पंजाब में पहले दिन 3,531 टन धान की खरीद

पंजाब के खाद्य मंत्री भारत भूषण आशु ने कहा कि अमरिंदर सरकार किसानों से धान का एक-एक दाना खरीदेगी.

किसान आंदोलन: पूरे हुए 4 महीने, क्या हुआ हासिल?

कृषि क़ानूनों का विरोध और MSP की गारंटी की माँग को लेकर देश भर में संयुक्त किसान मोर्चा ने आंदोलन के 120...

किसान महापंचायत की गूंज, दक्षिण भारत में भी

किसान महापंचायत की गूंज दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में भी सुनाई दी, BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत समेत दूसरे किसान...

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर से किसानों का फूटा ग़ुस्सा

किसान आंदोलन को लगभग 4 महीने होने को आए, किसान सरकार की बेरुख़ी और उनकी माँग अनसुनी करने को लेकर काफ़ी ख़फ़ा...

किसान आंदोलन: राजनीति या आजीविका की लड़ाई?

किसान आंदोलन देश के अलग अलग राज्यों में बढ़ता जा रहा है, जिन ५ राज्यों में चुनाव है वहाँ केंद्र में सत्ताधारी...

कृषि आंदोलन: क्या है किसानों का मूड?

कृषि आंदोलन को 115 दिन होने को आए, इस बीच ये आंदोलन पंजाब-हरियाणा- उत्तर प्रदेश-राजस्थान-मध्य प्रदेश के बाद अब उन राज्यों में...

पंजाब में कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के आंदोलन के बीच धान की सरकारी खरीद शुरू हो गई है. राज्य के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता सुरक्षा मंत्री भारत भूषण आशु ने रविवार को राजपुरा अनाज मंडी से खरीद की शुरुआत की. खाद्य मंत्री ने कहा कि, ‘सीएम अमरिंदर सिंह के नेतृत्व में पंजाब सरकार किसानों के साथ खड़ी है और केंद्र सरकार के कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए हर तरीके का इस्तेमाल किया जाएगा.’

उन्होंने कहा कि पंजाब में खरीफ सीजन में 170 लाख टन धान की खरीदने के इंतजाम किए गए हैं और किसानों से फसल का एक-एक दाना खरीदा जाएगा. खाद्य मंत्री ने बताया कि धान की फसल समय से पहले आने की वजह से सरकार ने धान की सरकारी खरीद को तय समय से पहले शुरू करा दिया है.

धान खरीद के पहले दिन पूरे पंजाब में 3,531 टन धान की सरकारी खरीद हुई, जबकि 59 टन धान निजी मिलर्स ने खरीदा.

कोरोना से बचाव के लिए विशेष व्यवस्था

धान खरीद के लिए पंजाब सरकार ने लगभग 4,035 खरीद केंद्र बनाए हैं. सरकार का दावा है कि फसल खरीद और कोरोना से बचाव को सुनिश्चित करने के लिए विशेष व्यवस्था की गई है. इसके तहत खरीद केंद्रों पर 30-30 फीट के ब्लॉक बनाए गए हैं और मास्क के साथ-हाथ धोने के लिए साबुन और सैनिटाइजर की भी व्यवस्था की गई है. इसके अलावा फसल की उठवाई के लिए मजदूरों, बारदाने और ट्रांसपोर्ट के भी प्रबंध किए गए हैं. खाद्य मंत्री आशु ने किसानों से अपील की कि कोविड महामारी के कारण खेतों में पराली को आग न लगाई जाए और अपनी फसल सुखा कर ही मंडियों में लाएं. उन्होंने बताया कि गेहूं की तरह धान को मंडी में लाने के लिए किसानों को पास जारी किया जाएगा. किसान अलग-अलग दिनों के लिए अलग-अलग रंगों के पास आढ़तियों से ले सकेंगे.

एमएसपी पर खरीद और खाते में पैसे भेजने की अपील

पंजाब के खाद्य मंत्री आशु के मुताबिक राज्य के आढ़तियों से सरकार ने अपील की है कि किसानों से धान एमएसपी ( जो 1,888 रुपये प्रति क्विंटल है) पर खरीद जाए और किसानों के खाते में फसल की रकम भेजते रहें. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि राज्य में धान की खरीद के लिए नगद क्रेडिट सीमा (सीसीएल) भी कुछ ही दिनों में जारी हो जाएगी.

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

किसान महापंचायत की गूंज, दक्षिण भारत में भी

किसान महापंचायत की गूंज दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में भी सुनाई दी, BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत समेत दूसरे किसान...

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर से किसानों का फूटा ग़ुस्सा

किसान आंदोलन को लगभग 4 महीने होने को आए, किसान सरकार की बेरुख़ी और उनकी माँग अनसुनी करने को लेकर काफ़ी ख़फ़ा...

किसान आंदोलन: राजनीति या आजीविका की लड़ाई?

किसान आंदोलन देश के अलग अलग राज्यों में बढ़ता जा रहा है, जिन ५ राज्यों में चुनाव है वहाँ केंद्र में सत्ताधारी...