छत्तीसगढ़ : कृषि कानूनों के खिलाफ 30 से ज्यादा किसान संगठन उतरेंगे सड़कों पर

केंद्र सरकार ने किसानों को मिलने के लिए भेजा न्योता, किसानों ने कहा बैठक के बाद होगा फैसला

कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे पंजाब के किसान संगठनों को एक बार फिर केंद्र सरकार ने मिलने के लिए न्योता...

उत्तर प्रदेश के किसानों का सवाल, आखिर कब और कैसे बिकेगा धान?

उत्तर प्रदेश सरकार लगातार धान बेचने जा रहे किसानों को न्यूनतम खरीद मूल्य यानी एमएसपी का पूरा लाभ देने की बातें कह...

यूपी, एमपी के उपचुनाव में बीजेपी को मिली जीत, बेअसर नजर आए किसानों के मुद्दे

एक तरफ हरियाणा में जहां बीजेपी को किसानों की नाराजगी का सामना बरोदा सीट पर उपचुनाव में हार से करना पड़ा। वहीं,...

हरियाणा: बरोदा उपचुनाव में कांग्रेस की जीत, किसानों ने जो कहा था वही हुआ

हरियाणा की बरोदा विधान सभा उपचुनाव के नतीजे आ गए हैं। यहां कांग्रेस के प्रत्याशी इंदु राज नरवाल ने बीजेपी प्रत्याशी पहलवान...

हरियाणा: खट्टर सरकार ने बढ़ाए गन्ने के दाम, किसानों ने कहा दस रुपये बेहद कम

हरियाणा की खट्टर सरकार ने गन्ने की कीमत में बढ़ोतरी का ऐलान किया है। सोमवार को सीएम मनोहर लाल खट्टर ने गन्ने...

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ छत्तीसगढ़ में किसान संगठनों ने 5 नवंबर को चक्का जाम करने का ऐलान किया है। अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के आह्वान पर केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ, देशव्यापी चक्का जाम में प्रदेश के 30 से ज्यादा किसान संगठन शामिल होंगे।

छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन के राज्य संयोजक आलोक शुक्ला और छत्तीसगढ़ किसान सभा के राज्य अध्यक्ष संजय पराते ने कहा कि ‘प्रदेश के 30 से ज्यदा किसान संगठन सड़को पर उतरेंगे और प्रदेश के सभी राष्ट्रीय और राज्य मार्गों पर चक्का जाम किया जाएगा।’

उन्होंने कहा कि ‘जगह-जगह इन कानूनों की प्रतियां और सरकार के पुतले भी जलाए जाएंगे। साथ ही “कॉर्पोरेट भगाओ- खेती-किसानी बचाओ-देश बचाओ” का नारा भी बुलंद किया जाएगा।’

किसान संगठनों का कहना है कि केंद्र सरकार इस देश की कृषि और खाद्यान्न के बाजार को कार्पोरेटों के हवाले करना चाहती है इसलिए, मोदी सरकार ने ये तीन कृषि विरोधी कानून बनाये हैं। कृषि कानूनों को लेकर केंद्र सरकार की मंशा पर सवाल उठाते हुए संजय पराते ने कहा कि इसका मकसद किसानों को समर्थन मूल्य की प्रणाली और गरीबों को सार्वजनिक वितरण प्रणाली से वंचित करना है।

इसके अलावा किसान संगठन राज्य की भूपेश बघेल सरकार से धान की खरीद 10 नवंबर से शुरू करने और केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पारित विधेयकों में बदलाव किए जाने की मांग कर रहे हैं।

छत्तीसगढ़ किसान सभा के राज्य अध्यक्ष संजय पराते ने कहा कि ‘ प्रदेश की भूपेश सरकार ने विधान सभा में जो विधेयक पास किया है, वो किसानों के लिए समर्थन मूल्य सुनिश्चित नहीं करता, किसानों के हितों की रक्षा नहीं करता। इसलिए पंजाब की तर्ज पर एक सर्वसमावेशी कानून बनाया जाए।’

राज्य की भूपेश बघेल सरकार ने 28 अक्टूबर को विधानसभा के विशेष सत्र के दौरान छत्तीसगढ़ कृषि उपज मंडी (संशोधन) विधेयक 2020, चर्चा के बाद ध्वनिमत से पारित किया था।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

केंद्र सरकार ने किसानों को मिलने के लिए भेजा न्योता, किसानों ने कहा बैठक के बाद होगा फैसला

कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे पंजाब के किसान संगठनों को एक बार फिर केंद्र सरकार ने मिलने के लिए न्योता...

उत्तर प्रदेश के किसानों का सवाल, आखिर कब और कैसे बिकेगा धान?

उत्तर प्रदेश सरकार लगातार धान बेचने जा रहे किसानों को न्यूनतम खरीद मूल्य यानी एमएसपी का पूरा लाभ देने की बातें कह...

यूपी, एमपी के उपचुनाव में बीजेपी को मिली जीत, बेअसर नजर आए किसानों के मुद्दे

एक तरफ हरियाणा में जहां बीजेपी को किसानों की नाराजगी का सामना बरोदा सीट पर उपचुनाव में हार से करना पड़ा। वहीं,...