हरियाणा में बाजरा खरीद में तेजी लाएगी सरकार, योगेंद्र यादव बोले रंग लाई कोशिश

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...

किसान क्यूँ कर रहे हैं साइलोज़ का बहिष्कार?

हरियाणा हो या पंजाब, किसान अडानी के Silos में अपनी फसल देने से इंकार कर रहे हैं, हालाँकि Adani Agro Logistics का...

हरियाणा में फसल ख़रीदी को लेकर किसानों के अनुभव

हरियाणा में 1 April 2021 से गेहूँ की ख़रीदी शुरू हो गयी है लेकिन किसान मंडी में बारदाने की कमी से लेकर...

किसान आंदोलन के बीच हरियाणा में बाजरा किसानों को तमाम मुश्किलों का सामना करना पड़ा रहा है। कहीं खरीद में देरी तो कहीं मंडी में अव्यवस्था से किसान परेशान हैं। हरियाणा सरकार ने अब बाजरा खरीद के लिए टोकन बढ़ाने का निर्देश दिया है। इससे पहले कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में शामिल स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने राज्य की कई मंडियों का दौरा कर बाजरा किसानों की मुश्किलों से संबंधित एक रिपोर्ट हरियाणा के कृषि मंत्री जेपी दलाल को सौंपी थी। जिसमें किसानों के सामने आ रही परेशानियों और उनके समाधान का जिक्र था।

खट्टर सरकार के बाजरा खरीद के लिए टोकन बढ़ाने के निर्देश पर योगेंद्र यादव ने कहा, ‘ये दक्षिण हरियाणा के किसानों के लिए खुशखबरी है। हमने 7 जिलों की 12 मंडियों का दौरा कर रिपोर्ट बनाकर कृषि मंत्री जेपी दलाल को सौंपी थी। हमारी मांग को सरकार ने माना और ये भी माना कि खरीद के लिए टोकन कम थे जो अब कम से कम तीन गुना बढ़ाने की बात सरकार ने कही है।’

योगेंद्र यादव ने कहा कि हालांकि अभी भी किसानों के सामने खरीद की लिमिट, खरीद का वक्त और भुगतान जैसी कई समस्याएं हैं लेकिन यह बात तय है कि किसान एकजुट होकर अपनी ताकत दिखाए तो सरकार को उनकी बात माननी ही होगी। बाजरा खरीद को लेकर रेवाड़ी में मंडी के बाहर किसान कई दिनों से प्रदर्शन भी कर रहे हैं। ये किसान खट्टर सरकार से फसल खरीद में तेजी लाने और जल्द भुगतान की मांग कर रहे हैं।

हरियाणा में बाजरा का न्यूनतम समर्थन मूल्य 2 हजार 150 रुपये प्रति क्विंटल है। खट्टर सरकार ने किसानों से एक- एक दाना खरीदने का वादा भी किया है।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...