लोक सभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर जवाब देते हुए PM मोदी ने कृषि क़ानूनों पर अपनी सोच और मंशा साफ़ कर दी, उन्होंने कहा कि ‘Status quo’ की मानसिकता देश को डुबा रही है और आवश्यकता अनुसार बदलाव ही वक़्त की ज़रूरत है, असफलता के डर से अटकना सही नहीं और इसी माहौल में उन्होंने संसद में विरोध के सुर के साथ-साथ कृषि क़ानूनों को सही ठहराया।
उन्होंने ज़ोर दिया की काले क़ानून के ‘color’ पर नहीं ‘content’ और ‘intent’ की बात की जाए,
सुनिए इस पर ऑल इंडिया किसान सभा के जनरल सेक्रेटेरी, संयुक्त किसान मोर्चा के सदस्य और लोक सभा में ८ बार सांसद रहे Hannan Mollah जी का क्या कहना है, तीखी मगर सीधी बात!