पंजाब में पहले दिन 3,531 टन धान की खरीद

पंजाब के खाद्य मंत्री भारत भूषण आशु ने कहा कि अमरिंदर सरकार किसानों से धान का एक-एक दाना खरीदेगी.

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...

किसान क्यूँ कर रहे हैं साइलोज़ का बहिष्कार?

हरियाणा हो या पंजाब, किसान अडानी के Silos में अपनी फसल देने से इंकार कर रहे हैं, हालाँकि Adani Agro Logistics का...

हरियाणा में फसल ख़रीदी को लेकर किसानों के अनुभव

हरियाणा में 1 April 2021 से गेहूँ की ख़रीदी शुरू हो गयी है लेकिन किसान मंडी में बारदाने की कमी से लेकर...

पंजाब में कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के आंदोलन के बीच धान की सरकारी खरीद शुरू हो गई है. राज्य के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता सुरक्षा मंत्री भारत भूषण आशु ने रविवार को राजपुरा अनाज मंडी से खरीद की शुरुआत की. खाद्य मंत्री ने कहा कि, ‘सीएम अमरिंदर सिंह के नेतृत्व में पंजाब सरकार किसानों के साथ खड़ी है और केंद्र सरकार के कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए हर तरीके का इस्तेमाल किया जाएगा.’

उन्होंने कहा कि पंजाब में खरीफ सीजन में 170 लाख टन धान की खरीदने के इंतजाम किए गए हैं और किसानों से फसल का एक-एक दाना खरीदा जाएगा. खाद्य मंत्री ने बताया कि धान की फसल समय से पहले आने की वजह से सरकार ने धान की सरकारी खरीद को तय समय से पहले शुरू करा दिया है.

धान खरीद के पहले दिन पूरे पंजाब में 3,531 टन धान की सरकारी खरीद हुई, जबकि 59 टन धान निजी मिलर्स ने खरीदा.

कोरोना से बचाव के लिए विशेष व्यवस्था

धान खरीद के लिए पंजाब सरकार ने लगभग 4,035 खरीद केंद्र बनाए हैं. सरकार का दावा है कि फसल खरीद और कोरोना से बचाव को सुनिश्चित करने के लिए विशेष व्यवस्था की गई है. इसके तहत खरीद केंद्रों पर 30-30 फीट के ब्लॉक बनाए गए हैं और मास्क के साथ-हाथ धोने के लिए साबुन और सैनिटाइजर की भी व्यवस्था की गई है. इसके अलावा फसल की उठवाई के लिए मजदूरों, बारदाने और ट्रांसपोर्ट के भी प्रबंध किए गए हैं. खाद्य मंत्री आशु ने किसानों से अपील की कि कोविड महामारी के कारण खेतों में पराली को आग न लगाई जाए और अपनी फसल सुखा कर ही मंडियों में लाएं. उन्होंने बताया कि गेहूं की तरह धान को मंडी में लाने के लिए किसानों को पास जारी किया जाएगा. किसान अलग-अलग दिनों के लिए अलग-अलग रंगों के पास आढ़तियों से ले सकेंगे.

एमएसपी पर खरीद और खाते में पैसे भेजने की अपील

पंजाब के खाद्य मंत्री आशु के मुताबिक राज्य के आढ़तियों से सरकार ने अपील की है कि किसानों से धान एमएसपी ( जो 1,888 रुपये प्रति क्विंटल है) पर खरीद जाए और किसानों के खाते में फसल की रकम भेजते रहें. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि राज्य में धान की खरीद के लिए नगद क्रेडिट सीमा (सीसीएल) भी कुछ ही दिनों में जारी हो जाएगी.

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...