31 अक्टूबर तक कोल्ड सेटोरेज खाली करने का दबाव बढ़ा तो होगा आंदोलन – किसान

अगर प्रशासन 31 अक्टूबर तक कोल्ड स्टोरेज खाली करने का दबाव बनाता है तो आंदोलन होगा

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...

किसान क्यूँ कर रहे हैं साइलोज़ का बहिष्कार?

हरियाणा हो या पंजाब, किसान अडानी के Silos में अपनी फसल देने से इंकार कर रहे हैं, हालाँकि Adani Agro Logistics का...

हरियाणा में फसल ख़रीदी को लेकर किसानों के अनुभव

हरियाणा में 1 April 2021 से गेहूँ की ख़रीदी शुरू हो गयी है लेकिन किसान मंडी में बारदाने की कमी से लेकर...

उत्तर प्रदेश सरकार के 31 अक्टूबर तक कोल्ड स्टोरेज खाली करने के फैसले से आलू किसान खासे नाराज हैं। आगरा जिले में किसानों और कोल्ड स्टोरेज संचालकों ने जिलाधिकारी आवास पर बैठक की और सरकार से कोल्ड स्टोरेज में आलू रखने की सीमा 30 नवंबर तक किए जाने की मांग की।

किसानों का कहना है कि फिलहाल आलू समेत रबी फसलों की बुआई का वक्त चल रहा है। हमें आलू के बीज की जरूरत पड़ती है, साथ ही हम लोग बुआई में लगे हैं ऐसे में अगर कोल्ड स्टोरेज से आलू निकाल दिए तो हम कहां ले जाएंगे। हमें मजबूरन कम कीमत पर व्यापारियों को आलू बेचना पड़ेगा।

भारतीय किसान संघ के प्रान्त अध्यक्ष मोहन सिंह चाहर ने कहा कि ‘अछनेरा मंडी में एक अक्टूबर से धान खरीद केंद्र बने हैं लेकिन एक दाना भी नहीं खरीदा गया। किसान न्यूनतम समर्थन मूल्य से बेहद कम कीमत पर फसल बेचने को मजबूर हैं। बाजरा, दलहन की फसलों के लिए तो खरीद केंद्र खुले तक नहीं। उस पर सरकार का आलू के कोल्ड स्टोरेज खाली करने का फैसला किसानों के लिए बड़ी समस्या है।’ उन्होंने आलू भंडारण की अवधि 30 नवंबर तक किए जाने की मांग की।

किसान नेताओं ने कहा कि अगर प्रशासन किसानों पर 31 अक्टूबर तक आलू निकासी का दबाव बनाता है तो बड़ा आंदोलन किया जाएगा। हालांकि प्रशासन ने किसानों की समस्याओं पर विचार कर जल्द ही यह समस्या दूर करने का भरोसा दिलाया।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...