कृषि विधेयक : विपक्ष की राष्ट्रपति से मंजूरी ना देने की अपील

विपक्षी दलों ने राष्ट्रपति को चिट्ठी लिखकर कृषि से जुड़े विधेयकों पर स्वीकृति ना देने की अपील की। आज शाम 5 बजे राष्ट्रपति से करेंगे मुलाकात। विधेयकों के विरोध में संसद भवन में कांग्रेस समेत विपक्षी सांसदों ने किया मार्च।

किसान आंदोलन: पूरे हुए 4 महीने, क्या हुआ हासिल?

कृषि क़ानूनों का विरोध और MSP की गारंटी की माँग को लेकर देश भर में संयुक्त किसान मोर्चा ने आंदोलन के 120...

किसान महापंचायत की गूंज, दक्षिण भारत में भी

किसान महापंचायत की गूंज दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में भी सुनाई दी, BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत समेत दूसरे किसान...

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर से किसानों का फूटा ग़ुस्सा

किसान आंदोलन को लगभग 4 महीने होने को आए, किसान सरकार की बेरुख़ी और उनकी माँग अनसुनी करने को लेकर काफ़ी ख़फ़ा...

किसान आंदोलन: राजनीति या आजीविका की लड़ाई?

किसान आंदोलन देश के अलग अलग राज्यों में बढ़ता जा रहा है, जिन ५ राज्यों में चुनाव है वहाँ केंद्र में सत्ताधारी...

कृषि आंदोलन: क्या है किसानों का मूड?

कृषि आंदोलन को 115 दिन होने को आए, इस बीच ये आंदोलन पंजाब-हरियाणा- उत्तर प्रदेश-राजस्थान-मध्य प्रदेश के बाद अब उन राज्यों में...

कृषि विधेयकों को लेकर विपक्षी दलों ने मोर्चा खोल रखा है। कांग्रेस समेत विपक्षी दलों के नेता शाम 5 बजे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात करने का फैसला किया है। इस मुलाकात में विपक्षी दल राष्ट्रपति से कृषि से जुड़े विधेयकों पर मंजूरी ना देने की अपील करेंगे।

राज्य सभा में कांग्रेस सांसद और नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद ने कहा कि, ‘सदन में बहुमत दरकिनार कर शोर-शराबे के बीच बिल को पारित करवाया गया। राज्यसभा की परंपरा रही है कि यहां बिल हंगामे के बीच पारित नहीं होता। बिना मत विभाजन के बिल पास करना गैर-कानूनी है।’ उन्होंने कहा कि ये दुर्भाग्य है कि किसानों से जुड़े ये बेहद जरूरी बिल बिना मतदान के एक-एक कर पारित कर दिये गये।

गुलाम नबी आजाद ने कहा कि, ‘हमने राष्ट्रपति जी को चिट्ठी लिखकर ये अपील की है कि ये बिल बिना संसदीय प्रक्रियाओं का पालन किये बिना पारित हुए हैं, इसलिए वे इन विधेयकों पर स्वीकृति ना दें।’

रविवार को राज्य सभा में कृषि से जुड़े दो विधेयक पारित होने के दौरान हुए हंगामे के बाद सोमवार को 8 विपक्षी सांसदों को निलंबित कर दिया गया। जिसके बाद मंगलवार को कांग्रेस समेत विपक्षी दलों ने राज्य सभा सत्र का बहिष्कार कर दिया था। निलंबित राज्य सभा सांसदों का निलंबन वापस लेने और एमएसपी की गारंटी वाला कानून लाने की मांग के साथ बुधवार को विपक्षी दलों ने लोक सभा सत्र का भी बहिष्कार कर दिया।

लोक सभा से कांग्रेस सांसद रवनीत सिंह बिट्टू ने कहा कि कांग्रेस इन विधेयकों के खिलाफ देश भर में बड़े आंदोलन की तैयारी कर रही है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि, ‘देश के किसानों का आंदोलन और मोदी सरकार पर खेती को खत्म करने के षड़यंत्र का इल्जाम सही है। क्योंकि अब मोदी सरकार एमएसपी प्रणाली और कृषि लागत और मूल्य आयोग को ही खत्म कर देना चाहती है। कृषि लागत और मूल्य आयोग का झूठ उनके कागजात से पकड़ा गया।’ सुरजेवाला ने कहा कि सरकार के पास हमारे किसी सवाल का जवाब नहीं है।

इसके साथ ही कृषि विधेयकों के खिलाफ संसद भवन के अंदर कांग्रेस समेत विपक्षी दलों ने प्रदर्शन किया। सांसदों ने शांतिपूर्वक तरीके से गांधी प्रतिमा से अंबेडकर प्रतिमा तक कृषि और मजदूरों से जुड़े विधेयकों के खिलाफ पोस्टर लेकर मार्च भी निकाला।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

किसान महापंचायत की गूंज, दक्षिण भारत में भी

किसान महापंचायत की गूंज दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में भी सुनाई दी, BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत समेत दूसरे किसान...

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर से किसानों का फूटा ग़ुस्सा

किसान आंदोलन को लगभग 4 महीने होने को आए, किसान सरकार की बेरुख़ी और उनकी माँग अनसुनी करने को लेकर काफ़ी ख़फ़ा...

किसान आंदोलन: राजनीति या आजीविका की लड़ाई?

किसान आंदोलन देश के अलग अलग राज्यों में बढ़ता जा रहा है, जिन ५ राज्यों में चुनाव है वहाँ केंद्र में सत्ताधारी...