अब ऐसे होगा सम्मान निधि के लिए किसानों का रजिस्ट्रेशन

गोवा: पीएम किसान सम्मान निधि योजना में बड़ी भूमिका निभाएंगे पोस्टमैन

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...

किसान क्यूँ कर रहे हैं साइलोज़ का बहिष्कार?

हरियाणा हो या पंजाब, किसान अडानी के Silos में अपनी फसल देने से इंकार कर रहे हैं, हालाँकि Adani Agro Logistics का...

हरियाणा में फसल ख़रीदी को लेकर किसानों के अनुभव

हरियाणा में 1 April 2021 से गेहूँ की ख़रीदी शुरू हो गयी है लेकिन किसान मंडी में बारदाने की कमी से लेकर...

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत केंद्र सरकार पंजीकृत किसानों को हर साल 6000 रुपये की आर्थिक मदद देती है। लेकिन इस योजना का लाभ लेने के लिए किसानों को सबसे ज्यादा समस्या पंजीकरण कराने में होती है। गोवा सरकार ने किसानों के पंजीकरण को आसान बनाने के लिए विशेष पहल की है। इसके लिए गोवा सरकार ने भारतीय डाक यानी इंडिया पोस्ट के साथ समझौता किया है। इनकी मदद से 11 हजार किसानों का नाम पीएम किसान सम्मान निधि के लिए पंजीकृत किया जाएगा। गोवा के मंत्री चंद्रकांत कावलेकर ने बताया कि राज्य में करीब 11 हजार किसानों ने सम्मान निधि योजना के लिए पंजीकरण नहीं कराया है। उनके घरों तक पोस्टमैन जाएंगे और किसानों का पंजीकरण कराएंगे।

गोवा में करीब 38 हजार किसानों के पास कृषि कार्ड हैं। इनमें से करीब 21 हजार पीएम किसान स्कीम के लिए योग्य हैं। लेकिन अब तक 11 हजार किसानों ने इस योजना के तहत पंजीकरण नहीं कराया है। पंजीकरण के इस काम के लिए 250 से ज्यादा पोस्टमैन यानी डाकिया के साथ भारतीय पोस्ट के करीब 350 कर्मचारी जुट गए हैं।

पीएम किसान सम्मान निधि योजना के लिए भारतीय पोस्ट या पोस्टमैन का इस्तेमाल करने वाला गोवा पहला राज्य बन गया है।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...