केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पारित विधेयकों पर क्या कहते हैं किसान नेता

पंजाब विधानसभा ने किसानों के आंदोलन के बीच केंद्र के कृषि कानूनों को राज्य में निष्प्रभावी बनाने वाले तीन कृषि विधेयक पारित किए हैं।

पाम ऑयल मिशन को लेकर नॉर्थ-ईस्ट में उपजी आशंकाएं

“हमसे कोई सलाह-मशविरा नहीं लिया गया। नॉर्थ ईस्ट में पाम ऑयल मिशन ठीक नहीं है क्योंकि मेघालय में हम आदिवासियों का जीवन...

Palm Oil की खेती से क्या हैं नुक़सान?

National Mission on Edible oils- Oil Palm को सरकार ने 18 August 2021 को हरी झंडी दिखाई, खाने के तेल,Palm oil को...

MSP का खेल निराला, क्या है कुछ काला?

सरकार ने किसान आंदोलन के बीच रबी मार्केटिंग सीज़न 2022-23 के लिए फसलों की MSP का एलान किया है, सरकार फसलों के...

Karnal: किसानों ने सचिवालय पर डाला डेरा, सुनेगी सरकार?

मुज़फ़्फ़रनगर 5 September और फिर 7 September को हफ़्ते में दूसरी बड़ी किसान महापंचायत, किसानों ने अपनी माँग को पुरज़ोर तरीक़े से...

UP – Muzaffarnagar किसानों की हुंकार से होगा बदलाव?

5 September,2021, UP के मुज़फ़्फ़रनगर में किसानों की महापंचायत किन किन मायनो में अहम रही? ये किसानों का खुद का शक्ति परीक्षण...

पंजाब की विधानसभा ने मंगलवार को केंद्र के कृषि कानूनों को राज्य में प्रभावहीन करने वाले तीन कृषि विधेयक को सर्वसम्मति से पारित कर दिया। इसके बाद मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल के साथ राज्यपाल वीपी सिंह बदनोर से मुलाकात की। उन्होंने कहा कि, ‘विधानसभा में कृषि बिल के खिलाफ प्रस्ताव पास हो गया है और हमने यहां राज्यपाल को उसकी प्रति सौंपी है। पहले यह राज्यपाल के पास जाएगा और फिर राष्ट्रपति के पास। अगर इससे भी कुछ नहीं होता है तो हमारे पास कानूनी तरीके भी हैं। मुझे उम्मीद है कि गवर्नर इसे मंजूरी देंगे। मैंने राष्ट्रपति से भी 2 से 5 नवंबर के बीच मिलने का समय मांगा है, पूरी विधानसभा ही उनके पास जाएगी।’

पंजाब सरकार इन विधेयकों को केंद्र के कृषि कानूनों को प्रदेश में प्रभावहीन करने वाला बड़ा फैसला बता रही है। इस पर किसानों की प्रतिक्रिया मिली-जुली है। पंजाब में रेल रोको आंदोलन की अगुवाई कर रहे किसान-मजदूर संघर्ष कमेटी के अध्यक्ष सरवन सिंह ने हिंद किसान से बातचीत में कहा कि ‘हमने जो सरकार के सामने मांगे रखी थी वो अमरिंदर सरकार ने नहीं मानी। हमने एपीएमसी एक्ट में 2005, 2013 और 2017 में किए गए संशोधनों को वापस लेने, फसल खरीद और निर्यात का अधिकार राज्य को देने की मांग की थी। यानी केंद्र की शक्तियों का विकेंद्रीकरण करने की मांग थी, लेकिन अमरिंदर सरकार ने यह नहीं किया।’ हालांकि, उन्होंने यह जरूर कहा कि ‘इन विधेयकों के पारित होने से कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों की आवाज केंद्र सरकार तक जाएगी, जिससे सरकार पर दबाव पड़ेगा। हम यह नहीं मान सकते कि इन विधेयकों से केंद्र के कृषि कानूनों पर कोई असर पड़ेगा।’ रेल रोको आंदोलन जारी रखने की बात दोहराते हुए उन्होंने कहा, ‘खेती कानूनों को रद्द करवाने के लिए आंदोलन ही एक मात्र विकल्प है।’

वहीं, पंजाब के किसान नेता रमनदीप सिंह ने ट्विटर पर लिखा कि न तो गवर्नर इस पर साइन करेंगे न ही राष्ट्रपति,पंजाब सरकार सुप्रीम कोर्ट जाएगी, जहां कोर्ट केंद्र के कानूनों पर स्टे देगी, मामले की सुनवाई होगी, मामला लंबा खिंचने पर केंद्र सरकार राष्ट्रपति कानून लगाएगी, प्रर्दशनकारियों को ताकत के दम पर हटा दिया जाएगा, तब पंजाब मुश्किल, बहुत मुश्किल में होगा.

मध्य प्रदेश के किसान नेता राहुल राज ने पंजाब सरकार के कदम को अच्छा बताया है। हिंद किसान से बातचीत में उन्होंने कहा कि ‘दूसरे राज्यों में भी सरकारों को ऐसे कदम उठाने चाहिए। लेकिन ये एक लंबी प्रक्रिया है। ये जमीन पर उतर पाएगी या नहीं, ये कह पाना मुश्किल है। राज्यपाल और राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद ही ये विधेयक कानून बन पाएंगे, लेकिन बीजेपी ऐसा नहीं होने देगी।’

छत्तीसगढ़ किसान सभा के अध्यक्ष संजय पराते ने भी पंजाब सरकार के कदम का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि ‘केंद्र सरकार के कृषि कानून असंवैधानिक, गैर-लोकतांत्रिक तथा किसान विरोधी है। संविधान में कृषि का क्षेत्र राज्य का विषय है, इसके बावजूद संसदीय प्रक्रिया का उल्लंघन करके और राज्यसभा में इन कानूनों के विरोध की अनदेखी करके ये कानून बनाये गए हैं। राज्यों को यह अधिकार है कि वह अपने राज्य के किसानों के हितों की रक्षा करें।’

पंजाब विधानसभा ने जिन विधेयकों को पारित किया है उनमें पहला किसान व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) विशेष प्रावधान और पंजाब संशोधन विधेयक-2020, दूसरा मूल्य आश्वासन और कृषि सेवा (विशेष प्रावधान और पंजाब संशोधन) विधेयक- 2020 और तीसरा आवश्यक वस्तु (विशेष प्रावधान और पंजाब संशोधन) विधेयक-2020 शामिल हैं। इन विधेयकों को कानून बनाने के लिए पहले राज्यपाल और फिर राष्ट्रपति की मंजूरी मिलना जरूरी है।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

पाम ऑयल मिशन को लेकर नॉर्थ-ईस्ट में उपजी आशंकाएं

“हमसे कोई सलाह-मशविरा नहीं लिया गया। नॉर्थ ईस्ट में पाम ऑयल मिशन ठीक नहीं है क्योंकि मेघालय में हम आदिवासियों का जीवन...

Palm Oil की खेती से क्या हैं नुक़सान?

National Mission on Edible oils- Oil Palm को सरकार ने 18 August 2021 को हरी झंडी दिखाई, खाने के तेल,Palm oil को...

MSP का खेल निराला, क्या है कुछ काला?

सरकार ने किसान आंदोलन के बीच रबी मार्केटिंग सीज़न 2022-23 के लिए फसलों की MSP का एलान किया है, सरकार फसलों के...