"> Farmers in the hope of compensation

Procurement

मुआवजे की आस में किसान

  • Team Hind Kisan
  • |
  • Sep. 11, 2019
भले ही केंद्र सरकार घाटी में सेब खरीदकर किसानों को राहत देने की बात कह रही हो लेकिन कई किसान ऐसे भी हैं जिनकी फसल प्रदेश में हालात के चलते चौपट हो चुकी है.

Read more


NAFED खरीदेगा कश्मीरी सेब

  • Team Hind Kisan
  • |
  • Sep. 11, 2019
कश्मीर में सेब की फसल का सीज़न चल रहा है लेकिन इस बार इसका कारोबार पस्त है. वजह राज्य के विशेष दर्जे को खत्म करने के बाद बने हालात हैं.

Read more


बजट से किसानों की उम्मीदें

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के पहले बजट से किसानों को कर्जमाफी और स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू किए जाने की उम्मीदें हैं. वहीं किसानों की आवाज उठाने वालों की इस बजट से क्या आशाएं हैं.

Read more


FCI की बदली नीति से पंजाब परेशान

  • Team Hind Kisan
  • |
  • Feb. 10, 2019
पंजाब के गोदाम अनाजों से भरे हैं। गेहूं की नई फसल आने की तैयारी में हैं लेकिन अनाज की खरीद और उसके रखरखाव को लेकर राज्य सरकार की चिंता अभी से बढ़ने लगी है।

Read more


कोरबा : धान किसानों को लुभाने में बोनस नाकाम

छत्तीसगढ़ में न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी एमएसपी पर धान की खरीद शुरू हुए 10 दिन बीत चुके हैं। लेकिन सरकारी खरीद केंद्रों पर सन्नाटा पसरा है। इसके पीछे किसानों को लुभाने के लिए समय से पहले खरीद शुरू करने को वजह बताया जा रहा है।

Read more


मध्य प्रदेश : ना भाव, ना भावांतर

  • Team Hind Kisan
  • |
  • Oct. 17, 2018
मध्य प्रदेश में सोयाबीन की फसल कटने लगी हैं, लेकिन न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी एमएसपी पर सरकारी खरीद ना शुरू होने से किसान अपनी उपज औने-पौने दाम पर बेच रहे हैं। देखिए इंदौर से पुष्पेंद्र वैद्य की रिपोर्ट

Read more


फेल भावांतर भरोसे किसान कल्याण

केंद्र सरकार ने किसानों को कीमतों में गिरावट की मार से बचाने के लिए पीएम-आशा नाम की नई योजना तैयार शुरू की है। लेकिन नई योजना में केंद्र सरकार सिर्फ 25 फीसदी फसलों की खरीद करेगी। बाकी जिम्मा राज्यों पर छोड़ दिया गया है।

Read more


एफसीआई ने खरीदा लक्ष्य से ज्यादा चावल

  • Sep. 08, 2018
भारतीय खाद्य निगम यानी एफसीआई ने 2017-18 में लक्ष्य से ज्यादा चावल की खरीद की है। एफसीआई ने न्यूनतम समर्थन मूल्य पर अब तक 380 लाख टन चावल खरीदा, जबकि लक्ष्य 375 लाख टन ही था।

Read more


सरकार कुछ कह रही, आंकड़े कुछ कह रहे

केंद्र सरकार खरीफ की फसलों के लिए घोषित न्यूनतम समर्थन मूल्य में स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू करने का दावा कर रही है। लेकिन राज्य सभा में पेश उसके ही आंकड़े इस पर सवाल उठा रहे हैं। देखिए ये रिपोर्ट।

Read more


मध्य प्रदेश: वीरान मंडी, उपज की बिक्री सुस्त

ट्रक यूनियनों और व्यापारियों की हड़ताल खत्म होने के बाद भी मध्य प्रदेश के किसानों की मुश्किलें जारी हैं। 11 दिन की हड़ताल के बाद जो किसान मंडी पहुंचे, वे सही भाव ना मिलने की वजह से मायूस नजर आए। राजगढ़ से गोविंद सोनी की रिपोर्ट।

Read more


बारां: लहसुन की ख़रीद शुरू करने की मांग

  • Team Hind Kisan
  • |
  • Jul. 07, 2018
राजस्थान के बारां जिले में अब महिला किसान सरकार के खिलाफ खुलकर मैदान में आ गईं हैं। ये किसान लहसुन की सरकारी खरीद दोबारा शुरू करने की मांग कर रही हैं।

Read more


ग़ाज़ीपुर: सैंकड़ों टन गेहूं बारिश की भेंट चढ़ा

उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में सैंकड़ों टन गेहूं बारिश की भेंट चढ़ गया। आनन-फानन में प्रशासन ने अनाज को ढकने की नाकाम कोशिश की। ग़ाज़ीपुर से अमितेश कुमार सिंह की रिपोर्ट।

Read more


राजस्थान के लहसुन किसानों ने राज्यव्यापी आंदोलन की चेतावनी दी

  • Jul. 03, 2018
राजस्थान में लहसुन की सरकारी खरीद की समय सीमा बढ़ाने की मांग को लेकर कोटा के लहसुन उत्पादक किसान सड़कों पर उतर आए हैं। सरकार ने न्यूनतम समर्थन मूल्य पर लहसुन की खरीद 30 जून को बंद कर दिया था।

Read more


मंडियों में किसानों का बुरा हाल

  • Jun. 26, 2018
राजस्थान के किसान कई दिनों से मंडियों में लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं। रविवार को सरसों की खरीद बंद होने की वजह से राज्य के किसानों में भारी नाराजगी है। खरीद बंद होने के कारण ज्यादातर किसान मंडियों में अपनी सरसों की फसल नहीं बेच पाए।

Read more


राजस्थान में लहसुन की ख़रीद बंद

  • Jun. 20, 2018
राजस्थान में आज शाम से लहसुन ख़रीद बंद हो चुकी है। फ़सल बेचने के इंतज़ार कर रहे हज़ारों किसानों को इससे मायूसी हाथ लगी है। ख़रीद बंद होने के बाद नाराज़ किसानों ने कई जगहों पर सरकार के ख़िलाफ़ नारेबाज़ी की।

Read more


पैबंद लगाना काफ़ी नहीं

  • May. 09, 2018
किसी कृषि उत्पाद के लिए ऊंचे न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) का ऐलान और घोषित एमएसपी को वास्तव में दिलाने में फ़र्क है- ये बात फिर उजागर हुई है। इस फ़र्क की मार महाराष्ट्र के दूध उत्पादक किसानों पर पड़ी, तो उन्होंने फिर से आंदोलन की राह पकड़ी है।

Read more