अब ऐसे होगा सम्मान निधि के लिए किसानों का रजिस्ट्रेशन

गोवा: पीएम किसान सम्मान निधि योजना में बड़ी भूमिका निभाएंगे पोस्टमैन

किसान आंदोलन: पूरे हुए 4 महीने, क्या हुआ हासिल?

कृषि क़ानूनों का विरोध और MSP की गारंटी की माँग को लेकर देश भर में संयुक्त किसान मोर्चा ने आंदोलन के 120...

किसान महापंचायत की गूंज, दक्षिण भारत में भी

किसान महापंचायत की गूंज दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में भी सुनाई दी, BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत समेत दूसरे किसान...

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर से किसानों का फूटा ग़ुस्सा

किसान आंदोलन को लगभग 4 महीने होने को आए, किसान सरकार की बेरुख़ी और उनकी माँग अनसुनी करने को लेकर काफ़ी ख़फ़ा...

किसान आंदोलन: राजनीति या आजीविका की लड़ाई?

किसान आंदोलन देश के अलग अलग राज्यों में बढ़ता जा रहा है, जिन ५ राज्यों में चुनाव है वहाँ केंद्र में सत्ताधारी...

कृषि आंदोलन: क्या है किसानों का मूड?

कृषि आंदोलन को 115 दिन होने को आए, इस बीच ये आंदोलन पंजाब-हरियाणा- उत्तर प्रदेश-राजस्थान-मध्य प्रदेश के बाद अब उन राज्यों में...

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत केंद्र सरकार पंजीकृत किसानों को हर साल 6000 रुपये की आर्थिक मदद देती है। लेकिन इस योजना का लाभ लेने के लिए किसानों को सबसे ज्यादा समस्या पंजीकरण कराने में होती है। गोवा सरकार ने किसानों के पंजीकरण को आसान बनाने के लिए विशेष पहल की है। इसके लिए गोवा सरकार ने भारतीय डाक यानी इंडिया पोस्ट के साथ समझौता किया है। इनकी मदद से 11 हजार किसानों का नाम पीएम किसान सम्मान निधि के लिए पंजीकृत किया जाएगा। गोवा के मंत्री चंद्रकांत कावलेकर ने बताया कि राज्य में करीब 11 हजार किसानों ने सम्मान निधि योजना के लिए पंजीकरण नहीं कराया है। उनके घरों तक पोस्टमैन जाएंगे और किसानों का पंजीकरण कराएंगे।

गोवा में करीब 38 हजार किसानों के पास कृषि कार्ड हैं। इनमें से करीब 21 हजार पीएम किसान स्कीम के लिए योग्य हैं। लेकिन अब तक 11 हजार किसानों ने इस योजना के तहत पंजीकरण नहीं कराया है। पंजीकरण के इस काम के लिए 250 से ज्यादा पोस्टमैन यानी डाकिया के साथ भारतीय पोस्ट के करीब 350 कर्मचारी जुट गए हैं।

पीएम किसान सम्मान निधि योजना के लिए भारतीय पोस्ट या पोस्टमैन का इस्तेमाल करने वाला गोवा पहला राज्य बन गया है।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

किसान महापंचायत की गूंज, दक्षिण भारत में भी

किसान महापंचायत की गूंज दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में भी सुनाई दी, BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत समेत दूसरे किसान...

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर से किसानों का फूटा ग़ुस्सा

किसान आंदोलन को लगभग 4 महीने होने को आए, किसान सरकार की बेरुख़ी और उनकी माँग अनसुनी करने को लेकर काफ़ी ख़फ़ा...

किसान आंदोलन: राजनीति या आजीविका की लड़ाई?

किसान आंदोलन देश के अलग अलग राज्यों में बढ़ता जा रहा है, जिन ५ राज्यों में चुनाव है वहाँ केंद्र में सत्ताधारी...