कृषि कानून: 5 नवंबर का प्रदर्शन होगा अब और बड़ा, दिल्ली में कई किसान संगठनों का ऐलान

दिल्ली में जुटे किसान संगठनों ने 5 नवंबर को देशव्यापी प्रदर्शन में शामिल होने के साथ- साथ केंद्र सरकार के कृषि बिलों के खिलाफ एकजुट होकर हल्ला बोलने का ऐलान किया है।

केंद्र सरकार ने किसानों को मिलने के लिए भेजा न्योता, किसानों ने कहा बैठक के बाद होगा फैसला

कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे पंजाब के किसान संगठनों को एक बार फिर केंद्र सरकार ने मिलने के लिए न्योता...

उत्तर प्रदेश के किसानों का सवाल, आखिर कब और कैसे बिकेगा धान?

उत्तर प्रदेश सरकार लगातार धान बेचने जा रहे किसानों को न्यूनतम खरीद मूल्य यानी एमएसपी का पूरा लाभ देने की बातें कह...

यूपी, एमपी के उपचुनाव में बीजेपी को मिली जीत, बेअसर नजर आए किसानों के मुद्दे

एक तरफ हरियाणा में जहां बीजेपी को किसानों की नाराजगी का सामना बरोदा सीट पर उपचुनाव में हार से करना पड़ा। वहीं,...

हरियाणा: बरोदा उपचुनाव में कांग्रेस की जीत, किसानों ने जो कहा था वही हुआ

हरियाणा की बरोदा विधान सभा उपचुनाव के नतीजे आ गए हैं। यहां कांग्रेस के प्रत्याशी इंदु राज नरवाल ने बीजेपी प्रत्याशी पहलवान...

हरियाणा: खट्टर सरकार ने बढ़ाए गन्ने के दाम, किसानों ने कहा दस रुपये बेहद कम

हरियाणा की खट्टर सरकार ने गन्ने की कीमत में बढ़ोतरी का ऐलान किया है। सोमवार को सीएम मनोहर लाल खट्टर ने गन्ने...

देश के गैर-राजनीतिक किसान संगठनों का दावा करने वाले संगठनों के प्रतिनिधियों ने दिल्ली में बैठक की। यह बैठक केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन की रूपरेखा तय करने के लिए हुई थी। बैठक देश के अलग अलग हिस्सों से किसान संगठनों के प्रतिनिधियों ने शिरकत की जिसमें  मुख्य तौर पर शिव कुमार कक्काजी, जगजीत सिंह दल्लेवाल, केवी बीजू, जसबीर सिंह भट्टी जैसे किसान नेता शामिल हुए।

बैठक के बाद पत्रकारों से बातचीत में संगठनों ने बताया कि सभी संगठन मिलकर कृषि कानूनों के खिलाफ देशव्यापी आंदोलन के लिए अन्य किसान संगठनों के साथ तालमेल बनाएंगे। इस काम के लिए 11 सदस्यों की एक कमेटी भी बनाई गई है।

इसके साथ ही किसान संगठनों ने 5 नवम्बर को होने वाले भारत बंद कार्यक्रम में भी हिस्सा लेने का ऐलान किया। अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति ने देश के कई किसान संगठनों के साथ मिलकर 5 नवंबर को देशभर में चक्का जाम करने का ऐलान किया है।

इसके साथ ही जंतर मंतर पर जुटे किसान संगठनों ने दिल्ली घेराव के कार्यक्रम की रणनीति बनाने के लिए ऑल इंडिया किसान कॉर्डिनेशन कमेटी समेत अन्य संगठनों के साथ बातचीत करने की भी बात कही।   किसान संगठनों ने पत्रकार वार्ता में दोहराया कि केंद्र सरकार के तीन कृषि कानून किसान विरोधी हैं जो सिर्फ कॉरपोरेट के फायदे के लिए बनाए गए हैं। किसान संगठनों ने पंजाबी की तर्ज पर अम्बानी-अडानी जैसी कंपनियों के उत्पादों के बहिष्कार का भी ऐलान किया।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

केंद्र सरकार ने किसानों को मिलने के लिए भेजा न्योता, किसानों ने कहा बैठक के बाद होगा फैसला

कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे पंजाब के किसान संगठनों को एक बार फिर केंद्र सरकार ने मिलने के लिए न्योता...

उत्तर प्रदेश के किसानों का सवाल, आखिर कब और कैसे बिकेगा धान?

उत्तर प्रदेश सरकार लगातार धान बेचने जा रहे किसानों को न्यूनतम खरीद मूल्य यानी एमएसपी का पूरा लाभ देने की बातें कह...

यूपी, एमपी के उपचुनाव में बीजेपी को मिली जीत, बेअसर नजर आए किसानों के मुद्दे

एक तरफ हरियाणा में जहां बीजेपी को किसानों की नाराजगी का सामना बरोदा सीट पर उपचुनाव में हार से करना पड़ा। वहीं,...