अब बिना जलाए होगा पराली का समाधान

पूसा संस्थान के बनाए बायोडीकंपोजर कैप्सूल के जरिए 20 दिन में पराली खाद में बदल जाएगी। दिल्ली सरकार किसानों की सहमति के साथ 700 एकड़ जमीन पर इसका छिड़काव करेगी। इसका पूरा खर्च सरकार उठाएगी।

पंजाब: 5 नवंबर तक रेल रोको आंदोलन में ढील लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन की तैयारी

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब विधान सभा से कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार के विधेयक पारित होने के बाद बुधवार...

कृषि कानून के खिलाफ पंजाब की राह पर राजस्थान

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ लड़ाई में पंजाब की अमरिंदर सरकार ने नई शुरुआत की है। मंगलवार को पंजाब विधान सभा...

Boston Cash Advance Solution. Pay day loan is really a great loan for while you are on the go getting money.

Boston Cash Advance Solution. Pay day loan is really a great loan for while you are on the go getting money. Payday Advances Boston, MA Cash...

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पारित विधेयकों पर क्या कहते हैं किसान नेता

पंजाब की विधानसभा ने मंगलवार को केंद्र के कृषि कानूनों को राज्य में प्रभावहीन करने वाले तीन कृषि विधेयक को सर्वसम्मति से...

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ अमरिंदर सरकार के विधेयक पारित

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब विधानसभा में 4 विधेयक पारित हो गए हैं। विधेयक पेश करते हुए सीएम अमरिंदर सिंह...

दिल्ली में हवा की गुणवत्ता खराब होने के पीछे पराली जलाने को वजह माना जाता है। किसान पराली न जलाएं, इसके लिए अब दिल्ली सरकार एक नई तकनीक को बढ़ावा दे रही है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के मुताबिक, राज्य में किसानों को बायो-डिकंपोजर तकनीक से पराली को खाद में बदलने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। इसके लिए दिल्ली सरकार ने बड़े पैमाने पर बायो डिकंपोजर का घोल बनाने की शुरूआत की है। मंगलवार को सीम केजरीवाल ने नजफगढ़ स्थित केंद्र का दौरा किया और वहां पर मौजूद पूसा इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिकों और किसानों से भी बात की।

दिल्ली सरकार पूसा रिसर्च इंस्टीट्यूट की निगरानी में धान की पराली को खेत में गलाकर खाद बनाने के लिए बायोडिकंपोजर घोल को तैयार करा रही है। इसे देखने आए केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार इस घोल का छिड़काव करीब 700 हेक्टेयर जमीन पर अपने खर्चे पर कराएगी और इससे किसानों पर कोई आर्थिक बोझ नहीं पड़ेगा। किसानों को सिर्फ अपने खेत में इस घोल के छिड़काव के लिए अपनी सहमति देनी होगी। 11 अक्टूबर से दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में घोल का छिड़काव किया जाएगा।

पराली के निपटारे का यह प्रदूषणमुक्त समाधान पूसा रिसर्च इंस्टीट्यूट ने तैयार किया है। यह किफायती और इस्तेमाल करने में सरल भी है। पूसा रिसर्च इंस्टीट्यूट ने बायो डिकंपोजर कैप्सूल बनाए हैं, जिनके जरिए घोल बनाया जाता है। एक हैक्टेयर जमानी के लिए 4 कैप्सूल को गुड़ और बेसन के घोल के साथ छिड़काव करने पर पराली गल जाती है और खाद में बदल जाती है। इन कैप्सूल को पूसा डीकंपोजर के नाम से भी मशहूर हो रहे हैं। पूसा के मुताबिक करीब 20 दिनों में ये घोल पराली को खाद में बदल देगा।

दिल्ली सरकार के मुताबिक से तकनीक बेहद सस्ती और टिकाऊ है। जिससे न सिर्फ पराली जलाने की समस्या का समाधान होगा बल्कि किसानों के लिए तैयार खाद मिट्टी की उर्वरक क्षमता को भी बढ़ाएगी।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

पंजाब: 5 नवंबर तक रेल रोको आंदोलन में ढील लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन की तैयारी

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब विधान सभा से कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार के विधेयक पारित होने के बाद बुधवार...

कृषि कानून के खिलाफ पंजाब की राह पर राजस्थान

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ लड़ाई में पंजाब की अमरिंदर सरकार ने नई शुरुआत की है। मंगलवार को पंजाब विधान सभा...

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पारित विधेयकों पर क्या कहते हैं किसान नेता

पंजाब की विधानसभा ने मंगलवार को केंद्र के कृषि कानूनों को राज्य में प्रभावहीन करने वाले तीन कृषि विधेयक को सर्वसम्मति से...