crisis of farming

विशेष चर्चा : आखिर कहां गुम हो गए किसानों के मुद्दे और उसे उठाने वाले आंदोलन?

एक साल पहले तक खेती-किसानी और गांवों का संकट हर किसी की जुबां पर था. किसानों की मांगों को लेकर ना केवल आंदोलन हो रहे थे बल्कि इसने लोक सभा चुनाव का मेन नैरेटिव भी तय किया था.

Read more