‘किसान चाहिए या कुर्सी’, डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला से किसानों का सवाल

कृषि कानूनों पर एनडीए से अकाली दल के बाहर होने से बाद से ही हरियाणा के डिप्टी सीएम पर लगातार दवाब बन रहा है। दुष्यंत चौटाला कानूनों की किसानों के हित में बता रहे हैं तो विपक्षी दलों से लेकर किसान लगातार दुष्यंत चौटाला से इस्तीफे की मांग कर रहे हैं।

किसान आंदोलन: पूरे हुए 4 महीने, क्या हुआ हासिल?

कृषि क़ानूनों का विरोध और MSP की गारंटी की माँग को लेकर देश भर में संयुक्त किसान मोर्चा ने आंदोलन के 120...

किसान महापंचायत की गूंज, दक्षिण भारत में भी

किसान महापंचायत की गूंज दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में भी सुनाई दी, BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत समेत दूसरे किसान...

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर से किसानों का फूटा ग़ुस्सा

किसान आंदोलन को लगभग 4 महीने होने को आए, किसान सरकार की बेरुख़ी और उनकी माँग अनसुनी करने को लेकर काफ़ी ख़फ़ा...

किसान आंदोलन: राजनीति या आजीविका की लड़ाई?

किसान आंदोलन देश के अलग अलग राज्यों में बढ़ता जा रहा है, जिन ५ राज्यों में चुनाव है वहाँ केंद्र में सत्ताधारी...

कृषि आंदोलन: क्या है किसानों का मूड?

कृषि आंदोलन को 115 दिन होने को आए, इस बीच ये आंदोलन पंजाब-हरियाणा- उत्तर प्रदेश-राजस्थान-मध्य प्रदेश के बाद अब उन राज्यों में...

देशभर में चल रहे किसान आंदोलन के बीच हरियाणा के सिरसा में आज किसानों ने उप-मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के इस्तीफे की मांग की। सिरसा के दशहरा मैदान में जुटे हरियाणा के अलग-अलग हिस्सों से आए हजारों किसानों ने दुष्यंत चौटाला के साथ-साथ ऊर्जा मंत्री रणजीत सिंह चौटाला के आवास का घेराव करने का भी ऐलान किया। प्रदर्शन में पहुंचे स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने कहा, ‘हरियाणा के कोने-कोने से किसान चौधरी देवीलाल की कर्मभूमि सिरसा पहुंच रहे हैं। किसान सिर्फ एक सवाल पूछ रहे हैं कि किसान चाहिए या कुर्सी?’

किसान आंदोलन के बीच हरियाणा की खट्टर सरकार में शामिल जननायक जनता पार्टी यानी जेजेपी और डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला के लिए लगातार मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। किसानों के प्रदर्शन के ऐलान के साथ ही सिरसा में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। इस बीच मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक दुष्यंत चौटाला बीती रात ही चंडीगढ़ रवाना हो गए हैं। इस पर दुष्यंत को घेरते हुए योगेंद्र यादव ने कहा, ‘जब दुष्यंत चौटाला को समझ आ गया कि वह किसानों के सवालों का जवाब नहीं दे सकते तो चंडीगढ़ भाग गए। घर के बाहर पुलिस और बैरियर खड़े कर दिए। जिस नेता को पुलिस और बेरियर का सहारा लेना पड़े वह जनता का नेता नहीं होता। आज किसान जाएगा मोर्चा लगाएगा। हम चौटाला हाउस की तरफ जाएंगे और दुष्यंत चौटाला के घर के बाहर डेरा डालेंगे।’

सिरसा के दशहरा मैदान में किसानों के प्रदर्शन की तस्वीरें

किसान संगठन लगातार जेजेपी से खट्टर सरकार से समर्थन वापस लेने की मांग कर रहे हैं। जबकि डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला खेती से जुड़े कानूनों को किसानों के हित में होने के दावे कर चुके हैं। किसान संगठन इस बात से बेहद नाराज हैं। योगेंद्र यादव ने कहा, ‘चौधरी दुष्यंत चौटाला और रणजीत सिंह आज बीजेपी की गोदी में बैठ कर सत्ता का सुख भोग रहे हैं। देश का एक भी किसान संगठन और नेता इन कानूनों के समर्थन में नहीं है तब चौधरी देवीलाल के राजनीतिक विरासत का वारिस होने का दावा करने वाले दुष्यंत चौटाला और रणजीत सिंह इन कानूनों के हक में इनकी ढाल बनकर क्यों खड़े हैं? आपको किसान प्यारा है तो त्यागपत्र देकर किसानों के साथ खड़े हों। इस आंदोलन में आकर कानूनों का विरोध करो। अगर आपको सत्ता प्यारी है तो किसान अपना हिसाब कर लेंगे।’

कृषि कानूनों पर बगावती तेवर दिखाते हुए शिरोमणी अकाली दल के एनडीए से अलग होने के साथ ही जेजेपी पर भी दवाब बढ़ गया है। इस बीच कांग्रेस ने दुष्यंत चौटाला से इस्तीफे की मांग शुरू कर दी है। वहीं, जेजेपी में कृषि कानूनों के खिलाफ अंदरूनी कलह भी सामने आ रही है। खबरों के मुताबिक, पार्टी के कई विधायक इन कानूनों के खिलाफ हैं और इस पर दुष्यंत चौटाला के रुख से खासे नाराज हैं।

90 सदस्यों वाली हरियाणा विधान सभा में 10 विधायकों वाली जेजेपी और बीजेपी (40 विधायक) का गठबंधन सत्ता में है। इससे पहले कृषि कानूनों का बचाव और उन्हें किसानों के हित में बताते हुए दुष्यंत चौटाला ने कहा था कि अगर न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी एमएसपी पर कोई आंच आई तो वह इस्तीफा दे देंगे।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

किसान महापंचायत की गूंज, दक्षिण भारत में भी

किसान महापंचायत की गूंज दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में भी सुनाई दी, BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत समेत दूसरे किसान...

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर से किसानों का फूटा ग़ुस्सा

किसान आंदोलन को लगभग 4 महीने होने को आए, किसान सरकार की बेरुख़ी और उनकी माँग अनसुनी करने को लेकर काफ़ी ख़फ़ा...

किसान आंदोलन: राजनीति या आजीविका की लड़ाई?

किसान आंदोलन देश के अलग अलग राज्यों में बढ़ता जा रहा है, जिन ५ राज्यों में चुनाव है वहाँ केंद्र में सत्ताधारी...