इतिहास सुझा सकता है कुछ समाधान

पाम ऑयल मिशन को लेकर नॉर्थ-ईस्ट में उपजी आशंकाएं

“हमसे कोई सलाह-मशविरा नहीं लिया गया। नॉर्थ ईस्ट में पाम ऑयल मिशन ठीक नहीं है क्योंकि मेघालय में हम आदिवासियों का जीवन...

Palm Oil की खेती से क्या हैं नुक़सान?

National Mission on Edible oils- Oil Palm को सरकार ने 18 August 2021 को हरी झंडी दिखाई, खाने के तेल,Palm oil को...

MSP का खेल निराला, क्या है कुछ काला?

सरकार ने किसान आंदोलन के बीच रबी मार्केटिंग सीज़न 2022-23 के लिए फसलों की MSP का एलान किया है, सरकार फसलों के...

Karnal: किसानों ने सचिवालय पर डाला डेरा, सुनेगी सरकार?

मुज़फ़्फ़रनगर 5 September और फिर 7 September को हफ़्ते में दूसरी बड़ी किसान महापंचायत, किसानों ने अपनी माँग को पुरज़ोर तरीक़े से...

UP – Muzaffarnagar किसानों की हुंकार से होगा बदलाव?

5 September,2021, UP के मुज़फ़्फ़रनगर में किसानों की महापंचायत किन किन मायनो में अहम रही? ये किसानों का खुद का शक्ति परीक्षण...

खेती-किसानी की बदहाली पर चिंता कुछ ज़्यादा ही बढ़ गई है। चूंकि पिछले दशकों में किसानों की जी-तोड़ मेहनत से कृषि उत्पादन खूब बढ़ा है, इसीलिए ये सवाल दुखद और आश्चर्यजनक है कि इस समय किसान क्यों बदहाल हैं? इस सवाल का एक ही जवाब सामने आता है कि किसानों की पैदावार का दाम कम है। इतना कम कि उपज की लागत ही बड़ी मुश्किल से निकल पाती है। हालांकि ऐसा भी नहीं कि फ़सलों की लागत का अंदाजा लगाया न गया हो। इसे अच्छी तरह से लगाया गया है। पिछली केंद्र सरकार ने बक़ायदा एक आयोग बैठाकर फ़सल की लागत का हिसाब लगवाया। ऐलान भी हुआ कि किसान को लागत पर 50 फ़ीसद लाभ जोड़कर समर्थन मूल्य तय किया जाएगा। लेकिन लागत निकालने के फ़ॉर्मूले को हू-ब-हू मानने और लागू करने में आज की सरकार को दिक़्क़त है। क्यों? ये एक भरे-पूरे शोध का विषय है। आज नहीं तो कल ये शोध होंगे ज़रूर। और जब होंगे तो इस समस्या का इतिहास जानने की ज़रूरत पड़ेगी।

लेकिन आज जब हम इतिहास जानने निकलते हैं तो बहुतों को डर लगने लगता है। बड़े-बड़े विवादप्रिय लोग भी इस विवाद में बिल्कुल नहीं पड़ना चाहते। लेकिन किसानों पर संकट अभूतपूर्व है। यह उनका संकट है, जिसकी भारत की जनसंख्या में आधा हिस्सा है। कम-से-कम किसी लोकतांत्रिक देश में आधी से ज़्यादा आबादी की बदहाली से बड़ा संकट और क्या हो सकता है? इसीलिए देश में कृषि के पूरे परिदृश्य पर ग़ौर करने की दरकार है। इतिहास के नज़रिए से देखें, तो पता चल सकता है कि इस समय ग़लती कहां हो रही है। साथ ही आगे के लिए भी कुछ काम की बातें समझ में आ सकती हैं।

खेती-किसानी के महत्त्व को दोहराना ज़रूरी

फ़ोटो साभार : अनुपम नाथ/ए पी

कृषि पर चिंता हमेशा से रही है। सिर्फ अपने देश में ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में। आख़िर यही वो उद्यम है, जो मानव की सबसे पहली ज़रूरत- यानी भोजन का प्रबंध करता है। और फिर अपने देश को तो हम आज़ादी के बाद से लेकर आजतक कृषि प्रधान देश कहते आए हैं। भले ही किसी कारण से आज हम कृषि प्रधान मानने में आनाकानी करने लगे हों, लेकिन इस सच को कौन झुठला सकता है कि इस समय भी अपने लोकतांत्रिक देश की आधी से ज़्यादा आबादी अपने गुज़ारे के लिए खेती पर ही निर्भर है। और यही अधिसंख्य जनता ग़रीब है। इतनी ग़रीब कि उसके सामने ज़िंदा रहने का संकट है। लेकिन खेती की हालत अचानक इतनी बदतर कैसे हो गई?

आज़ादी के बाद क्या हुआ?

दो राय नहीं कि आज़ादी के फौरन बाद हमारे सामने सबसे बड़ी चुनौती हमारे गांव और खेती-किसानी की हालत सुधारने की थी। इसकी तस्दीक उस समय के दस्तावेज़ों पर ग़ौर करने से हो जाती है। आज़ादी के समय देश किस हालत में था और हमारे आरंभिक शासकों ने उस बदहाली से निपटने के लिए क्या किया? अगर तब से लेकर आज तक का सफ़र देख लें, तो यह समझने में आसानी हो सकती है कि तब हमने इस चुनौती से कैसे पार पाया और इस समय हमसे अनदेखी कहां हो रही है? तब हमें यह भी पता चल सकता है कि कृषि क्षेत्र की बदहाली मिटाने या कम करने के क्या-क्या उपाय हो सकते हैं।

पीछे पलटकर कैसे देखें खेती को?

तो कितने पीछे से शुरू की जाए? इस क्रम में ग़ुलामी के दौर का इतना जि़क्र ज़रूरी है कि अपने साम्राज्य को बचाए रखने के लिए अंग्रेजों तक ने भारत में कृषि पर लगातार ध्यान दिया, भले ही किसानों का शोषण किया गया हो। सिंचाई के लिए कुछ बांध, प्राचीन और मध्ययुगीन तलाबों-झीलों का रखरखाव और नहरों का निर्माण उस दौर में हुआ। नहरों में गंगा कैनाल, पश्चिमी यमुना कैनाल और पूर्वी यमुना कैनाल जैसे कई उदाहरण हैं। और कृषि उपज और वन उपज को अपनी ज़रूरत के मुताबिक़ बंदरगाहों तक लेकर जाने के लिए अंग्रेज़ों का रेल तंत्र बनना इस बात का दूसरा उदाहरण है। खैर, आज़ादी के पहले क्या हालत थी, आज इसकी ज़्यादा चर्चा उतने काम की नहीं है। लेकिन आज़ादी के बाद हमने क्या-क्या किया यह ज़रूर काम का हो सकता है। लेकिन इस पर नज़र डालने में दिक़्क़त ये है कि कृषि नियमन के सत्तर साल को एक नज़र में कैसे देखें? तो अपनी आसानी के लिए पांच-पांच साल के हिसाब से कृषि नियमन पर नज़र डाली जा सकती है। इस काम के लिए हमारे लिए सुविधा यह है कि आज़ादी के फौरन बाद ही हमने अपने देश के कामकाज को सुचारू रूप से चलाने के लिए पंचवर्षीय योजनाएं बनाने का काम शुरू कर दिया था।

फ़ोटो साभार : ओरिजिन्स

पहली पंचवर्षीय योजना का दौर

सन् 1947 में देश आज़ाद हुआ। संविधान बनाने और उसे लागू करने के अतिमानवीय काम में ढाई साल लगे। आगे के काम का नक्शा बना। देश की कुल आमदनी और ख़र्च का हिसाब समझने में वक़्त लगा। जब स्वतंत्र भारत का पहला बजट (15 अगस्त 1947 से लेकर 31 मार्च 1948 तक का) बना तो उससे हमें अपनी सीमाओं का भान हो चुका था। इसकी उल्लेखनीय और काफी रोचक बात यह थी कि देश में सभी करों और दूसरी आमदनियों को मिलाकर सिर्फ 171 करोड़ रुपए की आमदनी का अनुमान लगा। बहरहाल, बाद में संविधान भी बनकर तैयार हुआ और 26 जनवरी 1950 को लागू हो गया। इसके बाद गणतांत्रिक भारत का पहला बजट पेश हुआ और इसी बजट में योजना आयोग का खाका पेश हुआ। आखिरकार सन् 1951 में भारत सरकार ने पंचवर्षीय योजनाओं की शुरुआत की। और यहीं से हम देख सकते हैं कि देश में कृषि क्षेत्र के लिए नियोजन और उस पर अमल शुरू हुआ।

पहली पंचवर्षीय योजना में खेती के लिए क्या?

आज़ादी मिलते समय देश कई मोर्चों पर जूझ रहा था। दूसरे विश्वयुद्ध में भारी तबाही और देश के विभाजन की दुश्वारियों के बाद अनाज की कमी ने सबसे बड़ा संकट खड़ा कर दिया था। बंटवारे की वजह से पंजाब में गेहूं और बंगाल में चावल की काफी उपजाउ ज़मीन पाकिस्तान के हिस्से में चली गई। आज कोई भी समझ सकता है कि स्वतंत्र भारत के नीति-निर्माताओं के सामने सबसे पहला काम पर्याप्त खाद्य सामग्री की व्यवस्था करना रहा होगा। इस बात की तस्दीक इस तथ्य से हो जाती है कि पहली पंचवर्षीय योजना में सरकार ने ज़्यादा ज़ोर कृषि पर लगाया। विश्व में जहां औद्योगीकरण पर ज़ोर था, वहां नए आजाद देश में देश की आमदनी का 31 फीसद खर्च खेती-किसानी पर करने के फैसले ने दुनिया को हैरत में डाल दिया।

पांच साल की योजना में पब्लिक सेक्टर के लिए आवंटन के 1,960 करोड़ रूपए में से 601 करोड़ रूपए कृषि और सिंचाई के लिए रखे गए। इस सरकारी निवेश की बदौलत उत्पादन के लक्ष्य तय किए गए। कृषि क्षेत्र में संस्थागत उपाय किए गए। तकनीकी उन्नयन पर ज़ोर दिया गया। वह प्रचार का युग नहीं था, पूरा ज़ोर योजना के अमल पर लगा। असर यह हुआ कि ज्यादातर फ़सलों का उत्पादन निर्धारित लक्ष्य को भी पार कर गया। अनाज का उत्पादन पांच करोड 40 लाख टन से बढ़कर छह करोड़ 58 लाख टन पहुंच गया। सिर्फ़ गन्ना और कपास की फ़सलें ही कुछ कमज़ोर रहीं। कुल मिलाकर पहली पंचवर्षीय योजना की क़ामयाबी से आज़ाद भारत में कृषि को लेकर काफी सकारात्मक स्थितियां बनीं।

फ़ोटो साभार : इंक्लूज़न

पहली योजना में सिंचाई पर ज़ोर

पहली योजना के तहत ही 25 लाख एकड़ ज़मीन रीक्लेम की गई और इसे खेती के तहत लाया गया। 1954-55 तक कुल जोत को 32 करोड़ 60 लाख एकड़ से बढ़ाकर 35 करोड़ 20 लाख एकड़ कर लिया गया। यह वही योजना थी, जिसमें एक करोड़ 40 लाख एकड़ ज़मीन तक सिंचाई की सुविधा पहुंचाई गई। इस सुविधा से बिहार, उप्र, पश्चिम बंगाल, पंजाब, असम, बॉम्बे, मद्रास और मैसूर जैसे प्रांतों को उल्लेखनीय फ़ायदा पहुंचा। पहली योजना में ही बांधों और नहरों को बनाने का काम शुरू हो गया था। इसी दौरान भारत में चावल की खेती के लिए जापानी तकनीक को बड़े स्तर पर बढ़ावा दिया गया। देश के 40 फ़ीसदी गांवों को कम्युनिटी डेवलपमेंट प्रोग्राम और नेशनल एक्सटेंशन प्रोग्राम के दायरे में लाया गया। ऐसी कोशिशों का नतीजा यह हुआ कि कृषि उत्पादन के नतीजे उम्मीद से बहुत ज्यादा अच्छे हो गए। खाद्य उत्पादन में भारत की स्थिति पहले से बहुत सुधर गई।

बहरहाल, लक्ष्य से बहुत ज़्यादा कृषि उत्पादन की वजह से खाद्य सामग्री के दाम क़ाबू में आ गए। यानी महंगाई का सूचकांक भी नीचे आ गया। आयात पर निर्भरता बहुत कम हो गई। सन् 1950 में जहां हम 47 लाख टन अनाज विदेशों से ख़रीद रहे थे, वह निर्भरता इन पांच साल में घटकर 10 लाख टन से कम रह गई। इससे सबसे बड़ी मदद अर्थव्यवस्था को स्थिरता देने में मिली। पहली पंचवर्षीय योजना ही थी कि कृषि उत्पादन के कारण देश की अर्थव्यवस्था तेजी से बढ़ी। जहां पहली योजना में पब्लिक सेक्टर मद का आकार सिर्फ़ 1960 करोड़ था, वह अगली योजना में बढ़कर 4800 करोड़ रुपए किया जा पाना पहली योजना की क़ामयाबी का ही कमाल था। इसीलिए आजतक भी पहली पंचवर्षीय योजना को इतिहास में बहुत महत्त्वपूर्ण माना जाता है। अगली योजनाओं पर जब ग़ौर करेंगे तो यह पाएंगे कि पहली पंचवर्षीय योजना ने आगे आने वाली योजनाओं की रूपरेखा और विकास दर के लक्ष्य तय करने की नींव रख दी थी।

लोकप्रिय

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान आंदोलनों के बीच फसलों की एमएसपी में इजाफा

कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. विपक्ष संसद से पारित हो चुके इन विधेयकों को किसान...

कृषि कानूनों के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद 

कृषि से जुड़े तीनों विधेयक भले ही संसद से पारित हो गए हों लेकिन किसानों ने इनके खिलाफ आंदोलनों को और तेज...

क्या एमएसपी के ताबूत में आखिरी कील साबित होंगे नए कृषि विधेयक

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने जिस अफरा-तफरी में तीनों कृषि अध्यादेशों लाई, इन्हें विधेयक के रूप में संसद...

Related Articles

पाम ऑयल मिशन को लेकर नॉर्थ-ईस्ट में उपजी आशंकाएं

“हमसे कोई सलाह-मशविरा नहीं लिया गया। नॉर्थ ईस्ट में पाम ऑयल मिशन ठीक नहीं है क्योंकि मेघालय में हम आदिवासियों का जीवन...

आखिर कितना असरदार है छत्तीसगढ़ सरकार का मंडी संशोधन विधेयक

माना जा रहा था कि जैसे पंजाब सरकार ने तीन कानून के असर को निष्क्रिय करने के लिए अपने खुद के नए...

कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग से किसे फायदा?

कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग यानी ठेका खेती, मोदी सरकार ने हाल ही में मूल्य आश्वासन और कृषि सेवाओं पर किसान (सशक्तिकरण और संरक्षण) समझौते-2020...