गुजरात से कर्नाटक तक कृषि कानूनों का विरोध तेज

केंद्र सरकार के आश्वासन के बावजूद तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन लगातार जारी है

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...

किसान क्यूँ कर रहे हैं साइलोज़ का बहिष्कार?

हरियाणा हो या पंजाब, किसान अडानी के Silos में अपनी फसल देने से इंकार कर रहे हैं, हालाँकि Adani Agro Logistics का...

हरियाणा में फसल ख़रीदी को लेकर किसानों के अनुभव

हरियाणा में 1 April 2021 से गेहूँ की ख़रीदी शुरू हो गयी है लेकिन किसान मंडी में बारदाने की कमी से लेकर...

दिल्ली, पंजाब और उत्तर प्रदेश के अलावा गुजरात और कर्नाटक में केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन देखने को मिला. कर्नाटक में किसान संगठनों ने सोमवार को राज्यव्यापी बंद बुलाया और सड़कों पर उतर कर आंदोलन किया. कर्नाटक रायतू संघ और हसीरू सेने के कार्यकर्ताओं और किसानों ने बेंगलुरु में प्रदर्शन किया. किसानों के प्रदेश बंद का खासा असर देखा जा रहा है. सड़कों पर सन्नाटा पसरा है. सुरक्षा के मद्देनजर भारी संख्या में पुलिस बल को तैनात किया गया है.

कर्नाटक में किसान संगठनों के अलावा विपक्षी दल भी प्रदर्शन कर रहे हैं.जनता दल सेक्युलर (जेडीएस) के कार्यकर्ताओं ने शिवमोगा में बाइक रैली निकाली. हालांकि, पुलिस ने इन कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया. इसके अलावा कांग्रेस ने भी पार्टी दफ्तर के सामने प्रदर्शन किया. इसमें प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष डीके शिवकुमार के अलावा प्रार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला और प्रदेश के पूर्व सीएम सिद्धारमैया भी मौजूद रहे.

तमिलनाडु में डीएमके ने कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन किया. पार्टी अध्यक्ष एमके स्टालिन ने कांचीपुरम में कृषि कानूनों के खिलाफ जारी प्रदर्शन में हिस्सा लिया.

वहीं, गुजरात में कांग्रेस कार्यकर्ता कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं. गांधीनगर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जोरदार प्रदर्शन किया. गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अमित चावड़ा ने केंद्र के कृषि कानूनों को किसान विरोधी बताया. उन्होंने आगे कहा, ‘देश में अंग्रेजों के शासन में जैसे ईस्ट इंडिया कंपनी का राज था, वैसे ही इस कानून से आने वाले समय में कंपनी का राज आ जाएगा.’

इससे पहले 25 सितंबर को देश भर के किसानों ने कृषि कानूनों के विरोध में भारत बंद बुलाकर प्रदर्शन कर चुके हैं. बावजूद इसके राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 27 सितंबर को संसद से पारित तीनों कृषि विधेयकों को मंजूरी दे दी. किसानों का कहना है कि इन कानूनों से खेती में कापोरेट्स की दखल बढ़ जाएगी.इसके अलावा कृषि उत्पाद विपणन समिति (एपीएमसी) एक्ट के तहत चलने वाली मंडियां भी टैक्स में भेदभाव की वजह से खत्म हो जाएंगी, जिसका सहारा लेकर सरकार एमएसपी पर फसलों की खरीद बंद कर देगी. हालांकि, केंद्र सरकार इस आशंका को सिरे से खारिज कर रही है और इन कानूनों से किसानों को अच्छी कीमत मिलने के दावे कर रही है.

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...