हरियाणा में बाजरा खरीद में तेजी लाएगी सरकार, योगेंद्र यादव बोले रंग लाई कोशिश

किसान आंदोलन: पूरे हुए 4 महीने, क्या हुआ हासिल?

कृषि क़ानूनों का विरोध और MSP की गारंटी की माँग को लेकर देश भर में संयुक्त किसान मोर्चा ने आंदोलन के 120...

किसान महापंचायत की गूंज, दक्षिण भारत में भी

किसान महापंचायत की गूंज दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में भी सुनाई दी, BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत समेत दूसरे किसान...

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर से किसानों का फूटा ग़ुस्सा

किसान आंदोलन को लगभग 4 महीने होने को आए, किसान सरकार की बेरुख़ी और उनकी माँग अनसुनी करने को लेकर काफ़ी ख़फ़ा...

किसान आंदोलन: राजनीति या आजीविका की लड़ाई?

किसान आंदोलन देश के अलग अलग राज्यों में बढ़ता जा रहा है, जिन ५ राज्यों में चुनाव है वहाँ केंद्र में सत्ताधारी...

कृषि आंदोलन: क्या है किसानों का मूड?

कृषि आंदोलन को 115 दिन होने को आए, इस बीच ये आंदोलन पंजाब-हरियाणा- उत्तर प्रदेश-राजस्थान-मध्य प्रदेश के बाद अब उन राज्यों में...

किसान आंदोलन के बीच हरियाणा में बाजरा किसानों को तमाम मुश्किलों का सामना करना पड़ा रहा है। कहीं खरीद में देरी तो कहीं मंडी में अव्यवस्था से किसान परेशान हैं। हरियाणा सरकार ने अब बाजरा खरीद के लिए टोकन बढ़ाने का निर्देश दिया है। इससे पहले कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में शामिल स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने राज्य की कई मंडियों का दौरा कर बाजरा किसानों की मुश्किलों से संबंधित एक रिपोर्ट हरियाणा के कृषि मंत्री जेपी दलाल को सौंपी थी। जिसमें किसानों के सामने आ रही परेशानियों और उनके समाधान का जिक्र था।

खट्टर सरकार के बाजरा खरीद के लिए टोकन बढ़ाने के निर्देश पर योगेंद्र यादव ने कहा, ‘ये दक्षिण हरियाणा के किसानों के लिए खुशखबरी है। हमने 7 जिलों की 12 मंडियों का दौरा कर रिपोर्ट बनाकर कृषि मंत्री जेपी दलाल को सौंपी थी। हमारी मांग को सरकार ने माना और ये भी माना कि खरीद के लिए टोकन कम थे जो अब कम से कम तीन गुना बढ़ाने की बात सरकार ने कही है।’

योगेंद्र यादव ने कहा कि हालांकि अभी भी किसानों के सामने खरीद की लिमिट, खरीद का वक्त और भुगतान जैसी कई समस्याएं हैं लेकिन यह बात तय है कि किसान एकजुट होकर अपनी ताकत दिखाए तो सरकार को उनकी बात माननी ही होगी। बाजरा खरीद को लेकर रेवाड़ी में मंडी के बाहर किसान कई दिनों से प्रदर्शन भी कर रहे हैं। ये किसान खट्टर सरकार से फसल खरीद में तेजी लाने और जल्द भुगतान की मांग कर रहे हैं।

हरियाणा में बाजरा का न्यूनतम समर्थन मूल्य 2 हजार 150 रुपये प्रति क्विंटल है। खट्टर सरकार ने किसानों से एक- एक दाना खरीदने का वादा भी किया है।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

किसान महापंचायत की गूंज, दक्षिण भारत में भी

किसान महापंचायत की गूंज दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में भी सुनाई दी, BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत समेत दूसरे किसान...

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर से किसानों का फूटा ग़ुस्सा

किसान आंदोलन को लगभग 4 महीने होने को आए, किसान सरकार की बेरुख़ी और उनकी माँग अनसुनी करने को लेकर काफ़ी ख़फ़ा...

किसान आंदोलन: राजनीति या आजीविका की लड़ाई?

किसान आंदोलन देश के अलग अलग राज्यों में बढ़ता जा रहा है, जिन ५ राज्यों में चुनाव है वहाँ केंद्र में सत्ताधारी...