कृषि क़ानून का विरोध और पंचायत और महापंचायतों के ज़रिए उसके विवादित पहलुओं को लोगों तक पहुँचाने की क़वायद का दौर जारी है , इस बीच पंजाब, हरियाणा, उत्तरप्रदेश, राजस्थान के बाद ताज़ा फ़ोकस मध्य प्रदेश पर आ गया है जहाँ 4 मार्च से अगले तीन दिनों तक किसान महापंचायतें होंगी, इनका क्या स्वरूप रहेगा?
Congress शासित राज्यों में MSP को क़ानूनी जामा पहनाने को लेकर क्या सोच है?
Congress के मैनिफ़ेस्टो में APMC मंडी सुधार और निजी निवेश को लेकर क्या दूरदर्शिता थी और वो सोच BJP से किस तरह अलग है।
कृषि क़ानून की संवैधानिक वैध्यता को तय करने के मामले में supreme कोर्ट की क्या भूमिका हो, इन सब पर Congress के क़द्दावर नेता, MP के पूर्व मुख्य मंत्री और राज्य सभा सांसद दिग्विजय सिंह से हिंद किसान की ख़ास बातचीत।