यूपी सरकार के फैसले से नाराज किसान, 30 नवंबर तक कोल्ड स्टोरेज में आलू रखे जाने की मांग

किसान आंदोलन: पूरे हुए 4 महीने, क्या हुआ हासिल?

कृषि क़ानूनों का विरोध और MSP की गारंटी की माँग को लेकर देश भर में संयुक्त किसान मोर्चा ने आंदोलन के 120...

किसान महापंचायत की गूंज, दक्षिण भारत में भी

किसान महापंचायत की गूंज दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में भी सुनाई दी, BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत समेत दूसरे किसान...

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर से किसानों का फूटा ग़ुस्सा

किसान आंदोलन को लगभग 4 महीने होने को आए, किसान सरकार की बेरुख़ी और उनकी माँग अनसुनी करने को लेकर काफ़ी ख़फ़ा...

किसान आंदोलन: राजनीति या आजीविका की लड़ाई?

किसान आंदोलन देश के अलग अलग राज्यों में बढ़ता जा रहा है, जिन ५ राज्यों में चुनाव है वहाँ केंद्र में सत्ताधारी...

कृषि आंदोलन: क्या है किसानों का मूड?

कृषि आंदोलन को 115 दिन होने को आए, इस बीच ये आंदोलन पंजाब-हरियाणा- उत्तर प्रदेश-राजस्थान-मध्य प्रदेश के बाद अब उन राज्यों में...

प्याज़ की तरह आलू की कीमतों में भी लगातार उछाल जारी है। खुदरा बाजार में आलू की कीमत 40 से 55 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गई है। ऐसे में आलू की कीमतों पर काबू पाने के लिए उत्तर प्रदेश के उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग ने सभी जिलों में 30 अक्टूबर तक कोल्ड स्टोरेज को खाली करने का आदेश दिया है।

सरकार के इस फैसले से किसान खासे नाराज हैं। किसानों ने इस फैसले के खिलाफ बड़े आंदोलन की चेतावनी भी दी है। किसानों का कहना है कि फिलहाल आलू की बुआई का काम चल रहा है और बुआई के लिए बीज की जरूरत पड़ती है इसलिए आलू कोल्ड स्टोरेज में रखे हैं। ऐसे में कोल्ड स्टोरेज से निकले आलूओं को हम कहां लेकर जाएंगे। किसान इसे सरकार की तानाशाही बता रहे हैं। आगरा जिले के शेखपुरा गांव के रहने वाले किसान लाखन सिंह त्यागी ने हिंद किसान से बातचीत में कहा, ‘हमारे यहां फिलहाल आलू की बुआई चल रही है 15 नवंबर तक हम इस काम में व्यस्त हैं। जब पांच साल से किसान आलू फेंक रहे थे आत्महत्या कर रहे थे, तब सरकार के कानों पर जूं नहीं रेंगी। अब किसानों को दो पैसे बचे तो सरकार किसानों को धमकी दे रही है’

दस एकड़ जमीन पर आलू की खेती करने वाले लाखन सिंह ने बताया की 50 किलो आलू के एक पैकेट को कोल्ड स्टोरेज में रखने का किराया 10 से 15 रुपये सालाना है। उन्होंने कहा कि ‘बुआई के वक्त बीज की कमी न पड़े इसके लिए भी आलू को कोल्ड स्टोरेज में रखा जाता है। अगर हमारे आलू कोल्ड स्टोरेज से बाहर निकाल दिए तो हम अपने खेतों में बुआई करेंगे या फिर आलू बेचेंगे। इस तरह तो हमें व्यापारियों को मनमाने दाम पर आलू बेचने पड़ेंगे। सरकार ने अगर अपना फैसला वापस नहीं लिया तो हम सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन करेंगे।’

किसान सरकार आलू को 30नवंबर कोल्ड स्टोरेज में रखे जाने की मांग कर रहे हैं। आगरा के किसान नेता सोमवीर ने हिंद किसान से कहा, ‘ये सरकार का तानाशाही फैसला है। किसान खेत तैयार कर रहे हैं और सरकार ने किसानों की दिक्कतें बढ़ा दी है। हमारी मांग है कि सरकार किसानों को एक महीने तक और कोल्ड स्टोरेज में आलू रखने की इजाजत दे।’

कॉल्ड स्टोरेज मालिकों का कहना है कि हर साल 31 अक्टूबर तक का कोल्ड स्टोरेज में आलू रखने का अनुबंध होता है, लेकिन हर साल ये वक्त बढ़ कर 30 नवंबर तक हो जाता है। लेकिन इस बार विभाग ने 31 अक्टूबर तक ही अनुबंध करने का आदेश दिया है। विभाग ने सभी कोल्ड स्टोरेज मालिकों से कोल्ड स्टोर में रखे आलू के मालिकों का डेटा मांगा है।

हालांकि, केंद्र सरकार जो तीन कृषि कानून लेकर आई है उनमें से एक आवश्यक वस्तु अनधिनियम में बदलाव के बाद आलू, प्याज और टमाटर को आवश्यक वस्तुओं की सूची से बाहर कर दिया है। यानी इनके भंडारण की सीमा हटा दी गई है, कानून के तहत इन वस्तुओं का ज्यादा भंडारण करने पर जेल नहीं होगी। लेकिन प्याज के मामले में सरकार ने दोबारा स्टॉक लिमिट लगा दी है। नए नियमों के तहत थोक कारोबारियों को अब 25 टन प्याज का स्टॉक रखने की इजाजत है। जबकि खुदरा व्यापारियों के लिए स्टॉक लिमिट दो टन निर्धारित की गई है। यानी सरकार आलू के मामले में भी स्टॉक लिमिट लगा सकती है।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

किसान महापंचायत की गूंज, दक्षिण भारत में भी

किसान महापंचायत की गूंज दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में भी सुनाई दी, BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत समेत दूसरे किसान...

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर से किसानों का फूटा ग़ुस्सा

किसान आंदोलन को लगभग 4 महीने होने को आए, किसान सरकार की बेरुख़ी और उनकी माँग अनसुनी करने को लेकर काफ़ी ख़फ़ा...

किसान आंदोलन: राजनीति या आजीविका की लड़ाई?

किसान आंदोलन देश के अलग अलग राज्यों में बढ़ता जा रहा है, जिन ५ राज्यों में चुनाव है वहाँ केंद्र में सत्ताधारी...