद्र की मोदी सरकार के...

आखिर कितना असरदार है छत्तीसगढ़ सरकार का मंडी संशोधन विधेयक

माना जा रहा था कि जैसे पंजाब सरकार ने तीन कानून के असर को निष्क्रिय करने के लिए अपने खुद के नए...