Latest News

महाराष्ट्र में क्यों गिर रहे प्याज और टमाटर के दाम?


महाराष्ट्र में प्याज और टमाटर जैसी सब्जियों की कीमत में गिरावट जारी है। इससे किसानों के लिए लागत निकालना मुश्किल हो गया है। प्याज का दाम गिरने की वजह आवक में इजाफा माना जा रहा है। दरअसल अक्टूबर में नई फसल आने से पहले किसान अपनी पुरानी फसल निपटाने में लगे हैं। इसके साथ कर्नाटक और आंध्रप्रदेश से प्याज की नई फसल भी आने लगी है।

महाराष्ट्र के टमाटर किसानों को भी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। बीते साल अगस्त में 20 किलोग्राम टमाटर की कीमत 900 से 1000 रुपये थी, लेकिन अब यह घटकर 400 रुपये हो गई है। इसके लिए निर्यात घटने को जिम्मेदार माना जा रहा है। पाकिस्तान और बांग्लादेश के अलावा भारत से ओमान, दुबई, मलेशिया और कतर को भी टमाटर का निर्यात होता है। पाकिस्तान को सालाना 50 हजार टन और बांग्लादेश को 35,000 टन टमाटर का निर्यात किया जाता है। लेकिन पाकिस्तान से संबंध बिगड़ने से निर्यात ठप हो गया है। वहीं, बांग्लादेश ने भारतीय कृषि उत्पादों पर 48 फीसदी आयात शुल्क लगा दिया है। इससे निर्यात में कमी आ गई है।

एक तरफ टमाटर की कीमतें गिर रही हैं, दूसरी तरफ इसकी खेती का रकबा बढ़ रहा है। अकेले नासिक के आसपास के इलाकों में टमाटर की खेती इस बार 20 फीसदी बढ़ गई है। इससे दाम में और गिरावट आने की आशंका है। इसे देखते हुए नासिक स्थित लासलगांव कृषि मंडी समिति के अध्यक्ष जयदत्त होलकर ने कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु को खत लिखा है और व्यापार के लिए सीमाओं को खुलवाने का अनुरोध किया है।