सरकार की कोशिश को एक और झटका, किसानों के साथ बातचीत बेनतीजा, कृषि भवन के बाहर प्रदर्शन

कृषि भवन के बाहर निकलते ही किसानों ने नारेबाजी शुरू कर दी और आंदोलन जारी रखने का ऐलान किया।

पंजाब: 5 नवंबर तक रेल रोको आंदोलन में ढील लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन की तैयारी

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब विधान सभा से कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार के विधेयक पारित होने के बाद बुधवार...

कृषि कानून के खिलाफ पंजाब की राह पर राजस्थान

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ लड़ाई में पंजाब की अमरिंदर सरकार ने नई शुरुआत की है। मंगलवार को पंजाब विधान सभा...

Boston Cash Advance Solution. Pay day loan is really a great loan for while you are on the go getting money.

Boston Cash Advance Solution. Pay day loan is really a great loan for while you are on the go getting money. Payday Advances Boston, MA Cash...

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पारित विधेयकों पर क्या कहते हैं किसान नेता

पंजाब की विधानसभा ने मंगलवार को केंद्र के कृषि कानूनों को राज्य में प्रभावहीन करने वाले तीन कृषि विधेयक को सर्वसम्मति से...

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ अमरिंदर सरकार के विधेयक पारित

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब विधानसभा में 4 विधेयक पारित हो गए हैं। विधेयक पेश करते हुए सीएम अमरिंदर सिंह...

कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन को थामने की सरकार की कोशिशें नाकाम साबित हो रही हैं। दिल्ली में केंद्र सरकार और किसानों के बीच बातचीत बेनतीजा साबित हुई। पंजाब से किसान संगठनों का प्रतिनिधिमंडल बुधवार को दिल्ली में सरकार के न्यौते पर पहुंचा लेकिन बैठक में कृषि मंत्री या सरकार के किसी नुमाइंदे के न होने से किसान नाराज हो गए।

कृषि भवन के बाहर निकलते ही किसानों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और कृषि कानूनों की प्रतियां फाड़कर अपना विरोध जताया। हालांकि कुछ देर बाद पुलिस ने किसानों को वहां से हटा दिया।

बैठक में शामिल पंजाब के किसान नेता दर्शनपाल सिंह ने हिंद किसान से कहा, ‘हमने बातचीत का बायकॉट किया है। हम यहां सरकार से बातचीत के लिए आए थे लेकिन कृषि सचिव बातचीत करना चाहते थे। उनके पास फैसले लेने का अधिकार नहीं है तो बातचीत क्यों कि जाए।’

इससे पहले भी कृषि सचिव की तरफ से भेजी गई बातचीत की चिट्ठी को किसानों ने इसी तर्क के साथ ठुकरा दिया था। बैठक के लिए पंजाब से आए किसान नेताओं ने कहा कि किसानों का आंदोलन जारी रहेगा जब तक सरकार यह कानून रद्द नहीं करती।

बैठक में शामिल होने आए भारतीय किसान यूनियन (मानसा) के अध्यक्ष भोग सिंह ने कहा, ‘हमें कृषि मंत्री के साथ बातचीत के लिए बुलाया गया था, इसीलिए हम आए थे। लेकिन बैठक में कृषि सचिव आए। वह हमारे सवालों का ही जवाब नहीं दे सके।’

उन्होंने कहा कि सभी किसान संगठन गुरुवार को चंडीगढ़ में बैठक करेंगे और आंदोलन के आगे की रणनीति तय करेंगे।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

पंजाब: 5 नवंबर तक रेल रोको आंदोलन में ढील लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन की तैयारी

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब विधान सभा से कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार के विधेयक पारित होने के बाद बुधवार...

कृषि कानून के खिलाफ पंजाब की राह पर राजस्थान

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ लड़ाई में पंजाब की अमरिंदर सरकार ने नई शुरुआत की है। मंगलवार को पंजाब विधान सभा...

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पारित विधेयकों पर क्या कहते हैं किसान नेता

पंजाब की विधानसभा ने मंगलवार को केंद्र के कृषि कानूनों को राज्य में प्रभावहीन करने वाले तीन कृषि विधेयक को सर्वसम्मति से...