इफको बाजार और एसबीआई योनो कृषि ऐप एक साथ मिल कर करेंगे काम

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...

किसान क्यूँ कर रहे हैं साइलोज़ का बहिष्कार?

हरियाणा हो या पंजाब, किसान अडानी के Silos में अपनी फसल देने से इंकार कर रहे हैं, हालाँकि Adani Agro Logistics का...

हरियाणा में फसल ख़रीदी को लेकर किसानों के अनुभव

हरियाणा में 1 April 2021 से गेहूँ की ख़रीदी शुरू हो गयी है लेकिन किसान मंडी में बारदाने की कमी से लेकर...

इंडियन फार्मर फर्टिलाइजर कॉपरेटिव यानी इफको की ई-कॉमर्स इकाई ‘इफको बाजार’ और एसबीआई योनो कृषि एक साथ मिल कर काम करेगी। शुक्रवार को दोनों के बीच हुए समझौते का ऐलान किया गया। किसानों की जरूरतें पूरी करने वाले पोर्टल एसबीआई योनो कृषि और इफको बाजार की साझेदारी से किसानों तक कृषि उत्पाद की उपलब्धता सुनिश्चित हो सकेगी।

देश में ई-कॉमर्स के क्षेत्र में तेजी से बढ़ते हुए इफको बाजार का पोर्टल, 12 भारतीय भाषाओं में मौजूद है। यह पोर्टल पूरे देश में घर बैठे उत्पादों की आपूर्ति सुनिश्चित करता है। देश के 26 राज्यों में इसके 1200 से ज्यादा स्टोर्स हैं। विशेष उर्वरक, जैविक कृषि उत्पाद, बीज, कृषि रसायन, कृषि मशीन जैसे कई उत्पाद पोर्टल के जरिये उपलब्ध कराये जाते हैं।

इस मौके पर इफको के प्रबंध निदेशक डॉ उदय शंकर अवस्थी ने कहा कि ”इफको और एसबीआई भारत की दो पुरानी व्यावसायिक संस्थाएं हैं। दोनों संस्थाओं के नाम में ‘आई’ अक्षर है, जो इंडिया का सूचक है। भारत की दोनों संस्थाएं किसानों के बेहतर भविष्य के लिए मिलकर काम कर सकती हैं।”

उन्होंने ये भी कहा कि ‘भारतीय किसानों की आय दोगुनी करने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपने को साकार करना हमारा लक्ष्य है। पोर्टल के जरिये किसान गुणवत्तापूर्ण सब्सिडी रहित उर्वरक के साथ-साथ कृषि आदान भी मंगा सकते हैं। साथ ही हेल्पलाइन और किसान फोरम के जरिये उनके प्रश्नों का उत्तर भी मिल सकता हैं।’

इफको के विपणन निदेशक योगेंद्र कुमार ने कहा कि ‘किसानों के लिए वित्त और उर्वरक दोनों महत्वपूर्ण हैं। इस साझेदारी से अपने-अपने क्षेत्र की दो सबसे बड़ी संस्थाओं (एसबीआई योनो और इफको बाजार) की साझेदारी से किसानों को घर पर गुणवत्तापूर्ण कृषि आदान उपलब्ध हो सकेंगे।’ उन्होंने यह भी कहा कि ‘इस साझेदारी के माध्यम से ग्रामीण भारत में मजबूत ब्रांड इक्विटी का लाभ उठाते हुए हम एक भरोसेमंद पारितंत्र विकसित कर सकेंगे और इससे किसानों की निवेश लागत कम करने में भी मदद मिलेगी।’

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...