कृषि कानूनों के खिलाफ सड़क पर उतरा शिरोमणि अकाली दल

किसानों ने विपक्षी दलों पर लगाया किसानों के मुद्दे पर राजनीति करने का आरोप

किसान आंदोलन: पूरे हुए 4 महीने, क्या हुआ हासिल?

कृषि क़ानूनों का विरोध और MSP की गारंटी की माँग को लेकर देश भर में संयुक्त किसान मोर्चा ने आंदोलन के 120...

किसान महापंचायत की गूंज, दक्षिण भारत में भी

किसान महापंचायत की गूंज दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में भी सुनाई दी, BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत समेत दूसरे किसान...

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर से किसानों का फूटा ग़ुस्सा

किसान आंदोलन को लगभग 4 महीने होने को आए, किसान सरकार की बेरुख़ी और उनकी माँग अनसुनी करने को लेकर काफ़ी ख़फ़ा...

किसान आंदोलन: राजनीति या आजीविका की लड़ाई?

किसान आंदोलन देश के अलग अलग राज्यों में बढ़ता जा रहा है, जिन ५ राज्यों में चुनाव है वहाँ केंद्र में सत्ताधारी...

कृषि आंदोलन: क्या है किसानों का मूड?

कृषि आंदोलन को 115 दिन होने को आए, इस बीच ये आंदोलन पंजाब-हरियाणा- उत्तर प्रदेश-राजस्थान-मध्य प्रदेश के बाद अब उन राज्यों में...

पंजाब में केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ लगातार आंदोलन जारी है। किसान रेल की पटरियों पर लगातार धरना दे रहे हैं। इसको लेकर एनडीए से बगावत कर चुके शिरोमणि अकाली दल भी सड़क पर उतर आया है। पार्टी ने अमृतसर से चंडीगढ़ तक किसान रैली शुरू कर दी है। अमृतसर में इस रैली में शामिल हुए पार्टी प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने कहा, ‘हम राज्यपाल से मिलकर राष्ट्रपति और केंद्र सरकार के नाम ज्ञापन सौंपेंगे और उनसे संसद का विशेष सत्र बुलाकर तीनों कृषि कानूनों का वापस लेने की मांग करेंगे।’

इन कृषि कानूनों के विरोध में केंद्र सरकार से इस्तीफा दे चुकी शिरोमणी अकाली दल की नेता हरसिमरत कौर बादल ने सभी लोगों से इस रैली में शामिल होने की अपील की है। उन्होंने कहा, ‘पंजाब के किसानों, आढ़तियों और मजदूरों के वास्ते बड़ी लड़ाई शुरू की गई है..हमारी सबसे विनती है कि अब घरों में बैठने का वक्त नहीं है…हमें चंडीगढ़ से दिल्ली के तख्त को आवाज देनी कि हमारे साथ न्याय करो. अगर हमने दिल्ली कूच किया तो फिर रुकेंगे नहीं।’

हालांकि, रेल रोको आंदोलन की अगुवाई कर रहे किसान-मजदूर संघर्ष कमेटी के महासचिव सरवन सिंह ने कहा, ‘शिरोमणि अकाली दल, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी पर किसानों के मुद्दे पर राजनीति करने का आरोप लगाया है।’ अकाली दल की अमृतसर-चंडीगढ़ रैली पर सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा, ‘ये सब 2022 चुनाव में अपने साख बचाने के लिये कर रहे हैं।’

इस बीच रेल की पटरियों पर आंदोलन कर रहे किसानों ने अडानी और अंबानी के पुतले जलाकर प्रदर्शन किया। सरवन सिंह ने कहा, ‘पंजाब से पूंजीपतियों को बाहर का रास्ता दिखाना है तभी पंजाब का किसान खुशहाल होगा।’ यहां आंदोलन कर रहे किसानों ने देश के नागरिकों से कारपोरेट्स के उत्पादों और सेवाओं का बहिष्कार करने की भी अपील कर चुके हैं।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

किसान महापंचायत की गूंज, दक्षिण भारत में भी

किसान महापंचायत की गूंज दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में भी सुनाई दी, BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत समेत दूसरे किसान...

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर से किसानों का फूटा ग़ुस्सा

किसान आंदोलन को लगभग 4 महीने होने को आए, किसान सरकार की बेरुख़ी और उनकी माँग अनसुनी करने को लेकर काफ़ी ख़फ़ा...

किसान आंदोलन: राजनीति या आजीविका की लड़ाई?

किसान आंदोलन देश के अलग अलग राज्यों में बढ़ता जा रहा है, जिन ५ राज्यों में चुनाव है वहाँ केंद्र में सत्ताधारी...