प्याज की कीमतों में उछाल जारी, केंद्र सरकार ने तय की स्टॉक लिमिट

‘पगड़ी संभाल दिवस’ पर किसानों के मन की बात

भारत भूमि बचाओ संघर्ष समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष रमेश दलाल से हिंद किसान की ख़ास बातचीत।1907 में ब्रिटिश हुकूमत से किसानों की...

आने वाले दिनो में कैसा होगा किसान आंदोलन का स्वरूप?

किसान शक्ति संघ के अध्यक्ष चौधरी पुष्पेंद्र सिंह से हिंद किसान की ख़ास बातचीत। कृषि क़ानून के विरोध में किसान आंदोलन को...

क्या है MNREGA से जुड़े factual डिटेल्ज़?

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने १२ फ़रवरी को राज्यसभा में बजट पर जवाब देते हुए मनरेगा के बजट में की गयी कटौती...

‘अन्नदाता का इमोशनल कार्ड ना खेलें’ क्या है इसका सीधा जवाब!

कृषि नीति एक्स्पर्ट #DevinderSharma​ से ख़ास बातचीत, ज़रूर सुनें और समझ बनाएँ। ‘अन्नदाता का इमोशनल कार्ड मत खेलिए’ किसान फसल उगाता है...

फ़सल की MSP की गारंटी पर बात कैसे बने?

राहुल गांधी ने सदन में ११ फ़रवरी को कृषि क़ानून को लेकर सरकार के content और इंटेंट पर जवाब देते हुए तीखा...

देश में प्याज की कीमतें एक बार फिर आसमान छू रही हैं। खुदरा बाजार में प्याज की कीमत 70 से 90 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गई। प्याज की कीमतों में आए उछाल ने खरीदार से लेकर सरकार तक की परेशानियां बढ़ा दी है। बढ़ती कीमतों पर काबू पाने के लिए केंद्र सरकार ने प्याज पर स्टॉक लिमिट लाग दी है। उपभोक्ता मामलों के विभाग की सचिव लीना नंदन ने शुक्रवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि नए नियमों के तहत थोक कारोबारियों को अब 25 टन प्याज का स्टॉक रखने की इजाजत होगी। जबकि खुदरा व्यापारियों के लिए स्टॉक लिमिट दो टन निर्धारित की गई है। प्याज की ये स्टॉक लिमिट 31 दिसंबर 2020 तक लागू रहेगी।

इससे पहले प्याज की कीमतों को काबू में करने के लिए सरकार ने निर्यात पर रोक लगा दी थी। उपभोक्ता मामले के विभाग की सचिव लीना नंदन ने कहा कि सभी राज्यों को उनकी जरूरत के मुताबिक प्याज की आपूर्ती की गई है। अब तक 35 हजार टन प्याज कीमतों में निश्चित स्थिरता बनाए रखने के लिए दिया गया है।  उन्होंने प्याज की जमाखोरी करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने की भी बात कही सचिव लीना नंदन ने कहा, ‘बेमौसम बारिश की वजह से प्याज की फसल बर्बाद हुई, जमाखोरों की वजह से अचानक प्याज की कीमतों में बढ़तरी आई है जमाखोरों पर कार्रवाई की जाएगी।’

केंद्र सरकार ने 14 सितंबर से प्याज के निर्यात पर पाबंदी लगा रखी है, बावजूद इसके प्याज की कीमतों में लगातार उछाल आ रहा है। सरकार के मुताबिक उनके पास एक लाख टन का बफर स्टॉक है, जिसे योजनाबद्ध तरीके से जारी किया जा रहा है।

इसके अलावा सरकार प्याज आयात की भी तैयारी कर रही है। इसके लिए आयात के नियमों में भी ढील दी गई है। हालांकि प्याज की बढ़ती कीमतों का किसानों को लाभ नहीं मिल पा रहा है। किसानों के मुताबिक वो पहले ही कम दामों में प्याज बेच चुके हैं और अब जमाखोर मुनाफे के साथ ज्यादा कीमत पर प्याज को बेच रहे हैं।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

‘पगड़ी संभाल दिवस’ पर किसानों के मन की बात

भारत भूमि बचाओ संघर्ष समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष रमेश दलाल से हिंद किसान की ख़ास बातचीत।1907 में ब्रिटिश हुकूमत से किसानों की...

आने वाले दिनो में कैसा होगा किसान आंदोलन का स्वरूप?

किसान शक्ति संघ के अध्यक्ष चौधरी पुष्पेंद्र सिंह से हिंद किसान की ख़ास बातचीत। कृषि क़ानून के विरोध में किसान आंदोलन को...

क्या है MNREGA से जुड़े factual डिटेल्ज़?

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने १२ फ़रवरी को राज्यसभा में बजट पर जवाब देते हुए मनरेगा के बजट में की गयी कटौती...