किसानों के समर्थन में आए कलाकार

कृषि विधेयकों को लेकर कुछ कलाकार किसानों के विरोध के साथ खड़े हैं तो कुछ कलाकार सरकार के दावों के साथ

पाम ऑयल मिशन को लेकर नॉर्थ-ईस्ट में उपजी आशंकाएं

“हमसे कोई सलाह-मशविरा नहीं लिया गया। नॉर्थ ईस्ट में पाम ऑयल मिशन ठीक नहीं है क्योंकि मेघालय में हम आदिवासियों का जीवन...

Palm Oil की खेती से क्या हैं नुक़सान?

National Mission on Edible oils- Oil Palm को सरकार ने 18 August 2021 को हरी झंडी दिखाई, खाने के तेल,Palm oil को...

MSP का खेल निराला, क्या है कुछ काला?

सरकार ने किसान आंदोलन के बीच रबी मार्केटिंग सीज़न 2022-23 के लिए फसलों की MSP का एलान किया है, सरकार फसलों के...

Karnal: किसानों ने सचिवालय पर डाला डेरा, सुनेगी सरकार?

मुज़फ़्फ़रनगर 5 September और फिर 7 September को हफ़्ते में दूसरी बड़ी किसान महापंचायत, किसानों ने अपनी माँग को पुरज़ोर तरीक़े से...

UP – Muzaffarnagar किसानों की हुंकार से होगा बदलाव?

5 September,2021, UP के मुज़फ़्फ़रनगर में किसानों की महापंचायत किन किन मायनो में अहम रही? ये किसानों का खुद का शक्ति परीक्षण...

कृषि से जुड़े तीनों विधेयकों पर संसद से लेकर सड़क तक हंगामा जारी है। इस मामले में ज्यादातर कलाकारों ने किसानों की राय का समर्थन किया है। लेकिन एक खेमा ऐसा भी है जो कृषि विधेयकों पर सरकार की राय का समर्थन कर रहा है। इस मामले में कलाकारों ने हरियाणा के पीपली में किसान रैली के दौरान लाठीचार्ज होने के बाद सोशल मीडिया पर अपनी प्रतिक्रियाएं साझा करनी शुरू कर दी थी। लेकिन अब खुलकर बोल रहे हैं। पंजाबी गायकों ने गानों के जरिए भी अपनी बात रखी है।

पंजाबी गायक कोराला मान ने किसानों की समस्याओं को लेकर नया गाना बनाया है. इसे नाम दिया है ‘वेपन शोल्डर’। यूट्यूब पर अब तक इस गाने को 32 लाख से ज्यादा बार सुना और देखा गया है।  

कृषि विधेयकों के पास होने के बाद पंजाबी गायक जस बाजवा ने भी इसको लेकर एक गाना बनाया है, जिसे काफी पसंद किया जा रहा है।

गायक दलजीत दोसांझ ने कृषि विधेयकों पर किसान विरोधी बताया है. ट्विटर पर उन्होंने लिखा कि किसान विरोधी बिल का हम सब विरोध करते हैं। हालांकि, लोगों की आलोचना के बाद दलजीत ने यह भी ट्वीट किया कि वह किसी भी राजनीतिक पार्टी के समर्थन में नहीं हैं, बल्कि किसानों के हक की मांग कर रहे हैं।

एक्टर और सिंगर गिप्पी ग्रेवाल ने फेसबुक और इंस्टाग्राम पर ‘किसान मजदूर एकता जिंदाबाद’ और ‘किसान बचाओ देश बचाओ’ लिख कर पोस्ट किया। इसके साथ ही उन्होंने एक गाना भी पोस्ट किया।

लोक कलाकार और बीजेपी नेता सपना चौधरी ने भी किसानों को लेकर फेसबुक पर एक कविता शेयर की और सरकार से किसानों की सुनवाई करने की अपील की।

खेत में दिन निकलता हैखेत में ही अंधेरा होता हैचिंन्ता में कटती है रातें चैन से कहाँ सोता हैसब के पेट पालता हैफिर…

Posted by Sapna Choudhary on Saturday, 12 September 2020

टीवी कलाकार सरगुन मेहता ने भी इंस्टग्राम और फेसबुक पर किसानों की रैलियों की फोटो पोस्ट करते हुए लिखा ’किसान बचाओ देश बचाओ। किसान विरोधी बिल का हम सब विरोध करते हैं’।

एक्टर गुरप्रीत गुग्गी ने इंस्टाग्राम पर किसानों के समर्थन में ‘किसानों को बचाओ’ पोस्ट किया। साथ ही उन्होंने एक पोस्टर भी शेयर किया, जिस पर लिखा है ‘मैं विरोध करता हूं खेती सुधार काले कानून का। रोष। किसान बचाओ, पंजाब बचाओ’।

अभिनेता करमजीत अनमोल ने एक दिन में किसानों से जुड़ी दो तीन पोस्ट की। एक पोस्ट में उन्होंने किसानों की रैली की तस्वीर शेयर की तो दूसरी पोस्ट में लिखा कि ’खेती अध्यादेश, लोकसभा में हुआ पास।’ इसी पोस्टर पर क्रॉस का बड़ा सा निशान बना था जिस पर लिखा है बायकॉट यानी बहिष्कार।

एक्ट्रेस सोनम बाजवा ने एक वीडियो शेयर किया जिसमें वो किसानों के साथ खड़ी नजर आ रही हैं। जिस पर उन्होंने लिखा कि यह वीडियो सिर्फ इसलिए नहीं बना रही कि मेरे दादाजी, मेरे चाचाजी, समेत बहुत सारे लोग किसान हैं, खेती करते हैं। मैं यह इसलिए बना रही हूं, क्योंकि मैंने फसल उगाने से लेकर मंडी ले जाकर बेचने तक किसानों का सफर देखा है। उन्होंने लोगों से किसानों के साथ खड़े होने की अपील की।

सरकार के फैसले के समर्थन में भी हैं कलाकार

एक तरफ जहां कलाकार किसानों का समर्थन कर रहे है वहीं कई कलाकार ऐसे भी हैं जो कृषि विधेयकों को लेकर सरकार के फैसले की सराहना भी कर रहे हैं। इसमें बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रानौत का नाम सबसे ऊपर है. ट्विटर पर उन्होंने लिखा कि, ‘वो जो रात दिन किसानों की दुर्दशा का शोर मचाते थे वही आज देश हित में किसानों के सशक्तिकरण, आत्मनिर्भर बनाने के बिल का बहिष्कार, सरकार की लोक कल्याणकारी योजना को रोकना चाहते हैं इन दुखी लोगों के दुख कभी कम नहीं होंगे’।

अपने दूसरे ट्वीट में कंगना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ट्वीट को री-ट्वीट करते हुए जो लिखा उस पर उनकी चौतरफा आलोचना हुई। खासकर किसानों की इस पर तीखी प्रतिक्रिया आई है।

हालांकि, आलोचना और बढ़ते विरोध को देखते हुए कंगना ने ट्विटर पर ही सफाई दी। उन्होंने लिखा कि, ‘जैसे श्री कृष्ण की नारायणी सेना थी, वैसे ही पप्पु की भी अपनी एक चंपू सेना है जो कि सिर्फ अफवाहों के दम पर लड़ना जानती है…।’

कृषि विधेयकों का समर्थन करते हुए सिंगर दलेर मेहंदी ने ट्वीट किया कि वर्षों से गुलामी की जंजीरों में बंद किसानों को जब नरेंद्र मोदी जी ने खुशहाल बनाने का काम किया है तो विपक्षी दलों में हाहाकार मच गया है। हम सब किसान भाइयों को बधाई।

कृषि विधेयकों पर कलाकार किसान और सरकार की राय के साथ बंट गए हैं. इस बीच किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. उनका साफ कहना है कि सरकार इन विधेयकों को या तो वापस ले या फिर फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी देने वाला कानून बनाए.

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

पाम ऑयल मिशन को लेकर नॉर्थ-ईस्ट में उपजी आशंकाएं

“हमसे कोई सलाह-मशविरा नहीं लिया गया। नॉर्थ ईस्ट में पाम ऑयल मिशन ठीक नहीं है क्योंकि मेघालय में हम आदिवासियों का जीवन...

Palm Oil की खेती से क्या हैं नुक़सान?

National Mission on Edible oils- Oil Palm को सरकार ने 18 August 2021 को हरी झंडी दिखाई, खाने के तेल,Palm oil को...

MSP का खेल निराला, क्या है कुछ काला?

सरकार ने किसान आंदोलन के बीच रबी मार्केटिंग सीज़न 2022-23 के लिए फसलों की MSP का एलान किया है, सरकार फसलों के...