प्याज की कीमतों में उछाल जारी, केंद्र सरकार ने तय की स्टॉक लिमिट

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...

किसान क्यूँ कर रहे हैं साइलोज़ का बहिष्कार?

हरियाणा हो या पंजाब, किसान अडानी के Silos में अपनी फसल देने से इंकार कर रहे हैं, हालाँकि Adani Agro Logistics का...

हरियाणा में फसल ख़रीदी को लेकर किसानों के अनुभव

हरियाणा में 1 April 2021 से गेहूँ की ख़रीदी शुरू हो गयी है लेकिन किसान मंडी में बारदाने की कमी से लेकर...

देश में प्याज की कीमतें एक बार फिर आसमान छू रही हैं। खुदरा बाजार में प्याज की कीमत 70 से 90 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गई। प्याज की कीमतों में आए उछाल ने खरीदार से लेकर सरकार तक की परेशानियां बढ़ा दी है। बढ़ती कीमतों पर काबू पाने के लिए केंद्र सरकार ने प्याज पर स्टॉक लिमिट लाग दी है। उपभोक्ता मामलों के विभाग की सचिव लीना नंदन ने शुक्रवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि नए नियमों के तहत थोक कारोबारियों को अब 25 टन प्याज का स्टॉक रखने की इजाजत होगी। जबकि खुदरा व्यापारियों के लिए स्टॉक लिमिट दो टन निर्धारित की गई है। प्याज की ये स्टॉक लिमिट 31 दिसंबर 2020 तक लागू रहेगी।

इससे पहले प्याज की कीमतों को काबू में करने के लिए सरकार ने निर्यात पर रोक लगा दी थी। उपभोक्ता मामले के विभाग की सचिव लीना नंदन ने कहा कि सभी राज्यों को उनकी जरूरत के मुताबिक प्याज की आपूर्ती की गई है। अब तक 35 हजार टन प्याज कीमतों में निश्चित स्थिरता बनाए रखने के लिए दिया गया है।  उन्होंने प्याज की जमाखोरी करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने की भी बात कही सचिव लीना नंदन ने कहा, ‘बेमौसम बारिश की वजह से प्याज की फसल बर्बाद हुई, जमाखोरों की वजह से अचानक प्याज की कीमतों में बढ़तरी आई है जमाखोरों पर कार्रवाई की जाएगी।’

केंद्र सरकार ने 14 सितंबर से प्याज के निर्यात पर पाबंदी लगा रखी है, बावजूद इसके प्याज की कीमतों में लगातार उछाल आ रहा है। सरकार के मुताबिक उनके पास एक लाख टन का बफर स्टॉक है, जिसे योजनाबद्ध तरीके से जारी किया जा रहा है।

इसके अलावा सरकार प्याज आयात की भी तैयारी कर रही है। इसके लिए आयात के नियमों में भी ढील दी गई है। हालांकि प्याज की बढ़ती कीमतों का किसानों को लाभ नहीं मिल पा रहा है। किसानों के मुताबिक वो पहले ही कम दामों में प्याज बेच चुके हैं और अब जमाखोर मुनाफे के साथ ज्यादा कीमत पर प्याज को बेच रहे हैं।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...