बीजेपी किसानों पर दबाव बनाने की कोशिश कर रही है : बीकेयू

किसानों ने बीजेपी पर लगाया आंदोलन रोकने और उनकी आवाज दबाने का आरोप

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...

किसान क्यूँ कर रहे हैं साइलोज़ का बहिष्कार?

हरियाणा हो या पंजाब, किसान अडानी के Silos में अपनी फसल देने से इंकार कर रहे हैं, हालाँकि Adani Agro Logistics का...

हरियाणा में फसल ख़रीदी को लेकर किसानों के अनुभव

हरियाणा में 1 April 2021 से गेहूँ की ख़रीदी शुरू हो गयी है लेकिन किसान मंडी में बारदाने की कमी से लेकर...

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब और हरियाणा में किसानों का सबसे तीखा विरोध सामने आया है। हालांकि, हरियाणा में किसानों ने राज्य की खट्टर सरकार पर उत्पीड़न करने का आरोप लगाया है। किसानों का कहना है कि बीजेपी अपने कार्यकर्ता की मौत का राजनीतिक फायदा उठाना चाहती है, इसलिए किसानों पर अपने कार्यकर्ता की हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है। इस बीच पुलिस ने नरायणगढ़ में कृषि कानून के समर्थन में आए एक किसान की हत्या के आरोप में आठ किसानों को गिरफ्तार किया है। इसके अलावा शहजादपुर- नारायणगढ़ नेशनल हाईवे को जाम करने के आरोप में छह किसानों के खिलाफ मामला भी दर्ज किया है।  

पुलिस प्रशासन की इस कार्रवाई पर भारतीय किसान यूनियन हरियाणा के मीडिया प्रभारी राकेश कुमार बैंस ने सवाल उठाया है। हिंद किसान से बातचीत में उन्होंने कहा कि ‘सरकार झूठे मुकदमों में किसानों को फंसाना चाह रही है।’ उन्होंने कहा कि ‘बीजेपी की कृषि कानूनों के समर्थन में निकाली जा रही रैली में किसान भरत सिंह शामिल था। ट्रैक्टर पर बैठे इस किसान की मौत हार्ट अटैक से हुई है लेकिन पुलिस ने किसानों पर 302 के तहत मुकदमा दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है। बीजेपी किसानों के आंदोलन को रोकने के लिए और किसानों पर दबाव बनाने के लिए यह सब कर रही है।’  उन्होंने कहा कि ‘बीजेपी कोविड के वक्त पर रैली निकाल रही है, ऐसे में किसानों के बजाए आयोजन करने वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज होना चाहिए।’ राकेश बैंस ने यह भी कहा कि ‘हमारी मांग है कि इस मामले की जांच दूसरे प्रदेश की जांच एजेंसी से कराई जाए, जिस पर बीजेपी सरकार का दबाव न हो।’

किसानों के इन आरोपों में बीच एफआईआर में कहा गया है कि ’14 अक्टूबर को कृषि कानूनों के समर्थन में ट्रैक्टर रैली की जा रही थी। ये यात्रा नारायणगढ़ से शहजादपुर जानी थी लेकिन, मिलन पैलेस के पास जब ये रैली पहुंची तो वहां पर काफी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता और गुरनाम सिंह चढूनी के लोग मौजूद थे। जिन्होंने रोड जाम कर दिया। उनके पास काले झंडे और लाठी, डंडे मौजूद थे। इन लोगों ने ट्रैक्टर पर बैठे लोगों पर हमला कर दिया, इसी धक्का मुक्की में भरत सिंह बेहोश होकर गिर गए। बाद में उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया।’

भरत सिंह के साथी ऋषि पाल की तरफ से दर्ज कराई गई एफआईआर

दरअसल ये पूरा मामला 14 अक्टूबर का है, जब हरियाणा के नारायणगढ़ में केंद्रीय मंत्री रतनलाल कटारिया और सांसद नायब सैनी कृषि कानूनों की हिमायत करने और किसानों को जागरूक करने के मकसद से ट्रैक्टर रैली निकाल रहे थे। इसी रैली के दौरान बड़ा गांव के रहने वाले किसान भरत सिंह की मौत हो गई थी। रैली के विरोध में किसान कृषि कानूनों के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे। इस दौरान नाराज किसानों ने केंद्रीय मंत्री रतनलाल कटारिया और सांसद नायब सैनी को काले झंडे दिखाए थे और उनका घेराव किया था।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...