Top Video

नए रंग में गांधी की खादी


खादी को जब वस्त्र नहीं विचार कहा जाता है तो इसके पीछे छोटे उद्योगों को खड़ा करने और इससे आने वाली आत्मनिर्भरता होती है. इसी बात को साबित कर रही हैं वर्धा में ग्रामीण महिलाएं जो खादी को नए रंग में दुनिया के सामने पेश कर रही हैं.