केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पारित विधेयकों पर क्या कहते हैं किसान नेता

पंजाब विधानसभा ने किसानों के आंदोलन के बीच केंद्र के कृषि कानूनों को राज्य में निष्प्रभावी बनाने वाले तीन कृषि विधेयक पारित किए हैं।

किसान आंदोलन: पूरे हुए 4 महीने, क्या हुआ हासिल?

कृषि क़ानूनों का विरोध और MSP की गारंटी की माँग को लेकर देश भर में संयुक्त किसान मोर्चा ने आंदोलन के 120...

किसान महापंचायत की गूंज, दक्षिण भारत में भी

किसान महापंचायत की गूंज दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में भी सुनाई दी, BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत समेत दूसरे किसान...

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर से किसानों का फूटा ग़ुस्सा

किसान आंदोलन को लगभग 4 महीने होने को आए, किसान सरकार की बेरुख़ी और उनकी माँग अनसुनी करने को लेकर काफ़ी ख़फ़ा...

किसान आंदोलन: राजनीति या आजीविका की लड़ाई?

किसान आंदोलन देश के अलग अलग राज्यों में बढ़ता जा रहा है, जिन ५ राज्यों में चुनाव है वहाँ केंद्र में सत्ताधारी...

कृषि आंदोलन: क्या है किसानों का मूड?

कृषि आंदोलन को 115 दिन होने को आए, इस बीच ये आंदोलन पंजाब-हरियाणा- उत्तर प्रदेश-राजस्थान-मध्य प्रदेश के बाद अब उन राज्यों में...

पंजाब की विधानसभा ने मंगलवार को केंद्र के कृषि कानूनों को राज्य में प्रभावहीन करने वाले तीन कृषि विधेयक को सर्वसम्मति से पारित कर दिया। इसके बाद मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल के साथ राज्यपाल वीपी सिंह बदनोर से मुलाकात की। उन्होंने कहा कि, ‘विधानसभा में कृषि बिल के खिलाफ प्रस्ताव पास हो गया है और हमने यहां राज्यपाल को उसकी प्रति सौंपी है। पहले यह राज्यपाल के पास जाएगा और फिर राष्ट्रपति के पास। अगर इससे भी कुछ नहीं होता है तो हमारे पास कानूनी तरीके भी हैं। मुझे उम्मीद है कि गवर्नर इसे मंजूरी देंगे। मैंने राष्ट्रपति से भी 2 से 5 नवंबर के बीच मिलने का समय मांगा है, पूरी विधानसभा ही उनके पास जाएगी।’

पंजाब सरकार इन विधेयकों को केंद्र के कृषि कानूनों को प्रदेश में प्रभावहीन करने वाला बड़ा फैसला बता रही है। इस पर किसानों की प्रतिक्रिया मिली-जुली है। पंजाब में रेल रोको आंदोलन की अगुवाई कर रहे किसान-मजदूर संघर्ष कमेटी के अध्यक्ष सरवन सिंह ने हिंद किसान से बातचीत में कहा कि ‘हमने जो सरकार के सामने मांगे रखी थी वो अमरिंदर सरकार ने नहीं मानी। हमने एपीएमसी एक्ट में 2005, 2013 और 2017 में किए गए संशोधनों को वापस लेने, फसल खरीद और निर्यात का अधिकार राज्य को देने की मांग की थी। यानी केंद्र की शक्तियों का विकेंद्रीकरण करने की मांग थी, लेकिन अमरिंदर सरकार ने यह नहीं किया।’ हालांकि, उन्होंने यह जरूर कहा कि ‘इन विधेयकों के पारित होने से कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों की आवाज केंद्र सरकार तक जाएगी, जिससे सरकार पर दबाव पड़ेगा। हम यह नहीं मान सकते कि इन विधेयकों से केंद्र के कृषि कानूनों पर कोई असर पड़ेगा।’ रेल रोको आंदोलन जारी रखने की बात दोहराते हुए उन्होंने कहा, ‘खेती कानूनों को रद्द करवाने के लिए आंदोलन ही एक मात्र विकल्प है।’

वहीं, पंजाब के किसान नेता रमनदीप सिंह ने ट्विटर पर लिखा कि न तो गवर्नर इस पर साइन करेंगे न ही राष्ट्रपति,पंजाब सरकार सुप्रीम कोर्ट जाएगी, जहां कोर्ट केंद्र के कानूनों पर स्टे देगी, मामले की सुनवाई होगी, मामला लंबा खिंचने पर केंद्र सरकार राष्ट्रपति कानून लगाएगी, प्रर्दशनकारियों को ताकत के दम पर हटा दिया जाएगा, तब पंजाब मुश्किल, बहुत मुश्किल में होगा.

मध्य प्रदेश के किसान नेता राहुल राज ने पंजाब सरकार के कदम को अच्छा बताया है। हिंद किसान से बातचीत में उन्होंने कहा कि ‘दूसरे राज्यों में भी सरकारों को ऐसे कदम उठाने चाहिए। लेकिन ये एक लंबी प्रक्रिया है। ये जमीन पर उतर पाएगी या नहीं, ये कह पाना मुश्किल है। राज्यपाल और राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद ही ये विधेयक कानून बन पाएंगे, लेकिन बीजेपी ऐसा नहीं होने देगी।’

छत्तीसगढ़ किसान सभा के अध्यक्ष संजय पराते ने भी पंजाब सरकार के कदम का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि ‘केंद्र सरकार के कृषि कानून असंवैधानिक, गैर-लोकतांत्रिक तथा किसान विरोधी है। संविधान में कृषि का क्षेत्र राज्य का विषय है, इसके बावजूद संसदीय प्रक्रिया का उल्लंघन करके और राज्यसभा में इन कानूनों के विरोध की अनदेखी करके ये कानून बनाये गए हैं। राज्यों को यह अधिकार है कि वह अपने राज्य के किसानों के हितों की रक्षा करें।’

पंजाब विधानसभा ने जिन विधेयकों को पारित किया है उनमें पहला किसान व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) विशेष प्रावधान और पंजाब संशोधन विधेयक-2020, दूसरा मूल्य आश्वासन और कृषि सेवा (विशेष प्रावधान और पंजाब संशोधन) विधेयक- 2020 और तीसरा आवश्यक वस्तु (विशेष प्रावधान और पंजाब संशोधन) विधेयक-2020 शामिल हैं। इन विधेयकों को कानून बनाने के लिए पहले राज्यपाल और फिर राष्ट्रपति की मंजूरी मिलना जरूरी है।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

किसान महापंचायत की गूंज, दक्षिण भारत में भी

किसान महापंचायत की गूंज दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में भी सुनाई दी, BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत समेत दूसरे किसान...

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर से किसानों का फूटा ग़ुस्सा

किसान आंदोलन को लगभग 4 महीने होने को आए, किसान सरकार की बेरुख़ी और उनकी माँग अनसुनी करने को लेकर काफ़ी ख़फ़ा...

किसान आंदोलन: राजनीति या आजीविका की लड़ाई?

किसान आंदोलन देश के अलग अलग राज्यों में बढ़ता जा रहा है, जिन ५ राज्यों में चुनाव है वहाँ केंद्र में सत्ताधारी...