Latest News

तमिलनाडु : कीमतों में उतार-चढ़ाव से परेशान किसान

फोटो स्रोत- द हिंदू

सब्जियों और मसालों की कीमतों में अस्थिरता से तामिलनाडु के किसान खासे परेशान हैं। अच्छी बारिश के अनुमान के बावजूद वे खेती का रकबा बढ़ाने के बारे में असमंजस की स्थिति में हैं। किसानों का कहना है कि अगर टमाटर, मिर्ची जैसी सब्जियों के साथ हल्दी की कीमतें गिरती रहीं तो बंपर उत्पादन भी उन्हें नहीं बचा पाएगा। इस साल राज्य के कुछ जिलों में 1,000 मिमी बारिश होने का अनुमान है। इससे जलस्तर में सुधार आएगा, जिससे हल्दी की अच्छी उपज होना तय है। लेकिन किसान इसकी कीमतों को लेकर डरे हुए हैं। अभी कोयंबटूर, तिरुपुर और इरोड में हल्दी की कीमत 8000 रुपये प्रति टन चल रही है, जिसे किसान नाकाफी बता रहे हैं। इरोड के किसानों को इस बार ज्यादा आपूर्ति होने की चिंता सता रही है, क्योंकि बीते साल अच्छी कीमत ना मिलने से किसानों ने अपनी फसल नहीं बेची थी।

उधर, सब्जियों की खेती करने वाले किसान भी कीमतों में उतार-चढ़ाव से परेशान हैं। पिछले हफ्ते हरी मिर्च की कीमत 15 रुपये प्रति किलो थी, जो इस हफ्ते घट कर 7 रुपये प्रति किलो रह गई। ऐसे में पिछले हफ्ते हरी मिर्च बेचना किसानों के लिए जितना फायदे का सौदा था, इस हफ्ते उतना ही घाटा लग रहा है। यही नहीं, टमाटर की खेती करने वाले किसान भी निराश हैं। उन्हें इस बार अच्छी कीमत नहीं मिल रही है। किसानों को टमाटर की उपज बढ़ने के साथ दाम गिरने की आशंका सता रही है।