किसानों के समर्थन में आए कलाकार

कृषि विधेयकों को लेकर कुछ कलाकार किसानों के विरोध के साथ खड़े हैं तो कुछ कलाकार सरकार के दावों के साथ

छत्तीसगढ़: दुगली आगजनी कांड पर सीपीआई (एम) की रिपोर्ट

छत्तीसगढ़ में धमतरी जिले के दुगली गांव में 13 अक्टूबर को आदिवासी परिवारों के घरों को उजाड़ने के मामले में भारत की...

31 अक्टूबर तक कोल्ड सेटोरेज खाली करने का दबाव बढ़ा तो होगा आंदोलन – किसान

उत्तर प्रदेश सरकार के 31 अक्टूबर तक कोल्ड स्टोरेज खाली करने के फैसले से आलू किसान खासे नाराज हैं। आगरा जिले में...

हरियाणा: बरोदा उपचुनाव में कितना भारी पड़ेगा किसानों का गुस्सा

हरियाणा में केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ लगातार विरोध जारी है। राज्य की खट्टर और केंद्र की मोदी सरकार के...

आखिर कितना असरदार है छत्तीसगढ़ सरकार का मंडी संशोधन विधेयक

माना जा रहा था कि जैसे पंजाब सरकार ने तीन कानून के असर को निष्क्रिय करने के लिए अपने खुद के नए...

योगी सरकार के फैसले से क्यों खफा हैं आलू किसान

उत्तर प्रदेश सरकार ने कोल्ड स्टोरेज में रखे आलुओं को 31 अक्टूबर तक बाहर निकालने और कोल्ड स्टोरेज को खोली करने के...

कृषि से जुड़े तीनों विधेयकों पर संसद से लेकर सड़क तक हंगामा जारी है। इस मामले में ज्यादातर कलाकारों ने किसानों की राय का समर्थन किया है। लेकिन एक खेमा ऐसा भी है जो कृषि विधेयकों पर सरकार की राय का समर्थन कर रहा है। इस मामले में कलाकारों ने हरियाणा के पीपली में किसान रैली के दौरान लाठीचार्ज होने के बाद सोशल मीडिया पर अपनी प्रतिक्रियाएं साझा करनी शुरू कर दी थी। लेकिन अब खुलकर बोल रहे हैं। पंजाबी गायकों ने गानों के जरिए भी अपनी बात रखी है।

पंजाबी गायक कोराला मान ने किसानों की समस्याओं को लेकर नया गाना बनाया है. इसे नाम दिया है ‘वेपन शोल्डर’। यूट्यूब पर अब तक इस गाने को 32 लाख से ज्यादा बार सुना और देखा गया है।  

कृषि विधेयकों के पास होने के बाद पंजाबी गायक जस बाजवा ने भी इसको लेकर एक गाना बनाया है, जिसे काफी पसंद किया जा रहा है।

गायक दलजीत दोसांझ ने कृषि विधेयकों पर किसान विरोधी बताया है. ट्विटर पर उन्होंने लिखा कि किसान विरोधी बिल का हम सब विरोध करते हैं। हालांकि, लोगों की आलोचना के बाद दलजीत ने यह भी ट्वीट किया कि वह किसी भी राजनीतिक पार्टी के समर्थन में नहीं हैं, बल्कि किसानों के हक की मांग कर रहे हैं।

एक्टर और सिंगर गिप्पी ग्रेवाल ने फेसबुक और इंस्टाग्राम पर ‘किसान मजदूर एकता जिंदाबाद’ और ‘किसान बचाओ देश बचाओ’ लिख कर पोस्ट किया। इसके साथ ही उन्होंने एक गाना भी पोस्ट किया।

लोक कलाकार और बीजेपी नेता सपना चौधरी ने भी किसानों को लेकर फेसबुक पर एक कविता शेयर की और सरकार से किसानों की सुनवाई करने की अपील की।

खेत में दिन निकलता हैखेत में ही अंधेरा होता हैचिंन्ता में कटती है रातें चैन से कहाँ सोता हैसब के पेट पालता हैफिर…

Posted by Sapna Choudhary on Saturday, 12 September 2020

टीवी कलाकार सरगुन मेहता ने भी इंस्टग्राम और फेसबुक पर किसानों की रैलियों की फोटो पोस्ट करते हुए लिखा ’किसान बचाओ देश बचाओ। किसान विरोधी बिल का हम सब विरोध करते हैं’।

एक्टर गुरप्रीत गुग्गी ने इंस्टाग्राम पर किसानों के समर्थन में ‘किसानों को बचाओ’ पोस्ट किया। साथ ही उन्होंने एक पोस्टर भी शेयर किया, जिस पर लिखा है ‘मैं विरोध करता हूं खेती सुधार काले कानून का। रोष। किसान बचाओ, पंजाब बचाओ’।

अभिनेता करमजीत अनमोल ने एक दिन में किसानों से जुड़ी दो तीन पोस्ट की। एक पोस्ट में उन्होंने किसानों की रैली की तस्वीर शेयर की तो दूसरी पोस्ट में लिखा कि ’खेती अध्यादेश, लोकसभा में हुआ पास।’ इसी पोस्टर पर क्रॉस का बड़ा सा निशान बना था जिस पर लिखा है बायकॉट यानी बहिष्कार।

एक्ट्रेस सोनम बाजवा ने एक वीडियो शेयर किया जिसमें वो किसानों के साथ खड़ी नजर आ रही हैं। जिस पर उन्होंने लिखा कि यह वीडियो सिर्फ इसलिए नहीं बना रही कि मेरे दादाजी, मेरे चाचाजी, समेत बहुत सारे लोग किसान हैं, खेती करते हैं। मैं यह इसलिए बना रही हूं, क्योंकि मैंने फसल उगाने से लेकर मंडी ले जाकर बेचने तक किसानों का सफर देखा है। उन्होंने लोगों से किसानों के साथ खड़े होने की अपील की।

सरकार के फैसले के समर्थन में भी हैं कलाकार

एक तरफ जहां कलाकार किसानों का समर्थन कर रहे है वहीं कई कलाकार ऐसे भी हैं जो कृषि विधेयकों को लेकर सरकार के फैसले की सराहना भी कर रहे हैं। इसमें बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रानौत का नाम सबसे ऊपर है. ट्विटर पर उन्होंने लिखा कि, ‘वो जो रात दिन किसानों की दुर्दशा का शोर मचाते थे वही आज देश हित में किसानों के सशक्तिकरण, आत्मनिर्भर बनाने के बिल का बहिष्कार, सरकार की लोक कल्याणकारी योजना को रोकना चाहते हैं इन दुखी लोगों के दुख कभी कम नहीं होंगे’।

अपने दूसरे ट्वीट में कंगना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ट्वीट को री-ट्वीट करते हुए जो लिखा उस पर उनकी चौतरफा आलोचना हुई। खासकर किसानों की इस पर तीखी प्रतिक्रिया आई है।

हालांकि, आलोचना और बढ़ते विरोध को देखते हुए कंगना ने ट्विटर पर ही सफाई दी। उन्होंने लिखा कि, ‘जैसे श्री कृष्ण की नारायणी सेना थी, वैसे ही पप्पु की भी अपनी एक चंपू सेना है जो कि सिर्फ अफवाहों के दम पर लड़ना जानती है…।’

कृषि विधेयकों का समर्थन करते हुए सिंगर दलेर मेहंदी ने ट्वीट किया कि वर्षों से गुलामी की जंजीरों में बंद किसानों को जब नरेंद्र मोदी जी ने खुशहाल बनाने का काम किया है तो विपक्षी दलों में हाहाकार मच गया है। हम सब किसान भाइयों को बधाई।

कृषि विधेयकों पर कलाकार किसान और सरकार की राय के साथ बंट गए हैं. इस बीच किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. उनका साफ कहना है कि सरकार इन विधेयकों को या तो वापस ले या फिर फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी देने वाला कानून बनाए.

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

छत्तीसगढ़: दुगली आगजनी कांड पर सीपीआई (एम) की रिपोर्ट

छत्तीसगढ़ में धमतरी जिले के दुगली गांव में 13 अक्टूबर को आदिवासी परिवारों के घरों को उजाड़ने के मामले में भारत की...

31 अक्टूबर तक कोल्ड सेटोरेज खाली करने का दबाव बढ़ा तो होगा आंदोलन – किसान

उत्तर प्रदेश सरकार के 31 अक्टूबर तक कोल्ड स्टोरेज खाली करने के फैसले से आलू किसान खासे नाराज हैं। आगरा जिले में...

हरियाणा: बरोदा उपचुनाव में कितना भारी पड़ेगा किसानों का गुस्सा

हरियाणा में केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ लगातार विरोध जारी है। राज्य की खट्टर और केंद्र की मोदी सरकार के...