इफको बाजार और एसबीआई योनो कृषि ऐप एक साथ मिल कर करेंगे काम

किसान आंदोलन: पूरे हुए 4 महीने, क्या हुआ हासिल?

कृषि क़ानूनों का विरोध और MSP की गारंटी की माँग को लेकर देश भर में संयुक्त किसान मोर्चा ने आंदोलन के 120...

किसान महापंचायत की गूंज, दक्षिण भारत में भी

किसान महापंचायत की गूंज दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में भी सुनाई दी, BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत समेत दूसरे किसान...

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर से किसानों का फूटा ग़ुस्सा

किसान आंदोलन को लगभग 4 महीने होने को आए, किसान सरकार की बेरुख़ी और उनकी माँग अनसुनी करने को लेकर काफ़ी ख़फ़ा...

किसान आंदोलन: राजनीति या आजीविका की लड़ाई?

किसान आंदोलन देश के अलग अलग राज्यों में बढ़ता जा रहा है, जिन ५ राज्यों में चुनाव है वहाँ केंद्र में सत्ताधारी...

कृषि आंदोलन: क्या है किसानों का मूड?

कृषि आंदोलन को 115 दिन होने को आए, इस बीच ये आंदोलन पंजाब-हरियाणा- उत्तर प्रदेश-राजस्थान-मध्य प्रदेश के बाद अब उन राज्यों में...

इंडियन फार्मर फर्टिलाइजर कॉपरेटिव यानी इफको की ई-कॉमर्स इकाई ‘इफको बाजार’ और एसबीआई योनो कृषि एक साथ मिल कर काम करेगी। शुक्रवार को दोनों के बीच हुए समझौते का ऐलान किया गया। किसानों की जरूरतें पूरी करने वाले पोर्टल एसबीआई योनो कृषि और इफको बाजार की साझेदारी से किसानों तक कृषि उत्पाद की उपलब्धता सुनिश्चित हो सकेगी।

देश में ई-कॉमर्स के क्षेत्र में तेजी से बढ़ते हुए इफको बाजार का पोर्टल, 12 भारतीय भाषाओं में मौजूद है। यह पोर्टल पूरे देश में घर बैठे उत्पादों की आपूर्ति सुनिश्चित करता है। देश के 26 राज्यों में इसके 1200 से ज्यादा स्टोर्स हैं। विशेष उर्वरक, जैविक कृषि उत्पाद, बीज, कृषि रसायन, कृषि मशीन जैसे कई उत्पाद पोर्टल के जरिये उपलब्ध कराये जाते हैं।

इस मौके पर इफको के प्रबंध निदेशक डॉ उदय शंकर अवस्थी ने कहा कि ”इफको और एसबीआई भारत की दो पुरानी व्यावसायिक संस्थाएं हैं। दोनों संस्थाओं के नाम में ‘आई’ अक्षर है, जो इंडिया का सूचक है। भारत की दोनों संस्थाएं किसानों के बेहतर भविष्य के लिए मिलकर काम कर सकती हैं।”

उन्होंने ये भी कहा कि ‘भारतीय किसानों की आय दोगुनी करने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपने को साकार करना हमारा लक्ष्य है। पोर्टल के जरिये किसान गुणवत्तापूर्ण सब्सिडी रहित उर्वरक के साथ-साथ कृषि आदान भी मंगा सकते हैं। साथ ही हेल्पलाइन और किसान फोरम के जरिये उनके प्रश्नों का उत्तर भी मिल सकता हैं।’

इफको के विपणन निदेशक योगेंद्र कुमार ने कहा कि ‘किसानों के लिए वित्त और उर्वरक दोनों महत्वपूर्ण हैं। इस साझेदारी से अपने-अपने क्षेत्र की दो सबसे बड़ी संस्थाओं (एसबीआई योनो और इफको बाजार) की साझेदारी से किसानों को घर पर गुणवत्तापूर्ण कृषि आदान उपलब्ध हो सकेंगे।’ उन्होंने यह भी कहा कि ‘इस साझेदारी के माध्यम से ग्रामीण भारत में मजबूत ब्रांड इक्विटी का लाभ उठाते हुए हम एक भरोसेमंद पारितंत्र विकसित कर सकेंगे और इससे किसानों की निवेश लागत कम करने में भी मदद मिलेगी।’

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

किसान महापंचायत की गूंज, दक्षिण भारत में भी

किसान महापंचायत की गूंज दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में भी सुनाई दी, BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत समेत दूसरे किसान...

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर से किसानों का फूटा ग़ुस्सा

किसान आंदोलन को लगभग 4 महीने होने को आए, किसान सरकार की बेरुख़ी और उनकी माँग अनसुनी करने को लेकर काफ़ी ख़फ़ा...

किसान आंदोलन: राजनीति या आजीविका की लड़ाई?

किसान आंदोलन देश के अलग अलग राज्यों में बढ़ता जा रहा है, जिन ५ राज्यों में चुनाव है वहाँ केंद्र में सत्ताधारी...