Jobs

'छोटा कश्मीर' बना ऊधमपुर

सेब उत्पादन की बात आती है तो ज़हन में सबसे पहले कश्मीर और शिमला जैसे ठंडे इलाके का नाम आता है लेकिन जम्मू-कश्मीर के बागवानी विभाग की मेहनत रंग लाई है और ऊधमपुर जिले में भी किसान सेब की बागवानी से अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं.

Read more


बढता पलायन

  • Team Hind Kisan
  • |
  • May. 18, 2019
खेती-किसानी में पूरे देश में अपना परचम लहराने वाला पंजाब नए संकट में उलझता दिखाई दे रहा है. राज्य के युवाओं का खेती-किसानी से मोहभंग होता जा रहा है. इतना ही नहीं युवाओं का विदेशों की ओर पलायन बढ़ता जा रहा है. ईशा ठाकुर की रिपोर्ट.

Read more


किसानों के लिए अलग से बजट का वादा

कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव के लिए अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया. पार्टी ने किसानों के लिए अलग से बजट पेश करने और गरीबों के लिए न्याय योजना लाने जैसे कई बड़े वादे किए हैं.

Read more


ना के बराबर बढ़ी मनरेगा मजदूरी

मनरेगा के तहत रोजगार की मांग में तेजी आई है लेकिन मांग के हिसाब से आपूर्ति नहीं हुई.

Read more


गांवों में बेरोजगारी बढ़ने के संकेत

पिछले साल मनरेगा के तहत रोजगार की मांग बीते आठ सालों में सबसे ज्यादा रही लेकिन इन आंकड़ों के क्या मायने है ?

Read more


ग्रामीण इलाकों में छिनी मजदूरी

देश में ग्रामीण भारत में कृषि संकट से तो किसान दो चार हो ही रहे हैं। अब ग्रामीण भरत में मजदूरों की हालत भी खस्ता होती जा रही है। NSSO की ताजा रिपोर्ट से ये आंकड़े सामने आए हैं।

Read more


अच्छे दिन को तरसते गांव

मोदी सरकार के पांच साल में ग्रामीण भारत की अर्थव्यवस्था बदहाल हुआ है। यूपीए के पांच साल के मुकाबले बेशक मोदी राज में महंगाई काबू में रही लेकिन ग्रामीण इलाकों में मजदूरी महज 0.5 फीसदी की रफ्तार से बढ़ी।

Read more


किसानों की कर्जमाफी के लिए प्रदर्शन

पंजाब में विधानसभा बजट सत्र की शुरुआत के पहले दिन किसानों के साथ विपक्षी दलों ने प्रदर्शन किया। शिरोमणि अकाली दल ने कैप्टन अमरिंदर सिंह सरकार पर किसानों का कर्जमाफ करने के मामले में वादाखिलाफी का आरोप लगाया।

Read more


माक़ूल हालात के बावजूद मोदीराज में नहीं हो पाया विकास : पूर्व वित्त सचिव मायाराम

नरेंद्र मोदी सरकार के सत्ता में आने के चार साल बाद देश की आर्थिक हालत कैसी है? क्या मोदी सरकार की नीतियां कृषि संकट को बदतर के लिए ज़िम्मेदार रहीं और क्या है सबका-साथ, सबका विकास के नारे की हक़ीक़त।

Read more


झूठी धारणा का सहारा?

  • May. 08, 2018
दार्शनिकों ने हमें “असत्य धारणा” (false consciousness) के बारे में बताया है। इसका अर्थ ऐसा भ्रम है, जिसे लोग सच मानने लगें। ऐसा भ्रम जीवन के कई पहलुओं के बारे में सामाजिक संस्कृति, पारंपरिक मान्यताओं आदि से बना होता है। आधुनिक काल में, जन-संचार माध्यमों के उदय के बाद धुआंधार प्रचार से भी ऐसी सामूहिक असत्य धारणाएं बना दिए जाने के उदाहरण मौजूद हैं।

Read more


रोज़गार का कैसा हाल?

देश में रोज़गार के मौके बढ़ रहे हैं या घट रहे हैं? सरकार का दावा है कि रोज़गार में काफी इज़ाफ़ा हो रहा है, लेकिन कई रिपोर्टें इसकी उलटी तस्वीर पेश करती हैं।

Read more


रसातल में रोज़गार

  • Mar. 30, 2018
इस खबर ने सहज ही ध्यान खींचा है कि भारतीय रेलवे ने लगभग 90 हज़ार खाली पदों को भरने के लिए अर्ज़ियां आमंत्रित की गईं, तो ढाई करोड़ से ज़्यादा लोगों ने फ़ॉर्म भर दिए। साफ़ तौर पर यह देश में रोज़गार के बदतर होते हालात की एक झलक है। वैसे अब हमारे पास ऐसे ठोस आंकड़े भी हैं जो बताते हैं कि भारत में रोज़गार की संख्या में वास्तविक गिरावट आई है।

Read more