haldwani

पहाड़ों पर जलस्रोतों में प्रदूषित होने की चुनौती

पहाड़ी क्षेत्रों में नदियों और दूसरे जल स्रोतों को मैदानी इलाकों के मुकाबले साफ सुथरा माना जाता है. लेकिन अब इनके भी प्रदूषित होने की समस्या बढ़ गई है.

Read more


क्या कागजों में जैविक घोषित हो रहे गांव

  • Team Hind Kisan
  • |
  • Jan. 06, 2020
जीरो बजट फार्मिंग यानी जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए उत्तराखंड के हल्द्वानी में दो गांवों को जैविक गांव घोषित किया गया लेकिन इसके बाद का काम कृषि विभाग जैसे भूल गया. उत्तराखंड के हल्द्वानी से भूपेंद्र यादव की रिपोर्ट.

Read more


बंदरों से परेशान किसान ने शुरू की ये खेती

  • Team Hind Kisan
  • |
  • Jan. 02, 2020
उत्तराखंड में जंगली जानवरों से लेकर बंदर तक किसानों के लिए आफत बने हुए हैं. इससे परेशान हल्द्वानी के किसानों ने गेहूं और धान की जगह अदरक की खेती शुरू की है.

Read more



Read more


कैसे उत्तराखंड पहुंची काले धान की खेती

  • Team Hind Kisan
  • |
  • Dec. 24, 2019
मणिपुर, असम और छत्तीसगढ़ में पैदा होने वाला काला धान अब उत्तराखंड में भी उगाया जाने लगा है. एक किसान ने इसे हल्द्वानी उगाने में सफलता हासिल की है.

Read more


यूकेलिप्टस की जगह लेगा मिलिया डूबिया

  • Team Hind Kisan
  • |
  • Dec. 19, 2019
एक समय औद्योगिक मांग पूरी करने के लिए उत्तराखंड में यूकेलिप्टस और पॉपुलर को बढ़ावा दिया गया लेकिन अब सरकार यूकिलप्टस से पर्यावरण को होने वाले नुकसान को देखते हुए इन्हें जंगलों और खेतों से हटाने पर जोर दे रही है.

Read more


डेंगू की चपेट में हल्द्वानी

साल का ये वो वक्त है जब डेंगू आसानी से फैलने लगता है. हल्द्वानी में भी डेंगू लगातार अपने पैर पसार रहा है. सरकारी और निजी अस्पताल मरीजों से भर चुके हैं.

Read more


कैमिकल से मुक्त जैविक खेती

इन दिनों जैविक और उसके फायदों की बातें तो खूब हो रही हैं लेकिन सचमुच जैविक खेती के जरिए उगाई गई फसल की रंगत ही अलग होती है.

Read more


केमिकल से पुराना आलू बनता है नया!

  • Team Hind Kisan
  • |
  • Aug. 23, 2019
हर मौसम में आसानी से मिलने वाला आलू उत्तराखंड के हल्द्वानी में लोगों का जायका और सेहत दोनों को बिगाड़ रहा है. आलम ये है कि यहां के लोग अब आलू खरीदने से कतराने लगे हैं. उत्तराखंड के हल्द्वानी से भूपेंद्र रावत की रिपोर्ट.

Read more


सॉयल मैप बनाने की तैयारी

  • Team Hind Kisan
  • |
  • Aug. 23, 2019
किस इलाके में कौन से पौधे लगाना ठीक रहेगा इसके लिए उत्तराखंड का वन विभाग बेहद आधुनिक लैब में मिट्टी की जांच करा रहा है. इसी से मिली जानकारी के आधार पर पौधे लगाने का फैसला किया जाएगा.

Read more


जंगलों पर हुए शोध को सहेजने में नाकाम उत्तराखंड सरकार

उत्तराखंड में वन विभाग जंगलों पर शोध करने के लिए पैसे खर्च करता है. तमाम संस्थाओं को शोध करने की जिम्मेदारी देता है लेकिन ऐसे शोधों और इनके नतीजों के ब्योरे रखना ही भूल जाता है. उत्तराखंड के हल्द्वानी से भूपेंद्र रावत की रिपोर्ट.

Read more


सोने से कई गुना कीमती फंगस

  • Team Hind Kisan
  • |
  • Aug. 03, 2019
एक ऐसा फंगस जो कई गंभीर बीमारियों के इलाज में तो काम आता ही है, इसकी कीमत भी लाखों में होती है. हिमालय के पहाड़ों में पाये जाने वाले इस फंगस को लेकर पहली बार उत्तराखंड सरकार ने नीति बनाई है जो इसके दोहन, रखरखाव और मार्केटिंग से जुड़ी है. हल्द्वानी से भूपेंद्र रावत की रिपोर्ट.

Read more


तितलियों की प्रजातियों का संरक्षण

शहरों में घटते जंगलों की वजह से रंग बिरंगी तितलियां गायब हो गयी हैं. प्रकृति की इस खूबसूरती को उत्तराखंड के हल्द्वानी में संरक्षित किया जा रहा है.

Read more


सूख रहे हैं प्राकृतिक जल स्त्रोत

पहाड़ी इलाकों में बढ़ते कंकरीट के निर्माण और दूसरे विकास कार्यों का प्राकृतिक जल स्रोतों पर बुरा असर पड़ रहा है. जंगल में आग लगने की घटनाएं भी आम होती जा रही है.

Read more


गर्मी से परेशान जंगली जानवर

गर्मी बढ़ने के साथ उतराखंड के जंगलों में छोटे नदी-नालों में पानी सूखने लगा है. रही सही कसर आग लगने की घटनाओं ने पूरी कर दी है.

Read more


हल्द्वानी में बना कैक्टस गार्डन

  • Team Hind Kisan
  • |
  • May. 01, 2019
कैक्टस सुनकर आपके दिमाग में गूदेदार पत्तियों और कांटे वाले पौधे की तस्वीर उभरती होगी.

Read more


हर्बल रंगों से सुरक्षित होली

होली यानी रंगों का त्यौहार लेकिन बाजार में मिलने वाले रासायनिक रंगों इसके उत्साह को फीका कर रहे हैं।

Read more


किसानों को नहीं मिल रहे टमाटर के सही दाम

  • Team Hind Kisan
  • |
  • Dec. 04, 2018
उत्तराखंड के हल्द्वानी में टमाटर किसानों का हाल बेहाल है। पाकिस्तान और दूसरे देशों में टमाटर का निर्यात ना होने से यहां के किसानों के लिए टमाटर की खेती घाटे का सौदा बन गई है।

Read more


पीपल और बरगद के बाद सबसे ज्यादा ऑक्सीजन देने वाला पेड़

बनिहारी हवा में बड़ी मात्रा में ऑक्सीजन रिलीज़ करता है.

Read more