भारत बंद : किसानों का जोरदार प्रदर्शन

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...

किसान क्यूँ कर रहे हैं साइलोज़ का बहिष्कार?

हरियाणा हो या पंजाब, किसान अडानी के Silos में अपनी फसल देने से इंकार कर रहे हैं, हालाँकि Adani Agro Logistics का...

हरियाणा में फसल ख़रीदी को लेकर किसानों के अनुभव

हरियाणा में 1 April 2021 से गेहूँ की ख़रीदी शुरू हो गयी है लेकिन किसान मंडी में बारदाने की कमी से लेकर...

कृषि विधेयकों के खिलाफ देश भर में किसानों ने पूरे देश में प्रदर्शन किया है. पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान समेत सभी राज्यों से किसानों के प्रदर्शन की खबरें आई हैं। पंजाब के अमृतसर, जालंधर, संगरूर, मानसा और हरियाणा के जींद और रतिया जिले में किसानों ने हाईवे जाम कर दिया है। किसान संसद से पारित कृषि विधेयकों को अपने खिलाफ बता रहे हैं. उनका साफ कहना है कि सरकार इन विधेयकों को वापस ले.

मोहाली में किसानों ने किया चक्का जाम

किसानों ने सरकार पर खेती को पूंजीपतियों के हाथ में सौंपने का आरोप लगाया है. हरियाणा में किसान आंदोलन की अगुवाई कर रहे भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा कि भारत का व्यापार चंद पूंजीपतियों के हाथ में जाने वाला है.

किसान नेता गुरनाम सिंह चढूनी

किसानों के भारत बंद का राजनीतिक दलों ने भी समर्थन किया है. कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी ट्विटर पर लिखा, ‘किसानों से एमएसपी छीन ली जाएगी। उन्हें कांट्रेक्ट फार्मिंग के जरिए खरबपतियों का गुलाम बनने पर मजबूर किया जाएगा। न दाम मिलेगा, न सम्मान। किसान अपने ही खेत पर मजदूर बन जाएगा। भाजपा का कृषि बिल ईस्ट इंडिया कम्पनी राज की याद दिलाता है। हम ये अन्याय नहीं होने देंगे।’

बिहार में आरजेडी ने भी भारत बंद के समर्थन में प्रदर्शन किया.

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

गाँव में कोरोना से लड़ने की क्या हो तैयारी?

MP के हरदा ज़िले के रोल गाँव में क़रीब 30 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गयी, 350 परिवार वाले गाँव के...

क्या है ज़रूरी – ज़िंदगी या चुनाव?

29 April 2021, कोरोना की ख़तरनाक जानलेवा लहर के बीच उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिए आख़री चरण का मतदान पूरा हुआ,...

ज़िंदगी या चुनाव- क्या है ज़रूरी?

कोरोना की मौजूदा लहर में हर दिन जिंदगियाँ रेत की तरह फिसल रही हैं, समाज में लोग अपनों को खो रहे हैं...