कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस की ‘खेती बचाओ यात्रा’ का आगाज

पंजाब में कांग्रेस ने खोला कृषि कानूनों के खिलाफ मोर्चा

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...

किसान क्यूँ कर रहे हैं साइलोज़ का बहिष्कार?

हरियाणा हो या पंजाब, किसान अडानी के Silos में अपनी फसल देने से इंकार कर रहे हैं, हालाँकि Adani Agro Logistics का...

हरियाणा में फसल ख़रीदी को लेकर किसानों के अनुभव

हरियाणा में 1 April 2021 से गेहूँ की ख़रीदी शुरू हो गयी है लेकिन किसान मंडी में बारदाने की कमी से लेकर...

पंजाब में कृषि कानूनों के खिलाफ किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं। कांग्रेस भी इन कानूनों के खिलाफ लगातार आवाज उठा रही है। 4 अक्टूबर से कांग्रेस ने पंजाब में ‘खेती बचाओ यात्रा’ की शुरूआत कर दी है। कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन में शामिल होने के लिए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी मोगा पहुंचे। राहुल गांधी ने कहा हम किसानों के साथ खड़े हैं, एक इंच भी पीछे नहीं हटेंगे। उनके साथ मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू भी मौजूद रहे।

किसानों को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा, ‘किसानों के लिए कानून बनाए जा रहे हैं तो आपको खुलकर बात करनी चाहिए। किसान खुश है तो आंदोलन क्यों कर रहे हैं। 6 साल से नरेंद्र मोदी झूठ बोल रहे हैं। पहले नोटबंदी फिर जीएसटी और उसके बाद कोविड आया उद्योगपतियों का कर माफ किया गया, किसान का कर्ज माफ नहीं किया गया।’ पंजाब के मोगा जिले में सार्वजिनिक सभा और हस्ताक्षर अभियान के बाद राहुल गांधी ने बंधनी कला से जटट्पुरा तक ट्रेक्टर यात्रा भी की।


तीन दिवसीय यात्रा के दौरान राहुल गांधी राज्य में कई जगह किसानों के साथ जनसभा करेंगे और रैली निकालेेंगे। इस रैली में उनके साथ राज्य के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष सुनील जाखड़ समेत अन्य नेता मौजूद रहेंगे। इसके अलावा वह हरियाणआ में भी कृषि कानूनों के खिलाफ रैली करेंगे।

पंजाब में किसान से लेकर राजनैतिक प दल तक कृषि कानूनों के खिलाफ लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं। प्रदेश में किसान संगठन 24 सितंबर से रेल रोको आंदोलन कर रहे हैं। इसके अलावा केंद्र में एनडीए सरकार से नाता तोड़ अलग हुआ शिरोमणी अकाली दल ने भी कृषि कानूनों के खिलाफ अमृतसर से चंडीगढ़ तक रैली निकाल कर प्रदर्शन किया था।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...