कृषि विधेयकों के खिलाफ सड़कों पर उतरी कांग्रेस

संसद से पारित कृषि विधेयकों के खिलाफ उत्तराखंड से लेकर पंजाब तक कांग्रेस ने प्रदर्शन किया

Must Read

किसान आंदोलन: पूरे हुए 4 महीने, क्या हुआ हासिल?

कृषि क़ानूनों का विरोध और MSP की गारंटी की माँग को लेकर देश भर में संयुक्त किसान...

किसान महापंचायत की गूंज, दक्षिण भारत में भी

किसान महापंचायत की गूंज दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में भी सुनाई दी, BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता...

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर से किसानों का फूटा ग़ुस्सा

किसान आंदोलन को लगभग 4 महीने होने को आए, किसान सरकार की बेरुख़ी और उनकी माँग अनसुनी...

कृषि विधेयकों के खिलाफ 25 सिंतबर को देश भर के किसान और किसान संगठनों ने भारत बंद बुलाया है. इस बीच विपक्षी दलों ने आंदोलन शुरू कर दिया है. संसद में 18 विपक्षी दलों ने संसद के मानसून सत्र की बाकी कार्यवाही का बहिष्कार किया है. वहीं, उत्तराखंड में कांग्रेस ने केंद्र के विधेयकों का विरोध किया है. एक दिन के विधानसभा सत्र के दौरान कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष और विधायक प्रीतम सिंह ट्रैक्टर पर विधानसभा के लिए निकले. उनके साथ मनोज रावत, काजी निजामुद्दीन और आदेश चौहान था. उनके ट्रैक्टर पर लगे बैनर पर लिखा था- ‘किसान विरोधी काला कानून वापस लो’. हालांकि, पुलिस ने उन्हें विधानसभा पहुंचने से पहले ही रोक लिया. इसके बाद विधायकों ने वहीं पर एक दिन का धरना शुरू कर दिया.

कांग्रेस के अलावा कृषि अध्यादेश के विरोध में आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने भी विधानसभा जाने की कोशिश की. लेकिन पुलिस ने उन्हें भी आगे नहीं जाने दिया. इस दौरान पुलिस और आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं के बीच तीखी नोकझोक हुई.

उत्तराखंड ही नहीं, पंजाब और हरियाणा में भी कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जबरदस्त आंदोलन किया. अमृतसर में कृषि विधेयकों के खिलाफ प्रदर्शन में कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू भी शामिल हुए. लुधियाना में भी कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने बड़े पैमाने पर प्रदर्शन किया. यहां पर भी कार्यकर्ताओं ने ट्रैक्टर रैली निकाली.

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

किसान आंदोलन: पूरे हुए 4 महीने, क्या हुआ हासिल?

कृषि क़ानूनों का विरोध और MSP की गारंटी की माँग को लेकर देश भर में संयुक्त किसान...

किसान महापंचायत की गूंज, दक्षिण भारत में भी

किसान महापंचायत की गूंज दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में भी सुनाई दी, BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत समेत दूसरे किसान...

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर से किसानों का फूटा ग़ुस्सा

किसान आंदोलन को लगभग 4 महीने होने को आए, किसान सरकार की बेरुख़ी और उनकी माँग अनसुनी करने को लेकर काफ़ी ख़फ़ा...

किसान आंदोलन: राजनीति या आजीविका की लड़ाई?

किसान आंदोलन देश के अलग अलग राज्यों में बढ़ता जा रहा है, जिन ५ राज्यों में चुनाव है वहाँ केंद्र में सत्ताधारी...

कृषि आंदोलन: क्या है किसानों का मूड?

कृषि आंदोलन को 115 दिन होने को आए, इस बीच ये आंदोलन पंजाब-हरियाणा- उत्तर प्रदेश-राजस्थान-मध्य प्रदेश के बाद अब उन राज्यों में...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -