TOMATO

घाटे का सौदा बन रही टमाटर की खेती

अभी शहरों में टमाटर की जो भी कीमत हो लेकिन मध्य प्रदेश के सागर में इसकी खेती करने वाले किसानों तक जो पैसा पहुंचता है उससे वो ठगा महसूस कर रहे हैं.

Read more


टमाटर की खेती से अच्छी कमाई

उत्तराखंड के हरिद्वार में किसान गेहूं और धान जैसी पारंपरिक फसलों को छोड़कर अब टमाटर की खेती का रुख कर रहे हैं. इस बार अच्छी कीमत मिलने से टमाटर उगाने वाले किसान काफी खुश हैं.

Read more


गिरती कीमतों से टमाटर किसान परेशान

मेहनत की कमाई जब आंखो के सामने बर्बाद होती है तो किसान के लिए इससे बड़ा दुख और कुछ नहीं होता लेकिन देश में कोल्ड स्टोरेज जैसी बेसिक सुविधा के लिए भी किसान चक्कर काटते नज़र आ रहे है।

Read more


फसलों पर चली जेसीबी

  • Team Hind Kisan
  • |
  • Feb. 04, 2019
मध्य प्रदेश में सड़क बनाने वाली कंपनी ने किसानों की टमाटर और गेहूं की फसलों को जेसीबी चलाकर नष्ट कर दिया। किसानों की शिकायत है कि उन्हें पहले से इस बारे में कोई जानकारी ही नहीं दी गई थी।

Read more


घाटे का सौदा बनी टमाटर की खेती

  • Team Hind Kisan
  • |
  • Jan. 03, 2019
मोदी सरकार भले ही TOP यानी टमाटर, प्याज और आलू उगाने वाले किसानों की मदद करने के दावे कर रही हो, लेकिन इन किसानों की हालत खराब है। इन किसानों के लिए अपनी फसल की सही कीमत पाना दूर की कौड़ी हो गया है।

Read more


सिल्चर - किसानों को नहीं मिल रही सरकारी मदद

  • Team Hind Kisan
  • |
  • Dec. 27, 2018
असम के कछार ज़िले सिलचर के उदारबंद ब्लॉक के गांवों के किसान कृषि विभाग की भूमिका को लेकर ग़ुस्से में हैं ।

Read more


किसानों को नहीं मिल रहे टमाटर के सही दाम

  • Team Hind Kisan
  • |
  • Dec. 04, 2018
उत्तराखंड के हल्द्वानी में टमाटर किसानों का हाल बेहाल है। पाकिस्तान और दूसरे देशों में टमाटर का निर्यात ना होने से यहां के किसानों के लिए टमाटर की खेती घाटे का सौदा बन गई है।

Read more


कौड़ियों के भाव बिक रहा टमाटर

  • Team Hind Kisan
  • |
  • Sep. 30, 2018
महाराष्ट्र में मराठवाड़ा में सूखे की मार झेलकर टमाटर की खेती करने वाले किसानों को अब बाजार की मार झेलनी पड़ रही है। मंडी पहुंचाने भर की कीमत ना मिलने की वजह से किसान अपने टमाटर को सड़कों के किनारे फेंकने को मजबूर हैं।

Read more


नासिक : गिरते दाम से परेशान किसान

  • Team Hind Kisan
  • |
  • Sep. 07, 2018
महाराष्ट्र के किसानों टमाटर के बाद अब प्याज की गिरती कीमत का सामना करना पड़ रहा है। नासिक स्थित देश की सबसे बड़ी मंडी लासलगांव में प्याज के दाम तीन महीने में लगभग आधे हो गए हैं।

Read more


महाराष्ट्र में क्यों गिर रहे प्याज और टमाटर के दाम?

  • Sep. 07, 2018
महाराष्ट्र में प्याज और टमाटर जैसी सब्जियों की कीमत में गिरावट जारी है। इससे किसानों के लिए लागत निकालना मुश्किल हो गया है। प्याज का दाम गिरने की वजह आवक में इजाफा माना जा रहा है। दरअसल अक्टूबर में नई फसल आने से पहले किसान अपनी पुरानी फसल निपटाने में लगे हैं। इसके साथ कर्नाटक और आंध्रप्रदेश से प्याज की नई फसल भी आने लगी है।

Read more


अमरोहा के किसानों को रास आया टमाटर

गन्ने के लिए मशहूर पश्चिमी उत्तर प्रदेश में अमरोहा के किसानों ने लाल सोना यानी टमाटर की खेती में पहचान बनाई है। कीमतों में उतार-चढ़ाव से परेशानी के बावजूद किसान इसकी खेती छोड़ने को तैयार नहीं हैं। देखिए अमरोहा से विनीत अग्रवाल की रिपोर्ट

Read more


नासिक : किसानों के लिए लागत निकालना भी मुश्किल

महाराष्ट्र की थोक मंडियों में टमाटर की कीमत में भारी गिरावट आई है। नासिक सहित कई जिलों के किसानों के लिए उपज की लागत निकालने का संकट खड़ा हो गया है। नासिक से भारत घनघाट की रिपोर्ट।

Read more


सोलन: आफ़त में टमाटर किसान

  • Team Hind Kisan
  • |
  • Jul. 22, 2018
हिमाचल प्रदेश में इस बार टमाटर किसानों की हालत इतनी ख़राब है कि वो टमाटर तोड़कर अपने ही खेतों में फेंक रहे हैं। दाम इतना गिर गया है कि उनके लिए लागत निकालना भी मुश्किल हो गया है। सोलन से ईशा ठाकुर की रिपोर्ट।

Read more


किसान क्यों सड़कों पर फेंक रहे हैं टमाटर?

मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर में किसान जब टमाटर बेचने मंडी पहुंचे, तो आलम कुछ ऐसा था कि किसानों ने उपज बेचने के बजाए सड़कों पर फेंक दी। देखिए नरसिंहपुर से मनीष ममार की रिपोर्ट

Read more


जानवरों को टमाटर खिलाने को मजबूर किसान

खेत से टमाटर तुड़वाने में जितनी मज़दूरी लगेगी, उतनी क़ीमत भी किसानों को नहीं मिल रही। मध्य प्रदेश के रायसेन ज़िले के टमाटर किसान बदहाल हैं।

Read more


बजट सत्र का आगाज़, राष्ट्रपति ने पेश किया भविष्य का ख़ाका

सरकार अगले बजट की तैयारियों में जुटी है, लेकिन कृषि मंत्रालय पिछले बजट में लघु सिंचाई के लिए आवंटत 5000 करोड़ रुपये के इस्तेमाल को लेकर नियम ही नहीं बना पाई है।

इस फंड के तहत 1.6 मिलियम हेक्टेयर भूमि को लघु सिंचाई योजना के तहत लाया जाना था। गौरतलब है कि देश में अब भी आधी से अधिक कृषि योग्य भूमि की सिंचाई के लिए बारिश पर ही निर्भर रहना पड़ता है।


Read more