सरकार ने ख़रीफ़ मार्केटिंग सीज़न 2021-22 के लिए तमाम फसलों के समर्थन मूल्य यानी MSP में इज़ाफ़ा किया है, आँकड़े देख कर तो यही लग रहा है कि किसान खुश हो जाएँगे लेकिन क्या है इन आँकड़ो की सच्चाई, क्या है इन numbers की हक़ीक़त, इस को समझने के लिए सुनिए हिंद किसान की ख़ास बातचीत, संयुक्त किसान मोर्चा के सदस्य,योगेन्द्र यादव के साथ।
योगेन्द्र यादव ने ‘MSP लूट कैल्क्युलेटर ‘ का कॉन्सेप्ट भी शुरू किया है जो सरकार द्वारा घोषित अलग अलग फसलों पर किसान को असल में कितना MSP मिलता है उसका आँकलन भी करते हैं।