नए कृषि कानून के तहत भुगतान में विवाद का मामला सामने आया

महाराष्ट्र के किसान जितेंद्र मोर्श ने जुलाई में नए कृषि कानून के तहत मध्य प्रदेश के व्यापारी को अपनी मक्का बेची थी, लेकिन वह अब व्यापारी से संपर्क नहीं हो पा रहा है.

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...

किसान क्यूँ कर रहे हैं साइलोज़ का बहिष्कार?

हरियाणा हो या पंजाब, किसान अडानी के Silos में अपनी फसल देने से इंकार कर रहे हैं, हालाँकि Adani Agro Logistics का...

हरियाणा में फसल ख़रीदी को लेकर किसानों के अनुभव

हरियाणा में 1 April 2021 से गेहूँ की ख़रीदी शुरू हो गयी है लेकिन किसान मंडी में बारदाने की कमी से लेकर...

केंद्र सरकार द्वारा लागू कृषि से जुड़े तीन नये कानूनों को लेकर किसानों की आशंका सही साबित होने के मामले सामने आने लगे हैं। महाराष्ट्र के धुले जिले में नए कानून के तहत मक्का किसान के साथ भुगतान में विवाद होने का मामला सामने आया है। फसल बेचने के तीन दिन के भीतर भुगतान करने का कानूनी प्रावधान होने के बावजूद किसान करीब ढाई माह से अपने पैसे मिलने का इंतजार कर रहा है। देश में नये कृषि कानून अध्यादेश के जरिये पांच जून से ही लागू हो चुके हैं और अब इन अध्यादेशों का स्थान संसद में विधेयकों के पारित होने के बाद बने कानून ले चुके हैं। महाराष्ट्र के धुले जिले के शिरपुर तहसील के किसान जितेंद्र मोर्श ने 19 जुलाई को मध्य प्रदेश के बड़वानी जिले के व्यापारी सुभाषलाल वाणी को 270 क्विंटल मक्का बेचा था. लेकिन लगभग ढाई महीने का समय बीतने के बावजूद किसान को अब तक अपने 3,32,617 रुपये का भुगतान नहीं मिल पाया है. हिंद किसान के साथ बातचीत में जितेंद्र मोर्श ने बताया कि उन्होंने मध्य प्रदेश से आए व्यापारी को नए कानून के तहत 1,240 रुपये प्रति क्विंटल की दर से 270 क्विंटल मक्का बेचा था, नये कानूनों के मुताबिक मुझे तीन दिन के भीतर भुगतान मिल जाना चाहिए था लेकिन अभी तक 3,32,617 रुपये का भुगतान नहीं हुआ है और संबंधित व्यापारी ने जो फोन नंबर दिया था, वह अब स्विच ऑफ आ रहा है, मैं उससे संपर्क भी नहीं कर पा रहा हूं।

सरकार कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) कानून-2020 के जरिए किसानों को कृषि उपज मंडी समिति (एमपीएमसी) की मंडियों में फसल बेचने से आजादी दिलाने और देश में कहीं भी अपनी फसलें बेचने की सुविधा देने के दावे कर रही है. इसके तहत कोई भी व्यक्ति महज स्थायी खाता संख्या (पैनकार्ड) के आधार पर किसानों से कही भी उनकी फसलें खरीद सकता है। इसमें किसान से फसल खरीदने पर उसी दिन या विशेष परिस्थितियों में अधिकतम तीन दिन के भीतर भुगतान करने का नियम है। अगर इसमें कहीं कोई विवाद होता है तो किसान को उपजिलाधिकारी के पास शिकायत करने का अधिकार है. इसके तहत उपजिलाधिकारी एक सुलह बोर्ड बनाता है और मामले का निपटारा करता है। अब इसी प्रावधान के तहत धुले के किसान जितेंद्र मोर्श ने मध्य प्रदेश के बड़वानी जिले में उपजिलाधिकारी के पास शिकायत दर्ज कराई है। इसमें सुलह बोर्ड बनाने की मांग की गई है. जितेंद्र ने अपनी शिकायत के समर्थन में तौल की पर्ची, कच्चा बिल और क्रॉस चेक का नंबर दिया है। हिंद किसान के पास इस शिकायत और कच्चे बिल की कॉपी मौजूद है। इसमें दिए गए व्यापारी के नंबर पर जब हमने संपर्क किया गया तो वह अभी भी स्विच ऑफ बता रहा है।

किसान जितेंद्र ने अपनी शिकायत में दो सुलहकर्ताओं के नाम दिये हैं। इनमें से एक सुलहकर्ता रोहिदास से जब पूरे मामले के बारे में पूछा गया तो उन्होंने केंद्र के नए कृषि कानून को किसानों के साथ फ्रॉड बताया। उन्होंने कहा कि बड़वानी और धुले दोनों बॉर्डर के जिले हैं, व्यापारी ने मध्य प्रदेश से 50 किलोमीटर दूर धुले जाकर किसान से फसल खरीदी और अब गायब हो गया।

वहीं, मध्य प्रदेश में कृषि उपज मंडी समिति से जुड़े एक कर्मचारी ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर बताया कि मंडी में जब कोई किसान अपनी फसल बेचता है तो एपीएमसी एक्ट के तहत उसके भुगतान को पूरी सुरक्षा मिलती है, क्योंकि यहां केवल लाइसेंस लेने के बाद ही कोई व्यापारी खरीद-फरोख्त कर सकता है, लेकिन नए कानून के तहत व्यापारी अब किसानों से कहीं भी कच्चे बिल के साथ खरीदारी कर रहे हैं, इसमें गलत नीयत वाले व्यापारी उनके साथ धोखा भी कर रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि धुले के मामले में व्यापारी ने नए कृषि कानून की धारा-4 की उपधारा-3 का उल्लंघन किया है, उसे किसान को एक पावती देनी चाहिए थी, जो उसने नहीं दी है, शायद भुगतान भी नहीं किया गया हो। मंडी कर्मचारी ने आगे बताया कि नए कृषि कानून की धारा-4 का उल्लंघन करने पर धारा-11 के तहत एसडीएम दोषी व्यापारी के ऊपर 5,000 रुपये से लेकर 5,00,000 रुपये तक जुर्माना लगा सकते हैं।

इस मामले में जब मध्य प्रदेश में राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के प्रदेश अध्यक्ष राहुल राज से पूछा गया तो उन्होंने नए कानून के तहत किसानों के साथ धोखाधड़ी के मामले बढ़ने की आशंका जताई। उन्होंने कहा, ‘नए कानून के तहत व्यापारी का मंडी में कोई पंजीकरण नहीं होता है, ऐसे में अगर कोई व्यापारी किसी किसान के खेत पर फसल खरीदे और बाद में भुगतान का आश्वासन देकर चंपत हो जाए तो किसान क्या करेगा?’ नए कृषि कानून के तहत विवाद निपटाने की व्यवस्था पर राहुल राज ने कहा कि जो अधिकारी नामांतरण का काम तक समय पर नहीं निपटा पाते, वे किसानों की ऐसी शिकायतों को कैसे समय पर निपटाएंगे, प्रशासन उद्योगपतियों और कंपनियों से नहीं लड़ पाएगा, किसानों को सरकारी कार्यालयों के चक्कर लगाने को मजबूर होना पड़ेगा, शिकायतों के निपटाने के नाम पर रिश्वतखोरी बढ़ेगी। किसान नेता राहुल राज ने कहा कि हम लोग गांव-गांव जाकर किसानों को इसी खतरे के प्रति जागरूक कर रहे हैं।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...