चंडीगढ़ पुलिस ने हिरासत में लिए गए अकाली दल नेताओं को रिहा किया

किसानों के तीखे आंदोलन के बाद कृषि कानूनों पर केंद्र सरकार और एनडीए का साथ छोड़ने वाले शिरोमणि अकाली दल ने गुरुवार को पंजाब में तीन जगहों से किसान मार्च निकाला।

पाम ऑयल मिशन को लेकर नॉर्थ-ईस्ट में उपजी आशंकाएं

“हमसे कोई सलाह-मशविरा नहीं लिया गया। नॉर्थ ईस्ट में पाम ऑयल मिशन ठीक नहीं है क्योंकि मेघालय में हम आदिवासियों का जीवन...

Palm Oil की खेती से क्या हैं नुक़सान?

National Mission on Edible oils- Oil Palm को सरकार ने 18 August 2021 को हरी झंडी दिखाई, खाने के तेल,Palm oil को...

MSP का खेल निराला, क्या है कुछ काला?

सरकार ने किसान आंदोलन के बीच रबी मार्केटिंग सीज़न 2022-23 के लिए फसलों की MSP का एलान किया है, सरकार फसलों के...

Karnal: किसानों ने सचिवालय पर डाला डेरा, सुनेगी सरकार?

मुज़फ़्फ़रनगर 5 September और फिर 7 September को हफ़्ते में दूसरी बड़ी किसान महापंचायत, किसानों ने अपनी माँग को पुरज़ोर तरीक़े से...

UP – Muzaffarnagar किसानों की हुंकार से होगा बदलाव?

5 September,2021, UP के मुज़फ़्फ़रनगर में किसानों की महापंचायत किन किन मायनो में अहम रही? ये किसानों का खुद का शक्ति परीक्षण...

पंजाब में कृषि कानूनों के खिलाफ चंडीगढ़ में राज्यपाल को ज्ञापन देने जा रहे शिरोमणि अकाली दल के नेताओं को चंडीगढ़ पुलिस ने हिरासत में लेने के थोड़ी देर बाद रिहा कर दिया। पुलिस ने शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख और लोक सभा सांसद सुखबीर सिंह बादल और विक्रमजीत मजीठिया को मुल्लापुर बॉर्डर पर, जबकि पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल को जीरकपुर बॉर्डर पर हिरासत में ले लिया था। चंडीगढ़ में मुल्लापुर बॉर्डर पर नेताओं को हिरासत में लेने से पहले पुलिस ने कार्यकर्ताओं को तितर-वितर करने के लिए वॉटर केनन का भी इस्तेमाल किया।

किसानों के तीखे आंदोलन के बाद कृषि कानूनों पर केंद्र सरकार और एनडीए का साथ छोड़ने वाले शिरोमणि अकाली दल ने गुरुवार को पंजाब में तीन जगहों से किसान मार्च निकाला। जिसकी अमृतसर के अकाल तख्त से सुखबीर बादल, बठिंडा के तलवंडी साबो से हरसिमरत कौर और केशगढ़ से प्रो. प्रेम सिंह चंदूमाजरा ने अगुवाई की। नेताओं ने अपने कार्यकर्ताओं के साथ रैली करते हुए चंडीगढ़ पहुंचने और राज्यपाल को कृषि कानूनों के खिलाफ ज्ञापन देने का ऐलान किया था। लेकिन जैसे ही अकाली दल के नेताओं का काफिला जीरकपुर बॉर्डर के पास पहुंचा, वहां पहले से मौजूद पुलिस बल ने काफिले को रोक लिया। हालांकि, कार्यकर्ताओं ने बैरिकेड्ट तोड़कर आगे बढ़ने की भी कोशिश की, जिससे निपटने के लिए पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा।

जीरकपुर बॉर्डर पर ही पुलिस अकाली दल नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल को दूसरे कार्यकर्ताओं के साथ हिरासत में लेकर चंडीगढ़ ले आई। हिरासत में लिए जाने से पहले उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ये जो काला कानून लेकर आई है, उसको इसे हर हाल में वापस लेना पड़ेगा, क्योंकि इससे किसान, व्यापारी, आढ़ती और आम जनता सबका भविष्य अंधकार में पड़ जाएगा। हरसिमरत कौर ने आगे कहा कि पंजाब के राज्यपाल को इस सम्बंध में ज्ञापन हर हाल में सौंपा जाएगा।

पुलिस हिरासत से छूटने के बाद अकाली दल प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने पुलिस पर दुश्मनों की तरह व्यवहार करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि किसानों की आवाज को कुचलने की कोशिश की गई है। सुखबीर बादल ने आगे कहा कि इस काले कानून के खिलाफ अकाली दल की लड़ाई जारी रहेगी, क्योंकि अकाली दल किसानों की पार्टी है। उन्होंने बहुत जल्द पार्टी की बैठक बुलाने और अगली रणनीति बनाने की भी बात कही।

कृषि कानूनों को लेकर शिरोमणि अकाली दल के रुख में आए बदलाव को लेकर दूसरे दलों ने निशाना साधा है। पंजाब में आम आदमी पार्टी के नेता प्रतिपक्ष हरपाल चीमा ने कहा कि शिरोमणी अकाली दल आज बहुत बड़ा नाटक रच रही है कि वह बहुत बड़े किसान हितैषी हैं, जो कि बिल्कुल कोरा झूठ है। उन्होंने कहा कि जब तक मोदी सरकार ने किसान विरोधी बिल को पास नहीं किए थे, तब तक तो अकाली दल भाजपा की हां में हां मिलाते हुए इन कानूनों का गुणगान कर रही थी, फिर किसानों का गुस्सा देखकर यू-टर्न ले लिया। हरपाल सिंह चीमा ने कहा कि पंजाब के लोग सब जानते हैं कि कैसे अकाली दल ने किसान विरोधी कानूनों को पास कराने में मदद की है।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

पाम ऑयल मिशन को लेकर नॉर्थ-ईस्ट में उपजी आशंकाएं

“हमसे कोई सलाह-मशविरा नहीं लिया गया। नॉर्थ ईस्ट में पाम ऑयल मिशन ठीक नहीं है क्योंकि मेघालय में हम आदिवासियों का जीवन...

Palm Oil की खेती से क्या हैं नुक़सान?

National Mission on Edible oils- Oil Palm को सरकार ने 18 August 2021 को हरी झंडी दिखाई, खाने के तेल,Palm oil को...

MSP का खेल निराला, क्या है कुछ काला?

सरकार ने किसान आंदोलन के बीच रबी मार्केटिंग सीज़न 2022-23 के लिए फसलों की MSP का एलान किया है, सरकार फसलों के...