कृषि विधेयकों के खिलाफ सड़कों पर उतरी कांग्रेस

संसद से पारित कृषि विधेयकों के खिलाफ उत्तराखंड से लेकर पंजाब तक कांग्रेस ने प्रदर्शन किया

Must Read

पाम ऑयल मिशन को लेकर नॉर्थ-ईस्ट में उपजी आशंकाएं

“हमसे कोई सलाह-मशविरा नहीं लिया गया। नॉर्थ ईस्ट में पाम ऑयल मिशन ठीक नहीं है क्योंकि मेघालय...

Palm Oil की खेती से क्या हैं नुक़सान?

National Mission on Edible oils- Oil Palm को सरकार ने 18 August 2021 को हरी झंडी दिखाई,...

MSP का खेल निराला, क्या है कुछ काला?

सरकार ने किसान आंदोलन के बीच रबी मार्केटिंग सीज़न 2022-23 के लिए फसलों की MSP का एलान...

कृषि विधेयकों के खिलाफ 25 सिंतबर को देश भर के किसान और किसान संगठनों ने भारत बंद बुलाया है. इस बीच विपक्षी दलों ने आंदोलन शुरू कर दिया है. संसद में 18 विपक्षी दलों ने संसद के मानसून सत्र की बाकी कार्यवाही का बहिष्कार किया है. वहीं, उत्तराखंड में कांग्रेस ने केंद्र के विधेयकों का विरोध किया है. एक दिन के विधानसभा सत्र के दौरान कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष और विधायक प्रीतम सिंह ट्रैक्टर पर विधानसभा के लिए निकले. उनके साथ मनोज रावत, काजी निजामुद्दीन और आदेश चौहान था. उनके ट्रैक्टर पर लगे बैनर पर लिखा था- ‘किसान विरोधी काला कानून वापस लो’. हालांकि, पुलिस ने उन्हें विधानसभा पहुंचने से पहले ही रोक लिया. इसके बाद विधायकों ने वहीं पर एक दिन का धरना शुरू कर दिया.

कांग्रेस के अलावा कृषि अध्यादेश के विरोध में आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने भी विधानसभा जाने की कोशिश की. लेकिन पुलिस ने उन्हें भी आगे नहीं जाने दिया. इस दौरान पुलिस और आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं के बीच तीखी नोकझोक हुई.

उत्तराखंड ही नहीं, पंजाब और हरियाणा में भी कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जबरदस्त आंदोलन किया. अमृतसर में कृषि विधेयकों के खिलाफ प्रदर्शन में कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू भी शामिल हुए. लुधियाना में भी कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने बड़े पैमाने पर प्रदर्शन किया. यहां पर भी कार्यकर्ताओं ने ट्रैक्टर रैली निकाली.

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

पाम ऑयल मिशन को लेकर नॉर्थ-ईस्ट में उपजी आशंकाएं

“हमसे कोई सलाह-मशविरा नहीं लिया गया। नॉर्थ ईस्ट में पाम ऑयल मिशन ठीक नहीं है क्योंकि मेघालय...

Palm Oil की खेती से क्या हैं नुक़सान?

National Mission on Edible oils- Oil Palm को सरकार ने 18 August 2021 को हरी झंडी दिखाई, खाने के तेल,Palm oil को...

MSP का खेल निराला, क्या है कुछ काला?

सरकार ने किसान आंदोलन के बीच रबी मार्केटिंग सीज़न 2022-23 के लिए फसलों की MSP का एलान किया है, सरकार फसलों के...

Karnal: किसानों ने सचिवालय पर डाला डेरा, सुनेगी सरकार?

मुज़फ़्फ़रनगर 5 September और फिर 7 September को हफ़्ते में दूसरी बड़ी किसान महापंचायत, किसानों ने अपनी माँग को पुरज़ोर तरीक़े से...

UP – Muzaffarnagar किसानों की हुंकार से होगा बदलाव?

5 September,2021, UP के मुज़फ़्फ़रनगर में किसानों की महापंचायत किन किन मायनो में अहम रही? ये किसानों का खुद का शक्ति परीक्षण...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -