अब बिना जलाए होगा पराली का समाधान

पूसा संस्थान के बनाए बायोडीकंपोजर कैप्सूल के जरिए 20 दिन में पराली खाद में बदल जाएगी। दिल्ली सरकार किसानों की सहमति के साथ 700 एकड़ जमीन पर इसका छिड़काव करेगी। इसका पूरा खर्च सरकार उठाएगी।

पाम ऑयल मिशन को लेकर नॉर्थ-ईस्ट में उपजी आशंकाएं

“हमसे कोई सलाह-मशविरा नहीं लिया गया। नॉर्थ ईस्ट में पाम ऑयल मिशन ठीक नहीं है क्योंकि मेघालय में हम आदिवासियों का जीवन...

Palm Oil की खेती से क्या हैं नुक़सान?

National Mission on Edible oils- Oil Palm को सरकार ने 18 August 2021 को हरी झंडी दिखाई, खाने के तेल,Palm oil को...

MSP का खेल निराला, क्या है कुछ काला?

सरकार ने किसान आंदोलन के बीच रबी मार्केटिंग सीज़न 2022-23 के लिए फसलों की MSP का एलान किया है, सरकार फसलों के...

Karnal: किसानों ने सचिवालय पर डाला डेरा, सुनेगी सरकार?

मुज़फ़्फ़रनगर 5 September और फिर 7 September को हफ़्ते में दूसरी बड़ी किसान महापंचायत, किसानों ने अपनी माँग को पुरज़ोर तरीक़े से...

UP – Muzaffarnagar किसानों की हुंकार से होगा बदलाव?

5 September,2021, UP के मुज़फ़्फ़रनगर में किसानों की महापंचायत किन किन मायनो में अहम रही? ये किसानों का खुद का शक्ति परीक्षण...

दिल्ली में हवा की गुणवत्ता खराब होने के पीछे पराली जलाने को वजह माना जाता है। किसान पराली न जलाएं, इसके लिए अब दिल्ली सरकार एक नई तकनीक को बढ़ावा दे रही है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के मुताबिक, राज्य में किसानों को बायो-डिकंपोजर तकनीक से पराली को खाद में बदलने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। इसके लिए दिल्ली सरकार ने बड़े पैमाने पर बायो डिकंपोजर का घोल बनाने की शुरूआत की है। मंगलवार को सीम केजरीवाल ने नजफगढ़ स्थित केंद्र का दौरा किया और वहां पर मौजूद पूसा इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिकों और किसानों से भी बात की।

दिल्ली सरकार पूसा रिसर्च इंस्टीट्यूट की निगरानी में धान की पराली को खेत में गलाकर खाद बनाने के लिए बायोडिकंपोजर घोल को तैयार करा रही है। इसे देखने आए केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार इस घोल का छिड़काव करीब 700 हेक्टेयर जमीन पर अपने खर्चे पर कराएगी और इससे किसानों पर कोई आर्थिक बोझ नहीं पड़ेगा। किसानों को सिर्फ अपने खेत में इस घोल के छिड़काव के लिए अपनी सहमति देनी होगी। 11 अक्टूबर से दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में घोल का छिड़काव किया जाएगा।

पराली के निपटारे का यह प्रदूषणमुक्त समाधान पूसा रिसर्च इंस्टीट्यूट ने तैयार किया है। यह किफायती और इस्तेमाल करने में सरल भी है। पूसा रिसर्च इंस्टीट्यूट ने बायो डिकंपोजर कैप्सूल बनाए हैं, जिनके जरिए घोल बनाया जाता है। एक हैक्टेयर जमानी के लिए 4 कैप्सूल को गुड़ और बेसन के घोल के साथ छिड़काव करने पर पराली गल जाती है और खाद में बदल जाती है। इन कैप्सूल को पूसा डीकंपोजर के नाम से भी मशहूर हो रहे हैं। पूसा के मुताबिक करीब 20 दिनों में ये घोल पराली को खाद में बदल देगा।

दिल्ली सरकार के मुताबिक से तकनीक बेहद सस्ती और टिकाऊ है। जिससे न सिर्फ पराली जलाने की समस्या का समाधान होगा बल्कि किसानों के लिए तैयार खाद मिट्टी की उर्वरक क्षमता को भी बढ़ाएगी।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

पाम ऑयल मिशन को लेकर नॉर्थ-ईस्ट में उपजी आशंकाएं

“हमसे कोई सलाह-मशविरा नहीं लिया गया। नॉर्थ ईस्ट में पाम ऑयल मिशन ठीक नहीं है क्योंकि मेघालय में हम आदिवासियों का जीवन...

Palm Oil की खेती से क्या हैं नुक़सान?

National Mission on Edible oils- Oil Palm को सरकार ने 18 August 2021 को हरी झंडी दिखाई, खाने के तेल,Palm oil को...

MSP का खेल निराला, क्या है कुछ काला?

सरकार ने किसान आंदोलन के बीच रबी मार्केटिंग सीज़न 2022-23 के लिए फसलों की MSP का एलान किया है, सरकार फसलों के...