ग़ाज़ीपुर बॉर्डर में चल रहे किसान आंदोलन में मंच के पास बैठी महिलाएँ अपनी सेवा का दान देते दिखी और उन्हें ये चिंता भी करते सुना कि ये लड़ाई केवल किसानों की नहीं, आम उपभोक्ता और ख़ासतौर से गरीब वर्ग की रोटी, कपड़ा और मकान की लड़ाई है। सुनिए इन महिलाओं की मन की बात, क्यूँ खड़ी हैं ये किसानों के साथ।