किसानों की मांगों को लेकर यूपी सरकार के खिलाफ कांग्रेस का प्रदर्शन

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...

किसान क्यूँ कर रहे हैं साइलोज़ का बहिष्कार?

हरियाणा हो या पंजाब, किसान अडानी के Silos में अपनी फसल देने से इंकार कर रहे हैं, हालाँकि Adani Agro Logistics का...

हरियाणा में फसल ख़रीदी को लेकर किसानों के अनुभव

हरियाणा में 1 April 2021 से गेहूँ की ख़रीदी शुरू हो गयी है लेकिन किसान मंडी में बारदाने की कमी से लेकर...

उत्तर प्रदेश में आदित्यनाथ सरकार के खिलाफ कांग्रेस ने प्रदेश भर में जिलावार धरना प्रदर्शन किया। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने लखनऊ, झांसी, लखीमपुर खीरी समेत कई जिलों में जिलाधिकारी दफ्तर के बाहर धरना दिया और राज्य में धान की एमएसपी पर खरीद में सुस्ती, गन्ना का बकाया भुगतान और  बिजली बिल का मुद्दा उठाया। कांग्रेस ने सभी जिलों में किसानों की समस्याओं पर जिलाधिकारियों को राज्यपाल के नाम ज्ञापन दिया।

यूपी कांग्रेस ने अपने ट्विटर पर लिखा, ‘ये कैसी उप्र.सरकार! किसानों से लाखों रुपये जमा करा लिए उन्हें ट्यूबबेल नहीं दिया।लखेरी बांध के लिए जमीन ले ली,उसका मुआबजा नहीं दिया। किसानों से बीमा प्रीमियम वसूला और फसल बीमा क्लेम नहीं दिया। ये खून चूसने वाली सरकार है। झांसी कलेक्ट्रेट में किसान कांग्रेस का हल्ला बोल.’

कांग्रेस के राज्य सभा सांसद पीएल पुनिया ने भी राज्य की आदित्यनाथ सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘उप्र में किसान धान को समर्थन मूल्य के आधे दामों तक बेचने के लिए मजबूर है। सरकार किसानों को फसल का उचित मूल्य देने में उदासीन है। भाजपा सरकार की हर नीति और निर्णय किसान के लिए विनाशकारी साबित हो रहे है, आखिर अन्नदाता के साथ ये अन्याय कबतक ?’

यूपी में धान खरीद की सुस्त रफ्तार को लेकर विपक्षी दल कांग्रेस लगातार प्रदेश की आदित्यनाथ सरकार को घेर रही है। बुधवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने प्रदेश में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान खरीद न होने को लेकर सवाल उठाया। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘भाजपा सरकार किसानों का हक मारने वाले बिलों पर सरकारी खाट सम्मेलन तो कर रही है लेकिन किसानों का दर्द नहीं सुन रही। यूपी में लगभग सभी जगहों पर किसान अपना धान 1868 रू/क्विंटल एमएसपी से 800 रू कम 1000-1100रू/क्विंटल पर बेंचने को मजबूर हैं। ऐसा तब है जब एमएसपी की गारंटी है। सोचिए जब एमएसपी की गारंटी खत्म हो जाएगी तब क्या होगा?’

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...